ख़बरें

[वीडियो] भारत के पास Wg Cdr अभिनंदन द्वारा पाक के F-16 को गिराने के पक्के सबूत हैं.

तर्कसंगत

Image Credits: NDTV/NDTV

April 10, 2019

SHARES

भारतीय वायु सेना (IAF) ने 27 फरवरी, 2019 को एक पाकिस्तानी जेट को गिराने वाले “पक्के सबूत” पेश किये हैं जिसमें एक पाकिस्तानी F-16 फाइटर जेट और विंग कमांडर अभिनंदन के बीच हवाई लड़ाई की रडार वाली फोटो दिखाई है.

अमेरिकी समाचार प्रकाशन ने पिछले सप्ताह भारत के दावों का खंडन किया था. अमेरिकी रक्षा अधिकारियों ने बताया “इस्लामाबाद के F-16 की गिनती की गई थी जिसमें से कोई भी F-16 लापता नहीं था.”

 

भारतीय वायु सेना के पक्के सबूत

Air Vice Marshal and Assistant Chief of Air Staff (Operations and Space) आर.जी.वी. कपूर ने बताया “IAF के पास न केवल इस बात के प्रमाण हैं कि Pakistan Air Force (PAF) ने 27 फरवरी को F-16 का उपयोग किया था बल्कि यह भी प्रमाण है कि एक IAF, MIG-21 Bison ने PAF, F-16 को भी मार गिराया था.”

 

भारतीय वायुसेना के अनुसार “27 फरवरी, 2019 को अभिनंदन वर्धमान की पाकिस्तानी लड़ाकू जेट के साथ हवाई लड़ाई हुई, जो भारतीय सैन्य सुविधाओं को निशाना बनाने की कोशिश कर रहा था. उन्होंने पहले अपने जेट से F-16 को हिट किया और उसे मारकर खुद अपने जेट से कूद गये. जिसके एक दिन पहले भारतीय फाइटर जेट्स ने पाकिस्तान के बालाकोट में एक आतंकी प्रशिक्षण शिविर पर हमला किया था.”

इस घटना के बाद, अभिनंदन को पाकिस्तानी सेना ने पकड़ लिया और भारत लौटने से पहले तीन दिनों तक पाकिस्तान में रखा गया था.

8 अप्रैल को, IAF ने दावा किया कि पाकिस्तान की कई AMRAAM मिसाइलों को गिराया गया था. रडार की फोटो का हवाला देते हुये, Air Vice Marshal ने बताया “एक हवाई युद्ध में विंग कमांडर अभिनंदन ने IAF के एक MIG -21 Bison से PAF के एक F-16 को हिट किया जिससे F-16 दुर्घटनाग्रस्त हो गया और नियंत्रण रेखा (LOC) के दूसरी ओर (POK) गिरा.”

NDTV के अनुसार, IAF के अधिकारीयों ने बताया “दो पैराशूटों गिरते हुये देखा गया था और रेडियो संचार माध्यमों से इसकी पुष्टि की थी. कैमरे पर पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान ने “एक से अधिक पायलट” होने का संकेत दिया था. ये साबित हुआ है कि उस दिन उस क्षेत्र में, दो विमान नीचे गिरे थे जो लगभग 1 से 1.30 मिनट में अलग हो गये थे.”

IAF अधिकारी ने बताया “सेना के पास अधिक विश्वसनीय जानकारी और सबूत हैं जो स्पष्ट रूप से इस बात का संकेत हैं कि PAF ने 27 फरवरी को हवाई कार्रवाई में एक F-16 खो दिया है. हालांकि सुरक्षा और गोपनीयता के कारण सार्वजनिक रूप से विवरण साझा नहीं कर सकते हैं.”

 

संयुक्त राज्य अमेरिका ने क्या कहा

फॉरेन पॉलिसी  पत्रिका ने बताया कि पाकिस्तान ने घटना के बाद, अपने F-16 विमानों को गिनने के लिये संयुक्त राज्य अमेरिका को आमंत्रित किया था. एक हस्ताक्षर के साथ विदेशी सैन्य वार्तालाप को अंतिम रूप दिया गया था. पत्रिका की लारा सेलिगमैन ने बताया “पाकिस्तान के F-16 की एक अमेरिकी गणना में पाया गया है कि सभी जेट मौजूद हैं. जोकि भारत के F-16 को मार गिराने वाले दावे के विपरीत है.”

फॉरेन पॉलिसी पत्रिका की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान ने दो अज्ञात वरिष्ठ रक्षा अधिकारियों को जांच के लिए बुलाया था. इसमें बताया गया कि जांच में भारतीय वायु सेना के अधिकारियों की बात का खंडन किया गया है जिन्होंने कहा कि पाकिस्तान के F-16 को विंग कमांडर अभिनंदन ने अपने MIG-21 से, पाकिस्तानी द्वारा मिसाइल मारे जाने से पहले गिरा दिया था.

अमेरिकी रक्षा विभाग के प्रवक्ता ने बताया “इस तरह की किसी भी जांच के बारे में नहीं जानते थे.” राज्य विभाग ने हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुये बताया “अमेरिका-मूल रक्षा की नीति के अनुसार, सरकार से सरकार के समझौतों के विवरण के बारे में सार्वजनिक रूप से टिप्पणी नहीं कर सकते है. संयुक्त राज्य अमेरिका सरकार ने जनवरी 2018 से पाकिस्तान को किसी भी सुरक्षा सहायता को निलंबित कर दिया है.”

 

भारतीय वायु सेना ने क्या कहा

भारतीय वायु सेना के अधिकारियों ने अमेरिकी पत्रिका ’फॉरेन पॉलिसी’ द्वारा किये गये दावों को दोहराते हुये कहा कि IAF के MIG-21 Bison ने 27 फरवरी हवाई युद्ध के दौरान नौशेरा सेक्टर में पाकिस्तान के F-16 को मार गिराया था. DNA India के अनुसार, IAF के अधिकारियों ने कहा कि F-16 को मार गिराने के, उनके पास पुख्ता और परिस्थितिजन्य साक्ष्य हैं जिसमें एयरबोर्न चेतावनी और नियंत्रण प्रणाली (AWACS) से वायरलेस इंटरसेप्ट, सिग्नल और ग्राफिक कैप्चर शामिल हैं.”

Air Vice Marshal आर.जी.वी. कपूर ने बताया “भारतीय बलों ने 27 फरवरी को दो अलग-अलग स्थानों पर विमान से कूदने की पुष्टि की हैं जोकि 8-10 किमी दूर अलग-अलग स्थानों पर थी. एक IAF का MIG-21 Bison था और दूसरा एक PAF विमान था. भारत के इलेक्ट्रॉनिक हस्ताक्षर से पता चला कि PAF विमान F-16 था.”

भारतीय वायुसेना के अनुसार, पाकिस्तान वायुसेना ने 27 फरवरी को हमले का प्रयास किया था जिसमें PAF की बड़ी ताकत F-16, JF-17 और Mirage-III/V शामिल थी जिसे IAF रडार ने पहचाना और Su30-MKI, Mirage-2000 और MIG-21 Bison ने काउंटर अटैक किया. इस हवाई लड़ाई में विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान, जो MIG-21 उड़ा रहे थे, ने PAF के F-16 को मार गिराया था . साथ ही MIG-21 के हिट होने के बाद अचानक F-16 से इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल समाप्त हो गये थे और F-16 दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. DNA India की रिपोर्ट के अनुसार, 28 फरवरी को IAF ने भी PAF के F-16 द्वारा दागे गये AMRAAM (उन्नत मध्यम दूरी की हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल) के टुकड़े पेश किये, क्योंकि कोई भी अन्य PAF विमान इन मिसाइलों को फायर नहीं कर सकता है.

 

पाकिस्तान ने क्या कहा

रडार फोटो के जारी होने के कुछ घंटों बाद, पाकिस्तानी सेना ने सोमवार, 8 अप्रैल को दावा किया कि भारत इस बात का कोई सबूत देने में नाकाम रहा है कि पाकिस्तानी फाइटर जेट को मार गिराया गया था.

पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने एक ट्वीट में लिखा “बार बार झूठ बोलने से झूठ सच नहीं बन जाता. F16 को मारने के सबूत देने में IAF अभी भी नाकम रही है. भारतीय पक्ष, पाकिस्तान की चुप्पी को नजरअंदाज न करें. तथ्य यह है कि PAF ने IAF के दो विमानों को मार गिराया जिसके मलबे को जमीन पर सभी ने देखा.”

 

पाकिस्तान ने जोर देकर कहा है कि 27 फरवरी के हवाई युद्ध में उन्होंने कोई फाइटर जेट नहीं खोया. हिंदुस्तान टाइम्स ने बताया “इस्लामाबाद ने यह दावा भी किया कि 27 फरवरी को US-निर्मित F-16 लड़ाकू जेट का इस्तेमाल नहीं किया गया था.”

एक नये बयान में, पाकिस्तान की सैन्य शाखा के मीडिया विंग ने कहा “F-16s या JF-17s का उपयोग हुआ या नहीं वो अब इतिहास का हिस्सा है और भारतीय वायु सेना ने किसी भी पाकिस्तानी F-16 नहीं मारा था.”

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...