ख़बरें

इंसानियत ही इबादत है: हिन्दुओं और मुस्लिमों ने पुलवामा में 80-वर्ष पुराने मंदिर को पुनर्स्थापित करने के लिए हाथ मिलाया

तर्कसंगत

Image Credits: News18

March 11, 2019

SHARES

कायरतापूर्ण पुलवामा हमले के लगभग तीन सप्ताह बाद, जिसमें 40 से अधिक सीआरपीएफ जवान शहीद हो गए, जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में मुस्लिम और पंडितों ने अचान गांव में 80 साल पुराने मंदिर को पुनर्स्थापित करने के लिए एक साथ आगे आये. यह हमला जिस इलाके में हुआ था, वहां से ये गाँव 12 किलोमीटर दूर है.



नेक कार्य

यह सद्भावना का काम उन सभी नफरत फैलाने वालों के लिए शांति और भाईचारे की मिसाल के रूप में खड़ा है, जिन्होंने पुलवामा हमले का इस्तेमाल भारत में मुसलमानों के खिलाफ नफरत पैदा करने के अवसर के रूप में किया है. कथित तौर पर, मंदिर, जो एक स्थानीय मस्जिद से सटा हुआ है, 1990 के दशक से उपयोग में नहीं आया है जब कश्मीरी हिन्दुओं को वहां से निकल दिया गया था.

NDTV के अनुसार, हमले और उसके तनाव के बाद मरम्मत का काम रोक दिया गया था. हालांकि, महाशिवरात्रि के अवसर पर, मंदिर में काम पूरे जोरों पर शुरू हो गया. मुसलमानों ने मंदिर में सभी को पारंपरिक कश्मीरी कहवा चाय परोसी, स्थानीय लोगों ने यहाँ तक कहा कि वे मंदिर की घंटियाँ अजान के साथ सुनना पसंद करेंगे.

मोहम्मद यूनिस, स्थानिक निवासी ने एनडीटीवी से कहा, “हमारी हार्दिक इच्छा है कि वही पुराना समय लौट आए जो 30 साल पहले यहां हुआ करता था जब एक तरफ मंदिर की घंटी बजती थी और मस्जिद से अज़ान की आवाज दूसरी तरफ से आती थी.”

News18 ने बताया कि जो मंदिर छह नहर के परिसर में है, उसका नवीनीकरण किया जा रहा है. मंदिर के अंदर भी एक मूर्ति रखी जाएगी. भूषण लाल, जो स्थानीय मुस्लिम औकाफ ट्रस्ट के साथ कामों की देखरेख कर रहे हैं, ने कहा कि स्थानीय लोग गौरव के दिनों को वापस लाने की कोशिश कर रहे हैं जब सैकड़ों लोग मंदिर में भजन सुनने के लिए जाएंगे. उन्होंने कहा कि 80 साल पुराने मंदिर का जीर्णोद्धार कार्य पूरा हो जाने के बाद, वे पड़ोस के लोगों को प्रार्थना आयोजित करने के लिए आमंत्रित करेंगे.



मरम्मत का काम जारी है

ग्रामीणों ने बताया कि पंडित परिवार द्वारा मदद के लिए मस्जिद औकाफ समिति से संपर्क करने के बाद जीर्ण मंदिर का जीर्णोद्धार कार्य शुरू हो गया था. लाल ने कहा कि उनके मुस्लिम भाई उनकी मदद कर रहे हैं क्योंकि वे मंदिर का सम्मान करते हैं. मोहम्मद मकबूल, जो मंदिर के जीर्णोद्धार का काम देख रहे हैं, ने कहा है, “इस मंदिर को बहाल करने का हमारा प्रयास है क्योंकि हमारे पंडित भाइयों को यह नहीं लगना चाहिए कि उनका मंदिर अधूरा है.” कथित तौर पर, स्थानीय मुस्लिम चाहते थे कि पंडित परिवार सोमवार, 4 मार्च को, शिवरात्रि के शुभ अवसर पर मंदिर में पूजा करें. लेकिन खराब मौसम और भारत-पाक तनाव को देखते हुए तारीख में देरी करनी पड़ी.

औकाफ के अध्यक्ष नजीर मीर, जिन्होंने पहले गांव के समग्र विकास के बारे में  प्रशासन को लिखा था, ने कहा था कि मंदिर की मरम्मत के लिए लगभग 4 लाख रुपये अलग रखे गए थे. “हम आशा करते हैं कि गाँव दूसरों के लिए अनुसरण करने के लिए एक उदाहरण बन जाएगा. कश्मीरी समय की नजाकत के बावजूद आखिरकार जीत हासिल करेंगे.”

पुलवामा हमले के बाद, पूरे देश में हिंदुओं द्वारा कश्मीरी मुसलमानों पर हमला करने की खबरें सुर्खियां बन रही थीं. उत्पीड़न से लेकर, शारीरिक हिंसा के डर ने उनमें से कई को अपने-अपने स्थानों से भागने के लिए मजबूर किया और सोशल मीडिया ने केवल आग में घी का काम किया. हालांकि, इस तरह की कोशिशों के बीच, कश्मीर से सांप्रदायिक सद्भाव की हार्दिक कहानियां शायद मानवता और मनुष्यों की क्षमता में हमारे विश्वास को पुनर्स्थापित करती हैं.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...