ख़बरें

पुणे: कड़ी सुरक्षा जांच के बाद, 40 से अधिक पाकिस्तानी नागरिकों को भारतीय नागरिकता दी गई

तर्कसंगत

Image Credits: Sanjevani

March 13, 2019

SHARES

पिछले हफ्ते भारत सरकार द्वारा, 45 से अधिक पाकिस्तानी नागरिकों को पुणे में भारतीय नागरिकता प्रदान की गई. पिछले सप्ताह कड़ी सुरक्षा जांच करने के बाद सभी 45 आवेदनों को मंजूरी दी गई.

ये सारे लोग पाकिस्तान में उत्पीड़न और अत्याचार की आशंका से बहुत पहले ही भारत आ गए थे. पुणे जिला कलेक्टर नवल किशोर राम ने मीडिया से कहा, “इनमें से अधिकांश आवेदन पाकिस्तान के नागरिकों के थे, जबकि एक या दो आवेदन अफगानिस्तान और बांग्लादेश के नागरिकों के थे, जिन्हें भारतीय नागरिकता दी गई है.”

 

आवेदकों को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा

उन आवेदकों में से एक, रजनी हैं  जिन्हें भारतीय नागरिकता प्रदान की गई. उनके और उनके पति को पाकिस्तान छोड़ने के बाद कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा. उन्होनें कहा “मेरे पति ऑटोमोबाइल सेक्टर में एक ठेकेदार के रूप में काम करते हैं. पाकिस्तान से भारत शिफ्ट होने के बाद उन्हें काफी समस्याओं का सामना करना पड़ा. “हम बहुत संघर्ष के बाद ही अपना जीवन यापन करने में सफल रहे. इन सभी वर्षों में, हमने अपनी पाकिस्तान राष्ट्रीयता के बारे में बात करने से परहेज किया अब, चीजें आसान होंगी” रजनी ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया.

रजनी कहती हैं कि अगर आज उनकी मां जीवित होतीं, तो काफी खुश होती कि उनकी बेटी को भारतीय नागरिकता  मिल गई है.

पाकिस्तान में जीवन के बारे में बात करते हुए, भारतीय नागरिकता पाने वाले एक अन्य प्रवासी जयकेश नेभवानी कहते हैं कि उनके परिवार को पाकिस्तान में बहुत परेशानी का सामना करना पड़ा और फिर भारतीय राष्ट्रीयता प्राप्त करने के लिए भी संघर्ष किया, मगर अब उन्हें राहत है.

भारतीय नागरिकता पाने के लिए 20 साल तक इंतजार करने वाले लाज विरवानी कहती हैं, ” हम यहां शादी में शामिल होने आए थे और मैंने अपने पति से कहा कि हमें यहीं रहना चाहिए. वहाँ (पाकिस्तान) हम अपहरणों आदि के कारण अपने घरों के बाहर कदम रखने से भी डरते थे. ”

पुणे के जिला कलेक्ट्रेट को पाकिस्तानी नागरिकों से भारतीय नागरिकता प्राप्त करने के लिए लगभग 165 आवेदन मिले थे, 70 पर कार्रवाई की गई और 45 दस्तावेजों के सत्यापन के बाद नागरिकता के लिए मंजूरी दे दी गई.

पुणे उन कुछ जिला प्रशासन में से एक है जिन्हें पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के गैर-मुस्लिम नागरिकों को भारतीय नागरिकता देने का अधिकार प्राप्त है. यह आवेदन केवल अल्पसंख्यक समुदाय के लिए लागू है जिसमें शामिल हैं: बौद्ध, ईसाई, हिंदू, जैन, सिख और पारसी जो अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश में रह रहे हैं.

पिछले साल अगस्त में, जयपुर में जिला प्राधिकरण द्वारा लगभग 37 पाकिस्तानी नागरिकों को भारतीय नागरिकता प्रदान की गई थी.

 

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...