सचेत

दमन जिला कलेक्टर की सूझबूझ से एक आदमी की जान बचाई गई

तर्कसंगत

Image Credits: Ahmedabad Mirror/

August 13, 2019

SHARES

दमन के जिला आयुक्त, डॉ. राकेश मिन्हास की तुरंत कार्रवाई  और सूझबूझ से दादरा और नगर हवेली में एक हाई टेंशन तार के चपेट में आये दो व्यक्तियों में से एक को बचा लिया गया.

सर्जरी की पढाई कर चुके, डॉ. मिन्हास हवेली फ़ार्म के पास अठल गाँव के पास से गुज़र रहे थे, जहाँ पर यह घटना हुई थी. वह नसे गुज़रते वक़्त उन्होंने भीड़ देखी और अपनी गाड़ी को रोकने का फैसला किया.

यह जान कर कि दो लोगों को बिजली का झटका लगा था, उन्होनें बिना ज्यादा समय बर्बाद किए दोनों लोगों को कार्डियोपल्मोनरी रिससिटेशन (सीपीआर) दिया. उनमें से एक बच गया, दूसरे आदमी की मौत हो गई क्योंकि उसे गंभीर हानि हुई थी.

दो मजदूर एक ट्रक में क्रेन का हुक लगाने की कोशिश कर रहे थे, तभी क्रेन तार के संपर्क में आया और जमीन पर गिर गया.

तर्कसंगत से बात करते हुए, डॉ. मिन्हास ने कहा, “मूल रूप से उन दो लोगों को बिजली का झटका लगा था. मैं पास से गुज़रा, तभी मैंने देखा कि एक भीड़ खड़ी थी. मैंने महसूस किया कि ये दोनों लोग बड़ी ऊंचाई से गिर गए थे और उन्हें बिजली का झटका लगा था. मैंने उनमें से एक को सीपीआर दिया, जिससे 5 मिनट में वह थोड़ा ठीक हुआ  वह अब अस्पताल में है, और ठीक हो रहा है. हालांकि, दूसरे व्यक्ति को पहले से ही गंभीर चोट आयी थी. उसे 15-20 मिनट के सीपीआर में पुनर्जीवित किया गया था. यहां तक ​​कि एम्बुलेंस में, उसकी नब्ज़  कमज़ोर थी, लेकिन अस्पताल में, उसे मृत घोषित कर दिया गया था.”

तर्कसंगत ने एक आदमी की ज़िन्दगी बचाने पर डॉ मिन्हास की सराहना की है . यह सार्वजनिक सहानुभूति के महत्व पर भी प्रकाश डालता है. हर बार नहीं मगर इन जैसी दुर्घटनाओं के मामलों में, पहले कुछ मिनट कीमती होते हैं. इस समय में की गई सूझबूझ अत्यंत महत्वपूर्ण साबित हो सकती है.

दूसरी बात, CPR जैसी प्राथमिक चिकित्सा विधियाँ सभी को दी जानी चाहिए, जो इन जैसी स्थितियों में काम आ सकती हैं.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...