ख़बरें

अच्छी खबर : मथुरा के 8 पंचायतों ने समाज की बुराई खत्म करने को उठाये नए कदम

तर्कसंगत

Image Credits: Jagran/Punjab Kesari

September 4, 2019

SHARES

अक्सर पंचायत अपने तुगलकी फरमान जैसे ख़बरों के लिए ही सुर्खियों में रहते हैं, लेकिन इस बार पंचायत के फैसले की खबर आप भी तारीफ करेंगे. अगर आप गाँव में हैं तो अपने गाँव में भी इसकी चर्चा ज़रूर करें. मथुरा के सौंख क्षेत्र में पंचायत ने समाज में व्याप्त कुरीतियों को खत्म करने के लिए सराहनीय फैसला लिया है. जिसकी हर जगह तारीफ हो रही है.मथुरा में आठ पंचायतों ने दहेज पर प्रतिबंध लगाने के साथ साथ ‘श्राद्ध’ कार्य में शराब और मृत्यु के बाद भव्य दावतों का सेवन को रोकने के लिए एक फरमान निकाला है.

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक रविवार को पंचायत की बैठक में शामिल भूमि विकास बैंक के अध्यक्ष चौधरी गोविंद सिंह ने कहा कि इस पहल से न केवल स्थानीय निवासियों को लाभ होगा और उन्हें अतिरिक्त वित्तीय बोझ का सामना करना पड़ेगा, बल्कि सामाजिक वातावरण में भी सुधार होगा. उन्होंने कहा कि सामाजिक दबाव अक्सर लोगों को दहेज देने और भव्य दावत देने के लिए मजबूर करते हैं, लेकिन फिर वे कर्ज चुकाने में सालों लगा देते हैं.

गांव नैनूपट्टी, लोरिहा पट्टी, सींगापट्टी, बछगांव, सौंख देहात के लोगों ने शराब, मत्यु भोज, दहेज प्रथा आदि पर एक मत से रोक लगाने का निर्णय लिया. बीकेएस शिक्षण संस्थान के चेयरमैन सुरेश सिंह ने कहा कि समाज में व्याप्त कुरीतियों पर रोक लगाई जाए.

जिला पंचायत प्रतिनिधि भारत सिंह ने समाज को एकजुट करने की बात कही. इससें पूर्व बैठक में प्रत्येक गांव में पांच सदस्यीय समिति बनाने का निर्णय लिया गया. पंचायत में कहा गया कि लोगों से अपील कर इन कुरीतियों को रोकने के लिए कहा जाएगा.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...