ख़बरें

मुरादाबाद इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों ने महिलाओं की सुरक्षा के लिए ‘सैंडल ड्रोन’ का आविष्कार किया है

तर्कसंगत

Image Credits: ANI/Twitter

June 6, 2019

SHARES

मुरादाबाद इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र महिलाओं की सुरक्षा के लिए एक ड्रोन सुरक्षा प्रणाली का आविष्कार करने का दावा कर रहे हैं, जो जीपीएस से लैस है.

 

 ‘सैंडल ड्रोन’ सिस्टम है क्या?

इस सिस्टम में महिला द्वारा पैनिक बटन दबाने पर सैंडल में शॉक सिस्टम उत्पन्न करेगा, जिससे की महिला किसी अपराधी को मार सकती है.

जैसे ही महिला एक संकट का संकेत भेजती है, एक ड्रोन जीपीएस का उपयोग करके उसकी ओर उड़ जाएगा. इसके अलावा, इससे एक अलार्म भी बजेगा ताकि आस-पास के लोग उसकी मदद के लिए दौड़ सकें.

“भारत में, बलात्कार और महिलाओं के साथ छेड़छाड़  एक बड़ी समस्या है. इसलिए, हमने उनकी सुरक्षा के लिए एक सैंडल और ड्रोन का उपयोग किया है. चप्पल एक पैनिक बटन से लैस है जिसे जरूरत के समय हल्के प्रेस से ट्रिगर किया जा सकता है. यह एक शॉक सिस्टम को एक्टिवटे करेगा जिसका उपयोग वह अपने ऊपर हमला करने वाले को मारने के लिए कर सकती है” एनडीटीवी ने परियोजना में शामिल छात्रों में से एक दिवाकर शर्मा के हवाले से कहा.

पैनिक बटन दबाते ही एक बिजली का झटका उत्पन्न होगा और ड्रोन भी एक्टिवेट हो जाएगा.

 

इस सैंडल ड्रोन सिस्टम को निकटतम पुलिस स्टेशन से कैसे जोड़ा जाएगा, छात्रों ने इसके बारे में भी बताया.

“चप्पल एक मैसेज लड़की के जगह से उसके परिवार और पुलिस को भेज देगी, साथ ही यह ड्रोन को एक सिग्नल भेजेगा, ” शर्मा ने कहा.

डिस्ट्रेस सिग्नल ड्रोन को जीपीएस का उपयोग कर मुसीबत में पड़ी महिला की ओर उड़ने के लिए प्रेरित करेगा. इसके अलावा, ड्रोन एक वीडियो रिकॉर्ड करने में भी सक्षम है, जो बाद में पुलिस को अपराध की जांच करने में मदद करेगा.

प्रोफेसर जिनके मार्गदर्शन में छात्रों ने परियोजना को पूरा किया है का कहना है कि ‘इस तकनीक को एक उत्पाद में परिवर्तित किया जा सकता है जिसे बाजार में बेचा जा सकता है’

उन्होंने आगे कहा कि कॉलेज इसे पेटेंट करने की योजना बना रहा है, और कुछ लड़कियों को सैंडल ड्रोन सुरक्षा प्रणाली के प्रोटोटाइप भी देगा.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...