सचेत

जानिये एक हवाई यात्री के रूप में क्या हैं आपके अधिकार

तर्कसंगत

March 15, 2019

SHARES

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने हाल ही में हवाई यात्रियों के लिए ‘यात्री चार्टर’ जारी किया है जो फ्लाइट का समय बदलना या फ्लाइट का रद्द होना और अन्य मामले में यात्री के अधिकारों को बताता है.

 

अगर फ्लाइट में देरी हो

चार्टर में उड़ान में देरी के तीन संभावनाओं को जोड़ा गया है. जिसमें पहली है जब यात्री द्वारा चेक-इन करने के बाद देरी होती है. इस मामले में, एयरलाइन खुद उतने समय में मुफ्त भोजन और जलपान की व्यवस्था कराती है. दूसरा है जब फ्लाइट 6 घंटे से अधिक लेट हो. इस मामले में यात्री को उसके अधिकार के अंतर्गत एयरलाइन को फ्लाइट के निर्धारित समय पर जाने से 24 घंटे पहले बताना होता है और 6 घंटे के भीतर दूसरी फ्लाइट की व्यवस्था करानी होती है. यदि एक दूसरी फ्लाइट की व्यवस्था नहीं की जा सकती है तो यात्री को पूरा किराया वापस किया जायेगा. तीसरा मामला तब है जब 8pm और 3am के बीच निर्धारित उड़ानों के लिए देरी 24 घंटे से अधिक या 6 घंटे से अधिक है. इस मामले में यात्री को मुफ्त होटल दिया जायेगा.

 

अगर फ्लाइट रद्द हो जाये

फ्लाइट रद्द होने पर चार्टर दो अलग-अलग पहलू दर्शाता है. पहला है एक यात्री के लिए मुआवजा और दूसरा पूरा किराया वापसी. सीधे तौर पर यह कहा जा सकता है कि अगर यात्री को दो सप्ताह के अंदर लेकिन प्रस्थान से 24 घंटे पहले तक बताया जाता है, तो एयरलाइन को दूसरी फ्लाइट की व्यवस्था करनी होगी वरना पूरा किराया वापस करना होगा. यदि यात्री को इन प्रावधानों के अनुसार सूचित नहीं किया जाता है तो एयरलाइन को मिस्ड कनेक्टिंग फ्लाइट की स्थिति में मुआवजा देना होगा.

 

ओवर-बुकिंग के मामले में

जब एक पर समय उड़ान के लिए यात्रियों की संख्या सीटों की संख्या से अधिक होती है तो इसे ओवर-बुकिंग कहा जाता है. ऐसी स्थिति में एयरलाइंस को पहले अपनी इच्छा से यात्रियों से यह पूछना चाहिए कि क्या वे एयरलाइंस द्वारा दिये गये लाभों के बदले में अपनी सीट छोड़ेंगे. यदि नहीं तो यात्रियों के अधिकार चार्टर में दो अलग-अलग पक्षों के शामिल किया गया है.

पहला है एक घंटे के अंदर दूसरी फ्लाइट की व्यवस्था करना या फिर अगर एयरलाइन फ्लाइट मुहैया नहीं कराती है तो दूसरा विकल्प है मुआवजा.

 

अगर यात्री टिकट रद्द करे

चार्टर में यह भी स्पष्ट बताया गया है कि यदि यात्री टिकट रद्द करता है तो एयरलाइन यह स्पष्ट रूप से बताये कि कितना किराया वापस किया जायेगा. किसी भी स्थिति में जब एक टिकट रद्द किया जाता है तो एयरलाइन को सभी करों, विकास शुल्क, हवाई अड्डा विकास शुल्क, यात्री सेवा शुल्क इत्यादि वापस करना होगा. यह सभी परिस्थितियों में लागू होगा चाहे प्रोमो के दौरान टिकट मिला हो या या विशेष छूट के साथ टिकट मिला हो या टिकट का मूल किराया गैर-वापसी हो, किराया वापस होना चाहिये.

 

24 घंटे के भीतर नो-चार्ज

चार्टर यह भी स्पष्ट करता है कि यात्री को टिकट बुक करने के 24 घंटे के भीतर बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के टिकट को रद्द या संशोधित करने का अधिकार है.

 

विकलांग यात्रियों के अधिकार

चार्टर विकलांग यात्रियों के अधिकारों को भी दर्शाता है. विकलांग यात्रियों को प्रस्थान से 48 घंटे पहले एयरलाइंस अपनी आवश्यकताओं के बारे में सूचित करेगा. कोई भी एयरलाइन यात्री के साथ किसी एस्कॉर्ट या सहयात्री को ले जाने से मना नहीं कर सकता है. यदि विकलांगता के कारण यात्री को बोर्डिंग से वंचित किया जाता है तो एयरलाइंस को लिखित में कारण बताना होगा.

 

बैगेज के नुकसान के मामले में

चार्टर यह भी बताता है कि सामान के नुकसान, देरी या क्षति के मामले में एयरलाइन अंतर्राष्ट्रीय फ्लाइट में 1131 एसडीआर, लगभग 1570 अमरीकी डालर और राष्ट्रीय फ्लाइट में 20,000 रुपये प्रति यात्री देने के लिये बाध्य है.

चार्टर में यह भी उल्लेख किया गया है कि सभी हवाई अड्डे मुफ्त वाई-फाई प्रदान करेंगे.

 

शिकायतों के बारे में

यदि यात्री एयरलाइन द्वारा दी गयी सुविधाओं से संतुष्ट नहीं है, तो वह एयर सेवा पोर्टल पर शिकायत दर्ज करा सकता है.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...