सचेत

श्रीधन्या सुरेश, यूपीएससी परीक्षा पास करने वाली केरल की पहली आदिवासी महिला बन गई हैं

तर्कसंगत

Image Credits: The News Minute

April 15, 2019

SHARES

5 अप्रैल को, श्रीधन्या सुरेश यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा पास करने वाली केरल के कुरिचिया आदिवासी समुदाय की पहली महिला बनीं. केरल में वायनाड जिले की 25 वर्षीय ने तीसरे प्रयास में परीक्षा में सफलता पाई और 410 रैंक हासिल की.



संघर्ष और कठिनाई

श्रीधन्या के माता-पिता सुरेश और कमला दिहाड़ी मजदूर हैं, जो आजीविका के लिए बाजार में धनुष और तीर बेचते हैं. जब उनसे पूछा गया कि आईएएस अधिकारी बनने के लिए उन्हें कहाँ से प्रेरणा मिली, तो उन्होंने कहा कि पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद, उन्होंने श्रीराम सांबा शिवा राव को पहली बार एक आईएएस अधिकारी के रूप में देखा. जिस तरह से लोग एक कतार में उनका इंतजार कर रहे थे और उन्होंने जिस तरह ‘मास एंट्री’ कि उन्हें एक आईएएस अफसर बनने की ख्वाहिश दी थी. वह जानती थी कि वह एक आईएएस अधिकारी ही बनना चाहती थी और श्री राव को देख कर उनका सपना जूनून में बदल गया. 

 

बचपन

उनका बचपन बहुत साधारण था. मगर कोई रोक टोक नहीं थी. उन्होने कहा, “मुझपर कोई प्रतिबंध नहीं थे.” स्कूल पूरा करने के बाद वह स्नातक की पढ़ाई करने के लिए कॉलेज गई. उन्होंने कोझीकोड के देवगिरी सेंट जोसेफ कॉलेज से जूलॉजी में स्नातक किया. बाद में, उन्होंने कालीकट विश्वविद्यालय से उसी विषय से पोस्ट ग्रेजुएशन किया.

लोगों को उनकी उपलब्धि के बारे में पता चलने के बाद, सभी जगह से बधाईयां मिलने लगीं और मीडियाकर्मी उनकी कहानी जानने के लिए उनके पास पहुंचने लगे. उन्होने मीडिया को बताया कि वह राज्य के सबसे पिछड़े जिले से है और आज तक उनकी जनजातीय आबादी से कोई भी आईएएस अधिकारी नहीं था. उन्हें उम्मीद है कि उनकी कहानी भविष्य की पीढ़ी के लिए  प्रेरणा बनेगी, एनडीटीवी ने अपने एक रिपोर्ट में कहा. श्रीधन्या की नेत्रहीन माँ ने कहा कि उन्होंने सुनिश्चित किया कि उनकी पढ़ाई के लिए कुछ भी रुकावट न बने. वह कहती है कि श्रीधन्या का परिणाम अत्यधिक परिश्रम का परिणाम है जो आज सफल हुआ है.



बधाई संदेश

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन उन्हें बधाई देने वाले पहले कुछ लोगों में से एक थे. उन्होंने अपनी फेसबुक पोस्ट के माध्यम से श्रीधान्या को बधाई दी.

 

സാമൂഹ്യ പിന്നോക്കാവസ്ഥയോട് പൊരുതി സിവിൽ സർവീസ് പരീക്ഷയിൽ തിളക്കമാർന്ന വിജയം കരസ്ഥമാക്കിയ വയനാട്ടിലെ ശ്രീധന്യ സുരേഷിനെ…

Posted by Pinarayi Vijayan on Friday, 5 April 2019

 

बाद में, राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष, जो वायनाड से चुनाव लड़ रहे हैं, ने ट्विटर पर उन्हें बधाई दी और अपने भविष्य के प्रयासों के लिए शुभकामना दी.

 


पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने भी उन्हें ट्विटर पर बधाई दी. घोषित 759 रैंक में से केवल 182 महिलाएं थीं

 

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...