सचेत

आरटीआई: ‘बुक माय शो’ को आपसे इंटरनेट हैंडलिंग फीस लेने का कोई अधिकार नहीं

तर्कसंगत

Image Credits: JDMagicbox

March 15, 2019

SHARES

इस वीकेंड आपको अपने मोबाइल ऐप या वेबसाइट के माध्यम से ऑनलाइन मूवी टिकट बुक करते समय एक्स्ट्रा पैसे नहीं देने चाहिए, यह कहना है भारतीय रिजर्व बैंक की जिसने एक आरटीआई के जवाब में ये स्पष्ट किया है. ‘फोरम अगेंस्ट करप्शन’ के अध्यक्ष विजय गोपाल ने आरटीआई क्वेरी कर के BookMyShow, PVR और सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के खिलाफ हैदराबाद में कंज़्यूमर कोर्ट का रुख किया है. इस मामले की सुनवाई 23 मार्च को होनी है.

 

इंटरनेट हैंडलिंग चार्ज पर कानून क्या कहता है?

यदि आप ऑनलाइन टिकट बुक करते समय अतिरिक्त इंटरनेट हैंडलिंग फीस’ का भुगतान करने वालों में से एक हैं, तो यह आपके लिए काम की जानकर हो सकती है. आरटीआई क्वेरी में आरबीआई ने हाल ही में कहा था कि ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म जिसके माध्यम से मूवी टिकट बुक किए जाते हैं, वो ग्राहकों से हैंडलिंग शुल्क वसूलने का अधिकार नहीं रखते हैं. जवाब में आगे कहा है कि यह RBI के मर्चेंट डिस्काउंट रेट (MDR) नियमों का उल्लंघन है.

 

 

MDR क्या है?

एमडीआर वह राशि है जो व्यापारी बैंक को देने के लिए बाधित है जब कोई ग्राहक उस व्यापारी से खरीदारी कर पेमेंट क्रेडिट या डेबिट कार्ड के माध्यम से करे. तो इसका मतलब है कि यह व्यापारी है जिसे एमडीआर का भुगतान करना है ग्राहक को नहीं. इसलिए ग्राहकों पर ‘इंटरनेट हैंडलिंग शुल्क’ लगाना एमडीआर विनियमों का उल्लंघन है और इसलिए अवैध है.

तर्कसंगत से बात करते हुए, आरटीआई कार्यकर्ता विजय गोपाल बताते हैं कि अगर कोई पीवीआर सिनेमाघरों में मूवी शो के लिए ऐप के माध्यम से टिकट बुक कर रहा है, तो यह पीवीआर है जो एमडीआर का भुगतान करने वाला है ग्राहक को यह पैसे देने की ज़रूरत नहीं. गोपाल कहते हैं, ‘ग्राहक को केवल सेवाओं के लिए भुगतान करना चाहिए, एमडीआर के लिए नहीं.’ गोपाल ने आरोप लगाया कि BookMyShow लगातार सिनेमाघरों को लाभ प्राप्त करने में मदद कर रहा है.

 

इंटरनेट हैंडलिंग फीस को सही से समझें


जब हमने (तर्कसंगत) ने सिनेपोलिस में बुकमायशो वेबसाइट: ओरियन ईस्ट मॉल, बैंगलोर के माध्यम से टिकट बुक करने की कोशिश की, तो हमने पाया कि एक उपभोक्ता को “इंटरनेट हैंडलिंग शुल्क” के रूप में 31.86 रुपये अतिरिक्त देने होते हैं. इसलिए यदि टिकट की मूल कीमत 236 रुपये है, तो उपभोक्ताओं ने 268.86 रुपये का भुगतान किया है.

यहां इंटरनेट हैंडलिंग फीस का ब्रेक डाउन है

 

 

केवल BookMyShow ही नहीं

इस तरह की गड़बड़ी के बारे बताते हुए गोपाल ने आगे बताया कि, “विभिन्न कैब सर्विस प्रोवाइडर और फ़ूड सर्विस ऐप स्विगी  भी BookMyShow के नक्शेकदम पर चल रहे हैं”. उन्होंने आगे कहा कि हम नागरिकों को एक साथ आना चाहिए और इस तरह के करप्शन के खिलाफ लड़ना चाहिए. गोपाल ने आरबीआई के एमडीआर नियमों के उल्लंघन पर नज़र रखने में विफल रहने के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स मंत्रालय पर भी सवाल उठाया.

उन्होंने कहा, “ऐसा लगता है कि इलेक्ट्रॉनिक्स मंत्रालय इस मुद्दे पर किसी की ओर से आंखें मूंदे हुए है.”



आप क्या कर सकते हैं?

आरटीआई के जवाब में आरबीआई ने कहा कि जो लोग इस तरह की मामलों में आरबीआई द्वारा इंटाइटल व्यापारियों (बुक माय शो,ओला,स्विगी,जोमैटो) के लिए शिकायत करना चाहते हैं, वे https://rbi.org.in/scripts/complaints.aspx पर जाकर ऐसा कर सकते हैं. किसी एक व्यापारी द्वारा उल्लंघन की रिपोर्ट करने के लिए, किसी विशिष्ट बैंक से संपर्क करना होगा जिसकी मशीन द्वारा लेनदेन किया गया था. इसने आगे कहा कि यदि बैंक 30 दिनों के भीतर कार्रवाई करने में विफल रहता है या बैंक की प्रतिक्रिया संतोषजनक नहीं है, तो संबंधित ग्राहक बैंकिंग लोकपाल से संपर्क कर सकता है.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...