सचेत

नए मोटर व्हीकल एक्ट के भारी भरकम फाइन के साथ साथ अपने अधिकारों का भी ध्यान रखिये

तर्कसंगत

September 5, 2019

SHARES

मोटर व्हीकल ऐक्ट 2019 लागू हो गया है जिससे ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों को भारी जुर्माना भुगतना पड़ेगा. इस एक्ट को बीते महीने ही संसद से मंजूरी मिली है. इन नियमों का उद्देश्य लोगों में ट्रैफिक नियमों को तोड़ने का भय भरना है क्योंकि अभी तक जुर्माने की राशि बहुत कम होती थी जिसकी वजह से लोग 100-50 रुपये थमाकर ट्रैफिक के नियमों को तोड़ना अपनी शान समझते थे.

मगर इसी के साथ हमारे और आपके जैसे लोग ट्रैफिक पुलिस के सामने अपने अधिकार का ज्ञान नहीं होने के कारण ज़्यादा दिक्क्तों से गुज़रते हैं. तर्कसंगत की ये कोशिश है कि आपके मुलभुत अधिकारों की जानकरी आपके साथ साझा करें ताकि अगली बार जब आप ट्रैफिक पुलिस के सामने हों तो ध्यान रहे कि आपकी किसी अज्ञानता का फायदा न उठा रहे हों.

 

इन सब बातों का ध्यान रखें और सजग बनें :

 

1. आपको दंडित करने के लिए ट्रैफिक पुलिस को चालान बुक या ई-चालान मशीन ले जाना आवश्यक है. इनमें से कोई भी होने के बिना, पुलिस आपको दंडित नहीं कर सकती है.

2. यदि आपको ट्रैफिक पुलिस द्वारा रोका जाता है, तो आपको अपने वाहन को रोकना होगा और अधिकारी द्वारा आवश्यक दस्तावेज दिखाने होंगे. याद रखें कि आपको केवल पुलिस को ड्राइविंग लाइसेंस दिखाना आवश्यक  है. मोटर वाहन अधिनियम की धारा 130 में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि किसी भी सार्वजनिक स्थान पर मोटर वाहन के चालक को अगर वर्दी में किसी भी पुलिस अधिकारी द्वारा लाइसेंस माँगा जाता है तो उसे वो देना    होगा.

3. पुलिस आपको सिग्नल जम्प करने, अनुचित पार्किंग, बिना हेलमेट के वाहन चलाने, ओवरस्पीडिंग, वाहन में धूम्रपान, ठीक से नंबर प्लेट का न दिखना, बिना लाइसेंस के वाहन चलाना, बिना पंजीकरण के वाहन चलाना, वैध  बीमा या  वैध पॉल्युशन सर्टिफिकेट बिंबा चलना के लिए दंडित कर सकती है. मोटर वाहन अधिनियम के तहत ये सभी अपराध हैं.

4.  यदि पुलिस अधिकारी रैंक सब-इंस्पेक्टर या उससे ऊपर का अधिकारी है तो आप जुर्माना अदा करके अपराध का निपटारा कर सकते हैं.

5. पुलिस की गैरकानूनी मांगों के आगे कभी नहीं झुकना चाहिए. ट्रैफिक पुलिस को रिश्वत देने का प्रयास न करें. ऐसी स्थिति होने पर उनका बकल नंबर और उसका नाम नोट करें. यदि वह बकल नहीं पहने हुए है, तो   उससे उसका पहचान पत्र मांगें. यदि वह आपको अपना पहचान पत्र देने से इंकार करता है तो आप उसे दस्तावेज देने से मना कर सकते हैं.

6. अगर आप बिना लाइसेंस या परमिट के गाड़ी चला रहे हैं तो पुलिस आपके वाहन को रोक सकती है. अगर यह पंजीकृत नहीं है तो भी पुलिस आपके वाहन को रोक सकती है.

7. बिना वैध रसीद के ट्रैफिक पुलिस आपका ड्राइविंग लाइसेंस नहीं छीन सकती है. यदि आप ड्राइविंग करते समय लाल बत्ती, ओवरलोडिंग, नशे में ड्राइविंग और मोबाइल फोन का उपयोग करते हैं तो आपका ड्राइविंग  लाइसेंस जब्त किया जा सकता है.

8. जब तक आप अपनी गाड़ी में बैठे हैं, ट्रैफिक पुलिस आपकी कार को टो नहीं कर सकती है. इससे पहले कि वे आपकी कार को टो कर सकें, आपको अपना वाहन खाली करना होगा.

9. यदि आपको अपराध के लिए ट्रैफिक पुलिस द्वारा हिरासत में लिया जाता है, तो आपको ट्रायल के लिए 24 घंटे के भीतर मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जाना चाहिए.

10. यदि ट्रैफिक पुलिस आपको परेशान करती है तो आप पुलिस को पूरी घटना के विवरण को बताते हुए शिकायत दर्ज कर सकते हैं.

 

यदि कोई अभियोजन पर्ची या चालान आपको जारी किया जाता है, तो सुनिश्चित करें कि उसमें निम्नलिखित विवरण हों-

1.अदालत का नाम और पता जहां मुक़दमा चलाया जाएगा
2. किए गए अपराध का विवरण
3. मुकदमे की तारीख
4. वाहन की सूचना
5. अपराधी का नाम और पता
6. चालान करने वाले अधिकारी का नाम और हस्ताक्षर
7. रखे गए दस्तावेजों का विवरण

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...