पर्यावरण

बेंगलुरु: हाऊसिंग सोसायटी की एक अनोखी पहल, ‘फ्लेक्स खाद बैग’ बनाने का पहल किया.

तर्कसंगत

May 28, 2019

SHARES

बेंगलुरु स्थित कोरमंगला वेल्फेयर एसोसिएशन सोसाइटी के निवासी एक अनोखी पहल के लिये साथ आए और फ्लेक्स आइटमों के पुनः इस्तेमाल के विचार पर सराहनीय काम किया.

सोसाइटी द्वारा कोम्पॉस्टिंग बैग्स को उपयोग करना अपने आप में पहला और अनोखा विचार है.और इस विचार की बेंगलुरु में इस प्रकार प्रशंसा और चर्चा हो रही है की अब वहां के अनेक पार्कों  और सोसाइटी में ऐसे कोम्पॉस्टिंग बैग्स दिखते है.

कोरमंगला वेल्फेयर एसोसिएशन सोसाइटी की अध्यक्षा पद्मश्री बलराम ने तर्कसंगत से बात कर कहा की “हम सड़कों पर गिरी हुई पत्तियों को देखते है तो हमें महसूस होता है की हमारे आस पास का वातावरण साफ नही है. इसे लेकर सोसाइटी के सभी निवासियों ने चिंता ज़ाहिर की और सोसाइटी के बॉर्ड ने एन.जी.ओ स्वाभिमान से बात की और साथ मिलकर इस पहल को लाए.”

एन.जी.ओ स्वाभिमान ने भी अधिक मात्रा में फ्लेक्स के इस जमवाट पर चिंता ज़ाहिर की थी और सोसाइटी बॉर्ड से मीटिंग में उन्होने सुझाया की इनका इस्तेमाल किया जाना चाहिये और सड़क किनारे फैले पत्तों का विशाल कोम्पॉस्ट बैग्स में परिवर्तन किया जाने के विचार का सभी ने स्वागत किया.

 

 

इन बैग्स का आकार इस प्रकार रखा गया इनमें बड़ी मात्रा में सूखी पत्तियां भरी जा सके और हर बैग की कीमत 40 रुपय तय की गई और 45 दिनों के अंदर 300 से ज़्यादा बैग बिके और साथ ही इससे सीख ले बाकी सोसाइटीस ने भी इस मुहिम में हाथ बटाया.

पिछ्ले महीने आई.पी.एल चल रहा था और इन दिनों खेल के बाद दर्शक झंडे कोरमंगला के आसपास सड़क पर फेक देते जिससे शहर की खराब छवी उभरती व यह खतरनाक भी था. मुहिम के तहत 5000 से 6000 झंडे उठाए गए व सड़कों की सफाई की गई,स्वाभिमान द्वारा सुझाया गया की इन झन्डो का सही दिशा में पुनह उपयोग किया जाना चाहिये. और स्वाभिमान ने मीटिंग में सुझाया की इन झन्डो को स्लिन्ग बैग में बदल देना चाहिये की यह 6 से 8 किलो का वज़न ले सके.

तर्कसंगत कोराम्ंग्ला सोसाइटी के शहर के सफाई और लाभ के प्रति  इन कार्यों और विचारों का सम्मान और सराहना करता है.साथ ही संदेश देना चाहता है की नागरिक अपने वातावरण को साफ रखें और कूड़ेदान का इस्तेमाल करें जीससे सफाई कर्मचारियों का काम और आसान हो सकें.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...