सचेत

बिग बाजार #Mahabachat: अब हर दिव्यांग व्यक्ति स्वतंत्र रूप से कर सकेंगे खरीदारी क्यूंकि बाज़ार जाने की ख़ुशी #SabKeLiye

प्रायोजित

Big Bazaar

August 7, 2019

SHARES

हम अपने समाज में समानता, संविधान, सहिष्णुता की बात करते हैं. मगर हमारे बीच ऐसे उदाहरण गिनती के होंगे जब हम सब को मिलाकर, एक साथ ले कर चलने की बात करते हों. साथ ले कर चलने से हमारा मतलब उनको साथ ले कर चलना है, जो हमारे बराबर या हमसे ज़्यादा योग्य है, मगर नियति की किसी क्रूरता के शिकार हैं. हम बात कर रहे हैं हमारे आपके परिवार, समाज में रहने वाले दिव्यांग लोगों की.

हमारे लिए जो काम चुटकी में कर लेने की चीज़ है. वही काम कई बार इन लोगों के लिए दुष्कर हो जाता है. कभी सोचा है ऐसे सार्वजानिक जगहों पर इनकी मदद कौन करता है? यहाँ ज़रूरत उनकी मदद करने की नहीं है, ज़रूरत उनके अनुरूप अपने आस पास में बदलाव करने की सोच को विकसित करने की है, ताकि परिवर्तन ऐसा आये कि उन्हें किसी की मदद की ज़रूरत न पड़े. ऐसी ही एक कोशिश बिग बाजार भी कर रहा है.

 

बिग बाजार बदलते भारत की एक तस्वीर

बिग बाजार इस स्वतंत्रता दिवस पर दिव्यांग लोगों के लिए कुछ ख़ास करने जा रहा है. बिग बाजार समाज के हर वर्ग की ज़रूरत को जानने, समझने के लिए जाना जाता है. इस बार भी उन्होनें लोगों की ज़रूरतों को ध्यान में रखते हुए, उनके लिए 9 अगस्त को अपने सारे आउटलेट्स में ‘प्रीव्यू डे’ का आयोजन रखा है जिसे उन्होनें #सबकेलिए का नाम दिया है. साथ ही साथ आम लोग को जो ऑफर 10 -15 अगस्त को ‘महाबचत सेल’ के दौरान मिलते हैं. वो सभी ऑफर उनके लिए एक दिन पहले दी जाएगी. ‘महाबचत सेल’ में 3000 रुपये की ख़रीदारी पर 1200 रुपये का कैशबैक है. इसके अलावा, ख़रीदारों को एसबीआई क्रेडिट और डेबिट कार्ड से खरीदारी करने पर 7% की छूट भी मिलेगी.

 

बिग बाजार सबके लिए

बिग बाजार ने #सबकेलिए  पहल की शुरुआत जनवरी 2018 से की थी. इस सोच के पीछे उनकी मंशा केवल एक सोच पर ही आधारित थी कि जैसे आम लोग बाजार जा कर चीज़ें खरीदते हैं और खुश होते हैं, वैसी ही ख़ुशी और मौका उन लोगों को भी देना जो ऐसा नहीं कर पाते. अपनी शारीरिक बाधा के कारण कई बार कई सारे लोग इस ख़ुशी से वंचित रह जाते हैं, चूक जाते हैं, हमारी आपकी तरह उनकी भी ख्वाइश उस ख़ुशी को महसूस करने की होती है, जिसकी ओर बिग बाजार ने ध्यान देकर उन्हें एक विशेष मौका दिया है. बिग बाजार अपनी इस पहल से अपने स्टोर को वृद्ध, गर्भवती महिलाओं के लिए ज़्यादा सुरक्षित और आसान बनाने की भी कोशिश कर रहा है.

इतना ही नहीं बल्कि ऐसे लोगों के लिए सारे स्टोर्स में उनके अनुसार परिवर्तन भी किये जाते हैं. बिग बाजार अपने कर्मचारियों को लोगों की मदद करने के लिए भी प्रशिक्षण देता है. जिससे कि उनके कर्मचारी ज़्यादा संवेदनशील बने और उन लोगों की ज़रूरतों को समझ सकें और उनकी मदद कर सकें. इसके अलावे स्टोर्स में विशेष ट्रायल रूम, व्हील चेयर, विशेष काउंटर, विशेष शौचालय, ख़रीदारी के लिए सहायक की सुविधा भी दी जाती है.

अभी के समय में किसी भी बड़ी कम्पनी द्वारा विशेष रूप से सक्षम लोगो के लिए ऐसी संजीदगी देखने को नहीं मिली है. सरकारी नियमों के अनुसार सभी सुविधा पहुँचाने की कोशिश की जाती है. मगर आत्मीयता की धुरी पर उतरकर अपने ग्राहकों के लिए कुछ करना. ये पहली बार #सबकेलिए में ही देखा गया है.

इतना ही नहीं बिग बाजार की संजीदगी इस विषय पर इस बात से भी झलकती है कि उन्होनें ऐसे लोगों के लिए, एक एडवर्टाइजमेन्ट भी बनाया है जिसमें #सबकेलिए की सारे ऑफर और उससे जुड़ी बातों की ज़रूरी जानकारी दी गयी है. इस विशेष दिन का लाभ उठाने के लिए ख़रीदार खुद को पंजीकृत करने के लिए यहाँ क्लिक कर सकते हैं.

 

 

केवल स्वतंत्रता दिवस के लिए ही नहीं

बिग बाजार की अनेक कोशिशों में एक कोशिश आटिज्म से जूझ रहे लोगों को भी ख़रीदारी का आनंद देना रहा है. बिग बाजार ने मुंबई, माटुंगा स्थित अपने एक स्टोर में ‘क्वाइट ऑवर’ का भी आयोजन किया था, जिसे लोगों ने काफी सराहा है. इसके लिए आपको ‘क्वाइट ऑवर‘ के लिंक पर रजिस्टर करना होता है. जिससे आप अपनी जानकारी स्टोर के साथ साझा कर सकें. ‘क्वाइट ऑवर‘ हर मंगलवार को आयोजित की जाती है. इस दिन कुछ स्टोर्स में आटिज्म से प्रभावित लोगों को ध्यान में रखते हुए ऊँची आवाज़ के अनाउंसमेंट नहीं किया जाते, उनकी ज़रूरतों के अनुसार रौशनी धीमी की जाती है, बच्चों के लिए छोटे छोटे खेल का भी आयोजन किया जाता है. गैर ज़रूरी ट्रॉली को रास्ते से हटा दिया जाता है. विशेष रूप के साइन बोर्ड तैयार किये जाते हैं.

 

 

ग्राहकों में उत्साह

बिग बाजार की इस कोशिश का इन लोगों ने बाहें फैला कर स्वागत किया है. ऐसा करने के लिए बिग बाजार ने कोई कोशिश भी अधूरी नहीं छोड़ी है. उन्होनें अपने स्टोर्स में 250 विशेष रूप से सक्षम कर्मचारी को रोज़गार दिया है. कर्मचारियों को #सबकेलिए तैयार करने के लिए उन्होनें कम से कम 110 क्लासेज देश भर के बिग बाजार स्टोर में करवाए हैं.

उनकी इस पहल के बारे में बात करते हुए एक ग्राहक वर्षा सिंह ने अपनी अनुभव को भी साझा किया है.

इतना ही नहीं बिग बाजार ने लोगों के लिए समय समय पर वर्कशॉप भी करायें हैं, जहाँ उनके लिए मेकअप और खाना बनाने की विधि को आसान कैसे किया जाये यह सिखाया गया है. 

 

 

बिग बाजार इस सोच पर विश्वास करता है कि समाज में लोगों को जागरूक बनाने के लिए उन्हें शारीरिक बाधा से जूझ रहे लोगों के नज़दीक लाना ज़रूरी है. साथ ही साथ ऐसे लोग जो अपनी शारीरिक कमियों के कारण घर से बाहर निकलने में कतराते हैं, उन्हें इस मौके के ज़रिये हम समाज की मुख्यधारा से भी जोड़ सकते हैं. बिग बाजार की ये पहल लोगों को जागृत करने का काम भी कर रही है. तर्कसंगत इस अनूठे नयी सोच के लिए बिग बाजार को अपनी शुभकामनाएं देता है और उम्मीद करता है कि लोग इस पहल से जुड़ कर जागरूक बनें.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...