ख़बरें

1 जुलाई से करीब 3.6 करोड़ कर्मचारियों की टेक होम सैलरी बढ़ जाएगी, PPF और NSC की ब्याज़ दरें घटी

तर्कसंगत

Image Credits: Voice Of Lucknow

July 1, 2019

SHARES

1 जुलाई यानी आज से आपकी जेब से जुड़े कई नियम बदल गए हैं. इन नए नियमों से जहां कुछ नियमों से आपको राहत मिलेगी, वहीं कुछ नियम आपकी जेब पर बोझ भी डाल सकते हैं. आज से RTGS और NEFT पर चार्ज हटने से लेकर होम लोन की ब्याज दरों तक कई नियम बदल जाएंगे.

 

 

RTGS और NEFT से चार्ज हटा

1 जुलाई यानी आज से रीयल-टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) और नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (NEFT) के जरिए ट्रांजेक्‍शन पर अब किसी भी तरह का चार्ज नहीं लगेगा जिससे ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करने वालों को राहत मिलेगी. NEFT का इस्तेमाल 2 लाख रुपये तक के फंड ट्रांसफर के लिए किया जाता है. वहीं RTGS का इस्तेमाल बड़ी राशि के लेनदेन के लिए किया जाता है.

 

स्‍मॉल सेविंग स्‍कीम पर ब्याज दरें घटी

सरकार ने जुलाई-सितंबर तिमाही के लिए पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF)और नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC) जैसी सभी स्मॉल सेविंग स्कीम पर ब्याज दरें 0.10 फीसदी घटा दी है. इस कटौती के बाद अब PPF और NSC पर सालाना 7.9 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा जो अभी तक 8 फीसदी था. साथ ही सुकन्या समृद्धि खाते पर मिलने वाला 8.55 फीसदी ब्याज अब 8.45 फीसदी हो गया है.

 

BSBD अकाउंट नियम भी बदलेंगे

बेसिक सेविंग बैंक अकाउंट (BSBD अकाउंट) से जुड़े नए नियम के तहत सरकारी स्कीम का पैसा चेक से निकालने पर कोई चार्ज नहीं भरना होगा. सरकारी रकम को चेक से निकालने या जमा करने पर कोई चार्ज नहीं लगेगा. साथ ही कैश डिपॉजिट भी फ्री में होगा. ऑनलाइन बैंकिंग की मदद से मनी ट्रांसफर या रीसीव करने पर भी किसी तरह का चार्ज नहीं लगेगा.

 

होम लोन में बदलाव

RBI द्वारा रेपो रेट में कटौती के SBI ने अपने होम लोन को रेपो रेट से लिंक कर दिया है. 1 जुलाई यानी आज से SBI रेपो रेट के आधार पर अपने होम लोन की पेशकश करेगा. इसका मतलब है कि अब जब भी आरबीआई अपने रेपो रेट में बदलाव करेगा, उसका असर तुरंत होम लोन पर भी पड़ेगा. अगर केंद्रीय बैंक ने रेपो रेट में बढ़ोतरी की, तो फिर एसबीआई भी ब्याज दरों में बढ़ोतरी करेगा. बता दें कि RBI साल में 6 बार MPC बैठक करता है और इन बैठकों में रेपो रेट को घटाने या बढ़ाने को लेकर विचार होता है.

 

1 जुलाई से बढ़ जाएगी सैलरी

1 जुलाई यानी आज से करीब 3.6 करोड़ कर्मचारियों की टेक होम सैलरी बढ़ जाएगी. टेक होम सैलरी यानी सभी तरह की कटौती के बाद जो रकम आपके हाथ में आती है. केंद्र सरकार ने कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ESI) के स्वास्थ्य बीमा कार्यक्रम में इंप्लोयर (संस्‍था या कंपनी) और कर्मचारियों के कुल अंशदान को 6.5 फीसदी से घटाकर 4 फीसदी कर दिया है. पहले इंप्लोयर यानी कंपनी का अंशदान 4.75 फीसदी का होता था जो अब 3.25 फीसदी हो गया है.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...