सप्रेक

एक जोड़े को शुक्रिया जिनके कारण 500 से ज्यादा अंधे, बहरे, शारीरिक और बौद्धिक रूप से अक्षम व्यक्ति अब कुशल श्रमिक हैं

तर्कसंगत

April 1, 2019

SHARES

आप एक अंधे बच्चे को क्या उपहार देंगे? हममें से ज्यादातर ब्रेल पुस्तकों की अलमारियों के पास, वाद्य यंत्र खरीदते हुए या कस्टम-मेड चलने की छड़ी ढूंढते हुए मिलेंगे. बाकी सभी प्रार्थना और प्रतीक की तरह ही चकित होंगे जैसे ये दंपति थे क्यूंकि इन्हें नेत्रहीन बच्चों के लिए एक कॉर्पोरेट कार्यक्रम में आमंत्रित किया गया था. आखिरकार उन्होंने जो म्यूजिक सिस्टम खरीदा था उसे गिफ्ट-रैप किया और अपनी आंखों से एक स्टीरियोटाइपिकल पैटर्न की ओर देखा.

प्रार्थना जिन्होंने अपने पति प्रतीक के साथ GiftAbled foundation की शुरुआत की, बताती हैं “जब हम किसी विकलांग व्यक्ति के बारे में सुनते हैं, तो हम उन्हें एक इंसान के रूप में मानने के बजाय उसकी विकलांगता के बारे में सोचते हैं.” अब तक उन्होंने 500 से अधिक विकलांग व्यक्तियों को सफलतापूर्वक रोजगार दिया है जिससे एक तरफ़ा अपवादों और कलंक से दूर जागरूकता पैदा हुई है.

 

 

12 साल का परिश्रम: GiftAbled Foundation

कभी आईबीएम में काम करने वाली प्रार्थना ने सामाजिक क्षेत्र की ओर खुद को समर्पित करने के लिए अपनी नौकरी छोड़ दी. पिछले 12 वर्षों से, उन्होंने सौ से अधिक NGO के साथ सक्रिय रूप से काम किया है और जब उन्हें पता चला कि सामाजिक कुरीतियों के कारण विकलांगता को कम से कम प्राथमिकता दी जाती है तो उन्होंने जागरूकता करने का विचार किया.

2 करोड़ से अधिक लोगो पर हुई भारतीय जनगणना के अनुसार, 1% विकलांग लोग ही काम-काज करते हैं. प्रार्थना ने GiftAbled शुरू करने की प्रेरणा के बारे बताया “आप अक्सर एमबीए की डिग्री रखने वाले विकलांग व्यक्ति से मिल सकते हैं जो किसी न किसी संगठन में मात्र कैशियर के रूप में काम करते हैं.”

 

 

GiftAbled Foundation को विशेष रूप से बच्चों को नियमित प्रशिक्षण देने के लिये एक मोबाइल थैरेपी वैन खरीदने के लिए आपकी मदद की जरूरत है.

 

टीम ने गिफ्ट किया

प्रार्थना बताती है “मुझे याद है कि लगभग दस साल पहले, एक दिन मैंने सड़क पर बच्चों के एक समूह को मेरी ओर इशारा करते हुए देखा जो हंसी-खुशी साझा कर रहे थे. जब मैंने उनसे संपर्क किया और पता चला कि वे मुझ पर हंस नहीं रहे थे, बल्कि साइन लैंग्वेज में बात कर रहे थे. मुझे एहसास हुआ कि हम इन बच्चों की दुनिया के बारे में कितना कम जानते हैं और फिर मैंने साइन लैंग्वेज सीखने का फैसला किया.”

 

 

“जब मैंने साइन लैंग्वेज सीखना शुरू किया तो पहला सवाल यही था कि क्या मैं या मेरे परिवार मैं कोई गूंगा है? सच माने इसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती है कि ऐसी जुबान सीखना कितना मुश्किल है. जहाँ सभी विकलांग लोगों के प्रति सहानुभूति और संवेदनाओं पर बहस करते हैं मुझे लगा उनके लिये जमीनी स्तर पर कुछ करना चाहिये और इस तरह 2013 मैं मैंने इस फाउंडेशन की शुरूआत कि जिसका उद्देश्य शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूर लोगो की सहायता करना है.”

 

GiftAbled के कार्यक्रम

GiftAbled को लॉन्च करने से पहले, प्रार्थना और प्रतीक ने विभिन्न संगठनों से मुलाकात की ताकि उनकी रोजमर्रा की समस्या के बारे में बेहतर समझ सके. प्रार्थाना बताती है “हमें एहसास हुआ कि एक बार चिकित्सा इलाज से गुजरने के बाद कोई भी उन्हें किसी भी गतिविधियों में शामिल करने के बारे में नहीं सोच रहा है.”

“हमें एक ऐसी लड़की के बारे में पता चला जो एक भरतनाट्यम किया करती थी और फिर एक कार दुर्घटना में रीढ़ की हड्डी में गंभीर चोट लगने से वो व्हीलचेयर पर आ गयी लेकिन उसके बाद भी वह कॉस्मेटिक ज्वैलरी बनाकर अपना गुजारा चलाने में सफल रही. उसके इसी उत्साह ने हमें विश्वास दिलाया कि उनके जैसे अन्य लोगों को भी काम करने वाली आबादी का हिस्सा बनने के लिए प्रशिक्षित किया जा सकता है.”

 

 

आज GiftAbled विशेष रूप से विकलांग लोगो को व्यावसायिक और कौशल-विकास प्रशिक्षण प्रदान करता है. उनके बनाये गए हस्तशिल्प उत्पादों को कॉर्पोरेट संगठनों और आम जनता के बीच बेचता है.

हम बिना सहानुभूति और संवेदना के, उनके लिये अवसर बनाना चाहते हैं. वे ग्राहकों की मांग पर लकड़ी और जुट का काम करते हैं, लैपटॉप के बैग और स्टैंड्स बनाते हैं. प्रार्थाना ने बताया “मैं ज्योति से मिली जो तो साइन लैंग्वेज का उपयोग करते हुए अपने चित्रों के विषय का बता रही थी मैंने महसूस किया कि उनकी तरह अनदेखी कलाकारों की कहानियों को सुर्खियों में लाने की जरूरत है.”

इसके अलावा, गिफ्टएब्ल्ड विकलांगता क्षेत्र में काम करने वाले लगभग 40 अन्य गैर-लाभकारी संगठनों के साथ काम कर रही है. सदस्यों को कौशल-आधारित प्रशिक्षण प्रदान करती है और अक्सर उनसे तैयार उत्पादों को बाजार में बेचते हैं. हाल ही में, उन्होंने ऑटिस्टिक व्यक्तियों के साथ काम करने वाले एक एनजीओ के साथ सहयोग किया है – जिन्होंने लगभग 300 राखियां हाथ से बनाई हैं. GiftAbled ने सभी प्रकार के विकलांग लोगों के एक आत्म निर्भर बनाने की कल्पना की है.

 

 

गांव के इलाकों में विकलांग बच्चे की माँ को अभिशाप समझा जाता है. GiftAbled ने कोप्पल में ऐसी महिलाओं की मदद की और आज वे खुद का सिलाई, कड़ाई और हस्तशिल्प का काम कर रही हैं.

 

GiftAbled मोटो

GiftAbled का पहला पहलू एक बड़े पैमाने पर विकलांगता के बारे में जागरूकता पैदा करना है. कई मांओं ने अपनी संतान को खो दिया क्यूंकि वे सही समय पर अपने परिवार को प्रसव के बारे में नहीं बता पायी और ये तो बस एक ही किस्सा है. इसीलिए GiftAbled कर्नाटक और आसपास के इलाकों में लगातार जागरूकता फैला रही है.

 

 

विशेषज्ञ डिजाइनरों की मदद से GiftAbled ने दृष्टिबाधित बच्चों पढ़ाई के लिये एक विशेष प्रकार के खिलौनों को बनाया है,जिससे नेत्रहीन बच्चे वास्तव में स्पर्श और महसूस द्वारा अक्षर, चित्र, मानचित्र, मानव शरीर के अंगों आदि को समझ सकें.

इस साल, GiftAbled ने आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के अक्षम बच्चों के लिए टुमकुर में एक मुफ्त चिकित्सा केंद्र शुरू किया है. माताएँ जो नौकरानियों के रूप में काम करती हैं, पिता जो मजदूर के रूप में काम करते हैं, दादाजी जो पोर्टर्स के रूप में काम करते हैं वे अपने बच्चों को केंद्र में लेकर अपने बच्चों का इलाज कराएँगे जिससे वे मुस्कुराएंगे, हँसेंगे और अन्य स्वस्थ बच्चों की तरह चलेंगे भी. गिफ्टएब्लेड ऐसे अधिक परिवारों तक पहुंचने के लिए एक मोबाइल थेरेपी यूनिट शुरू करने की योजना बना रहा है.

 

चुनौतियां

अपने इतने समर्पण और परिश्रम के बावजूद, GiftAbled को अपनी पूंजी की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है. विशेष रूप से अन्य एनजीओ से सामान खरीदते समय, उन्हें अपनी जेब से भुगतान करना पड़ता है, क्योंकि कॉर्पोरेट खरीदार पहले पैसे नहीं देते हैं.

 

 

अपनी अद्भुत पहल का विस्तार करने के लिए एक और प्रमुख रुकावट है एक पेशेवर डिजाइनर, जो कम पैसों में अपना समय देने के लिए तैयार हो. प्रार्थना बताती हैं ” हम अभी भी हमारे साथ जुड़ने और हमारे उत्पादन में सुधार करने के लिए हमारा साथ देने के लिए किसी का इंतजार कर रहे हैं”

 

हमारे पाठकों के लिए संदेश

प्रेरणा हमारे पाठकों से आग्रह करती हैं “किसी दया या सामाजिक दायित्व से नहीं, बल्कि किसी भी सामान्य व्यक्ति की तरह उनके कौशल और गुणवत्ता पर विचार करते हुये हम विकलांग व्यक्तियों के लिए आजीविका का समर्थन करने का आग्रह करते हैं.”

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...