सचेत

फैक्ट चेक : कांग्रेस के नेतृत्व की भविष्यवाणी करने के लिये लड़की ने बोला ‘चौकीदार चोर है’

तर्कसंगत

April 25, 2019

SHARES

देश में चुनाव चल रहे हैं और ऐसा लगता है कि लोग फर्जी खबरों को आगे बढ़ा रहे हैं. हर दिन झूठी सूचनाएं देश की एक बड़ी आबादी को दी जा रही है. जो लोग इन फर्जी खबरों की असलियत जानते हैं वे इसे आगे ले जाने के लिए कुछ नहीं करते लेकिन जो इन बातों की हकीकत से अनजान हैं वे व्हाट्सएप ग्रुपों, ट्विटर और फेसबुक पर फैलाई इन बातों पर यकीन कर लेते हैं जिससे इसे और अधिक नुकसान होता है.

 

पीएम मोदी के सामने लड़की ने कहा चौकीदार चोर है?

व्हाट्सएप और ट्विटर पर एक वीडियो वायरल हुआ है जिसमें दिखाया गया है कि मंच के सामने की पंक्ति में बैठी एक लड़की को जब प्रधानमंत्री ने स्टेज पर बोलने के लिए बुलाया तो उसने कहा “चौकीदार चोर है.”

Fake News Buster, Boom Live ने पाया कि ‘चौकीदार चोर है’ की आवाज को 17 सितंबर, 2016 के एक वीडियो में ऊपर से जोड़ा गया था. वास्तव में, लड़की रामायण की चौपाई पढ़ रही थी. यह वीडियो उस कार्यक्रम का है जब पीएम ने विशेष रूप से विकलांग लोगों को सहायक उपकरण वितरित किये थे. दिलचस्प बात यह है कि इसी वीडियो को नवंबर 2018 में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला करते हुए संपादित किया गया था जिसमें लड़की को ‘राहुल गांधी पप्पू है’ कहते हुए दिखाया गया था.

 

असली वीडियो का लिंक यह है: 

 

Times Now के एक झूठे पोल ने कांग्रेस का बढ़त बनाने का दावा किया

एक और शरारती स्क्रीनशॉट इंटरनेट पर, विशेष रूप से व्हाट्सएप पर उछलता हुआ देखा गया है, जिसमें दिखाया गया कि अंग्रेजी समाचार चैनल Times Now – ने 91 लोकसभा सीटों के लिए चरण 1 के परिणाम के एग्जिट पोल की भविष्यवाणी करते की है. स्क्रीनशॉट के अनुसार, कांग्रेस को 48 सीटें जीतने की भविष्यवाणी की गई थी जबकि भाजपा 24 सीटों तक ही सीमित थी 19 सीटों के लिए अन्य लोगो को दिया गया था.

 

Boom Live ने बताया कि इस तरह का सर्वे Timew Now ने कभी नहीं किया. इसके अलावा, भारत के चुनाव आयोग ने 11 अप्रैल से 19 मई, 2019 के बीच शाम 6.30 बजे तक एग्जिट पोल की भविष्यवाणी करने पर रोक लगा दी थी. Times Now के प्रधान संपादक राहुल शिवशंकर ने Boom को बताया कि यह खबर झूठी थी और Tmies Now पूरी तरह से चुनाव आयोग की आचार संहिता का पालन कर रहा है.

 

झूठी खबर को RBI के सदस्य ने ट्वीट किया

15 अप्रैल को, भारतीय रिजर्व बैंक के कार्यकारी निदेशक एस गुरुमूर्ति ने 30 सितंबर, 2001 के अखबार के एक हिस्से को ट्विटर पर पोस्ट किया जिसका शीर्षक “भारतीय राजनेता गिरफ्तार” था. लेख में बताया गया कि बोस्टन हवाई अड्डे पर एक भारतीय राजनेता को हिरासत में लिया गया और सुरक्षा अधिकारीयों ने उसे प्रतिबंधित दवाओं और बेहिसाब नकदी के साथ कब्जे में लिया था. आगे उसमें यह भी लिखा था कि वह राजनेता भारत के पूर्व प्रधान मंत्री का पुत्र था और जिसे तभी रिहा किया गया जब एक भारतीय राजदूत ने हस्तक्षेप किया.

 

 

राहुल गांधी पर सूक्ष्मता पर कीचड़ उछालते हुए गुरुमूर्ति ने अपने ट्वीट में लिखा कि पूर्व प्रधानमंत्री का बेटा कौन है? हालांकि, बाद में उन्होंने ट्वीट डिलीट कर दिया. भाजपा विधायक,हर्ष संघवी ने भी समाचार पत्र के हिस्से को एक शीर्षक “भारत के पूर्व प्रधानमंत्री का यह बेटा कौन है? नाम सोचे ?” के साथ साझा किया.

 

 

BoomLive ने समाचार पत्र के हिस्से की खोज की और पाया कि हकीकत में यह fodex.com के जरिये से बनाई गया है. वेबसाइट आपको किसी भी समाचार पत्र के पढ़ने वाले शीर्षक को जोड़ने की अनुमति देती है. तथ्य जाँच के लिए वेबसाइट ने उसी पढ़ने वाले शीर्षक का उपयोग किया जो झूठी खबर में था और पाया कि दोनों एक ही हैं.

 

 

तर्कसंगत के विचार

हम अपने सभी पाठकों से फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर किसी भी व्हाट्सएप फॉरवर्ड या समाचार पर आंख बंद करके भरोसा करने को माना करते हैं. देश के नागरिक के रूप में हम सबकी एक निश्चित जिम्मेदारी है. कुछ भी साझा करने से पहले समाचार की सत्यता की जाँच करनी चाहिए. झूठे समाचार किसी के जीवन को नुकसान पहुंचा सकते हैं इसलिए पहले जाँच करें जिससे झूठ और सच में अंतर मिल सके.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...