सचेत

फैक्ट चेक : राहुल गांधी के वायनाड रोडशो में कोई पाकिस्तानी झंडे नहीं लहराए गए थे

तर्कसंगत

Image Credits: Economic Times/Wikimedia

April 10, 2019

SHARES

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने घोषणा की कि वह केरल के वायनाड निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगे, नेटिज़न्स(बहुत सक्रिय इन्टरनेट यूजर्स) ने अगले ही पल सोशल मीडिया पर पॉटशॉट लेना शुरू कर दिया.

कई लोग ट्विटर और फेसबुक पर एक वीडियो पोस्ट करने लगे, जहां लोगों को राहुल गांधी के पोस्टर के साथ हरे झंडे के साथ जय-जयकार करते हुए देखा जा सकता है. उन्होंने दावा किया कि वायनाड में राहुल गाँधी के अभियान के लिए पाकिस्तानी झंडे का इस्तेमाल किया गया था.

राहुल गांधी के नये चुनाव क्षेत्र वायनाड (केरल) में पाकिस्तानी झंडों के साथ राहुल गांधी का चुनाव प्रचार।👇👇

Posted by Chowkidar Bk Mishra on Tuesday, 26 March 2019

 

दावा

हालांकि, इंडिया टुडे की एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) द्वारा इस बात की पुष्टि की गई थी. इस हरे रंग के झंडे में एक स्टार और उन पर एक अर्धचंद्र, दी इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML) के हैं, न कि पाकिस्तान के. IUML और कांग्रेस केरल में यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (UDF) के सहयोगी हैं.

एक 25-सेकंड का वीडियो 26 मार्च को एक फेसबुक उपयोगकर्ता चौकीदार बीके मिश्रा द्वारा न्यूज 18 मलयालम के चैनल लोगो और वॉटरमार्क के साथ पोस्ट किया गया था. इस वीडियो में लोगों को राहुल गांधी का बड़ा कट-आउट पकड़ते हुए और नारे लगाते हुए देखा जा सकता है. उन्हें हरे झंडे के साथ, कांग्रेस के झंडे को भी लहराते हुए भी देखा जा सकता है. वीडियो को “राहुल गांधी के नए निर्वाचन क्षेत्र वायनाड (केरल) में पाकिस्तानी झंडे के साथ अभियान” संदेश के साथ हिंदी में पोस्ट किया गया था.

 

 

पोस्ट को 1,700 से अधिक फेसबुक उपयोगकर्ताओं द्वारा शेयर किया गया था. उसी दावे के साथ ट्विटर पर भी यही वीडियो पोस्ट किया गया था.

इसी कंटेंट को और उसी दावे के साथ YouTube पर एक अन्य उपयोगकर्ता ऋषभ कुमार जैन के द्वारा भी पोस्ट किया गया था.

 

सत्य

इंडिया टुडे ने केरल के स्थानीय समाचार चैनलों पर राहुल गांधी और वायनाड से संबंधित वीडियो और समाचार देखे, जो पिछले कुछ दिनों में दिखाए गए थे. न्यूज़ चैनल My Nation ने 25 मार्च 2019 को मलयालम न्यूज़ चैनल एशियानेट न्यूज़ के एक वीडियो का उपयोग किया, जिसके शीर्षक में यह लिखा था,आधिकारिक घोषणा से पहले यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ता, राहुल गांधी की उम्मीदवारी का जश्न मनाते हुए. वीडियो में, एक आदमी को वही हरे रंग का झंडा, जिसमे एक स्टार है और उस पर एक अर्धचंद्र है, पकड़े हुए देखा जा सकता है. बैकग्राउंड में एक शख्स को राहुल गांधी की कट-आउट पकड़े हुए देखा जा सकता है.

 

 

31 मार्च को, मातृभूमि समाचार ने कैप्शन के साथ एक समाचार प्रसारित किया, “UDF वायनाड में राहुल गांधी की उम्मीदवारी से उत्साहित”. वीडियो के अंत में, रिपोर्टर एक क्लिप दे रहा है, जिसमें राहुल गांधी की तस्वीरें और बैकग्राउंड में हरे झंडे पकड़े हुए लोग हैं.

 

 

यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (यूडीएफ) केरल के छह राजनीतिक दलों के साथ गठबंधन है, जो इस चुनाव को लड़ने जा रहे हैं. यूडीएफ सहयोगियों में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग हैं. गठबंधन सहयोगी के रूप में, राहुल के वायनाड से चुनाव लड़ने के फैसले का IUML ने स्वागत किया, जिसकी पुष्टि द न्यू इंडियन एक्सप्रेस ने की थी. इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML) और पाकिस्तान के झंडे में स्पष्ट अंतर है.

 

 

वायनाड में राहुल गांधी की पार्टी के अभियान के दौरान पाकिस्तानी झंडे लहराए गए थे, यह दावा पूरी तरह से गलत है.

 

तर्कसंगत का तर्क 

देश के नागरिकों के रूप में, हमारी एक निश्चित जिम्मेदारी है. जबकि ट्रोल्स और पैरोडी(हँसाने वाले) अकाउंट्स ने खुद पर ज़िम्मेदारी ले ली है, कि वह अधिक से अधिक झूठी जानकारी साझा कर रहे, यह हमारी ज़िम्मेदारी है कि क्या सच है और क्या नहीं, के बीच अंतर करें, जबकि दूसरों को भी इस मुद्दे के बारे में जागरूक करें.

नकली समाचार बनाना या साझा करना कभी भी उचित नहीं है. हमारे पास इंटरनेट पर पोस्ट की जाने वाली हर चीज को सत्यापित करने की जिम्मेदारी है. यह सुनिश्चित करने के लिए कि हमारी राष्ट्रीय डिबेट, स्वस्थ और सुविज्ञ है, हममें से हर एक के पास एक चुटकी नमक, एक चम्मच शंका और एक शोध के साथ जो कुछ भी पढ़ा है, उसके उपचार की जिम्मेदारी है.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...