ख़बरें

तिहाड़ जेल में कैदियों को फोन इस्तेमाल करने से रोकने के लिए 4 जी जैमर लगाए जायेंगे

तर्कसंगत

Image Credits: Indian Express

August 16, 2019

SHARES

तिहाड़ जेल में कैदियों द्वारा सेलफोन के बड़े पैमाने पर उपयोग के साथ, जेल अधिकारियों ने 4 जी जैमर स्थापित करने और जेल के बाहर कैदियों और उनके सहयोगियों के बीच संचार चैनलों को अवरुद्ध करने का फैसला किया है.

वर्तमान में जेल के अंदर फिट होने वाले जैमर 3 जी सिग्नल को अवरुद्ध करने में असक्षम हैं और अप्रभावी हो गए हैं क्योंकि जेल में कैदी 4 जी सिम कार्ड का उपयोग करते हैं और अपने सहयोगियों के संपर्क में रहते हैं.

महानिदेशक (जेल) संदीप गोयल ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, “जेल में मोबाइल फोन के इस्तेमाल दिल्ली पुलिस के लिए एक बड़ी चिंता का विषय है उसको रोकने के लिए नए जैमर लगाना हमारे लक्ष्य का हिस्सा थे.”

एक जांच के दौरान, कुछ अपराधी कॉल करने के लिए जेल के अंदर वाईफाई का उपयोग करते पाए गए.

इस साल की शुरुआत में, रोहिणी के एक व्यापारी को तिहाड़ कैदी राहुल काला से एक वीडियो कॉल आया, जिसमें 50 लाख रुपये की मांग की गई थी. बाद में, पुलिस ने जेल में कॉल को ट्रेस किया और अधिकारियों को एक रिपोर्ट सौंपी.

हरियाणा के मुख्यमंत्री, ओम प्रकाश चौटाला के पास भी तलाशी के दौरान जेल के अंदर एक मोबाइल फोन मिला था.

“जेल परिसर से मोबाइल फोन का उपयोग करने वाले कैदी पुलिस और जेल अधिकारियों के लिए चिंता का विषय रहे हैं, जिसे रोकने की हमारी योजना है. गोयल ने मीडिया को बताया कि बेहतर जैमर होने के अलावा, हम गश्त बढ़ाएंगे और उन मार्गों को सुनिश्चित करेंगे जिनके माध्यम से मोबाइल फोन जेल के जाते हैं.”

जैमर मंडोली और रोहिणी की जेलों में लगाए जाएंगे, जहाँ कोई सिग्नल जैमर नहीं है. जेल के वरिष्ठ अधिकारियों को जैमर की खरीद के लिए एक योजना तैयार करने और इन जैमर को स्थापित करने के लिए निर्देशित किया गया है.

मोबाइल फोन को ट्रेस करने के अलावा, जेलों के शीर्ष अधिकारियों को औचक निरीक्षण की आवृत्ति बढ़ाने के लिए कहा गया है. इसके अतिरिक्त, आगंतुकों या बाहरी लोगों द्वारा जेल परिसर में रखे गए उपकरणों की जांच के लिए एक विशेष टीम बनाई गई है. अपराधियों के मोबाइल फोन के कुछ हिस्सों को रबर की गेंदों में बांधकर जेल में रखने के कई मामले सामने आए हैं. उनमें से कई कॉल करने के लिए मानक सिम कार्ड का उपयोग करते हैं और फिर कार्ड को नष्ट कर देते हैं.

जेल अधिकारियों से यह भी अपेक्षा की जाती है कि वे दिल्ली पुलिस के साथ समन्वय कर जेल परिसर से की जा रही कॉल की निगरानी करें और कॉल करने वालों के स्थान को ट्रैक करें.

 

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...