सप्रेक

पंजाब की एक NGO, श्री दुर्गा सेवा दल, मरीजों और लोगों को मुफ्त में भोजन कराती है

तर्कसंगत

April 30, 2019

SHARES

पंजाब का एक व्यक्ति, अरूप सिंगला, जो अपने रिश्तेदार से मिलने के लिए सिविल अस्पताल संगरूर में जाया करते थे वहां उन्हें मरीज़ों की स्वास्थ्य स्थिति के बारे में पता चला. उन्होंने महसूस किया कि वे कुपोषण और अन्य बीमारियों से पीड़ित थे और ज्यादातर मरीज आर्थिक रूप से कमजोर पृष्ठभूमि के थे.

अरूप सिंगला ने समस्या के समाधान के लिए एक फैसला किया. पंजाब सरकार की मदद से, उन्होंने खाना बनाने के लिए अस्पताल के पास की इमारत में एक रसोई का निर्माण कराया. अरुप ने अपनी NGO श्री दुर्गा सेवा दल के साथ, दिन में चार बार भोजन देना शुरू किया. जिसमें नाश्ता, दोपहर का भोजन, शाम की चाय और रात का खाना शामिल है. उनकी सेवा में सिविल अस्पताल, कैंसर अस्पताल में मरीजों और उनके परिचारकों के लिए डिनर और रेड क्रॉस डे-एडिक्शन सेंटर शामिल हैं. उन्होंने अस्पताल के सभी वार्डों में अलग-अलग काउंटर स्थापित किए हैं.

अरूप ने तर्कसंगत को बताया “शुरूआती दौर में दल के सदस्यों ने अपनी जेब से योगदान दिया था क्यूंकि कच्चा माल खरीदने का यही एकमात्र स्रोत था. लेकिन अब हमारे खुद के योगदान के अलावा, अन्य लोगों से भी दान मिलता है.”

इस पहल की शुरुआत 2004 में हुई थी. हर दिन, अरूप और उनकी टीम ने लगभग 350 से 550 लोगों को भोजन देते थे. भले ही कुछ सदस्य शुरूआती दौर में इस तरह की पहल के लिए पैसे देने से हिचकिचाते थे लेकिन बाद में सभी ने एक साथ हाथ मिलाया. एक समय वो भी था जब अरुप ने इस पहल के लिए अपनी संपत्ति बेचने के बारे में भी सोचा था.

NGO में 500 स्वयंसेवक हैं जो हर दिन 30 से 40 लोगो को सेवा देते हैं. इमारत सिविल अस्पताल के पीछे के हिस्से में है. प्रतिदिन करीबन 5 से 7 हजार रुपये तक खर्च होते हैं. रोगियों को खिलाने के अलावा, NGO आर्थिक रूप से पिछड़ी लड़कियों के लिए मुफ्त शिक्षा, कढ़ाई और ब्यूटीशियन कोर्स जैसे नियमित पाठ्यक्रम भी प्रदान करता है.

अरुप के बेटे धीरज सिंगला ने तर्कसंगत को बताया “हम हमेशा अपने पिता की पहल को आर्थिक और मानसिक दोनों रूप से अपना पूरा समर्थन देते  हैं.”

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...