सप्रेक

इस टीचर ने मानसून के वक़्त बच्चों की मदद के लिए ये उपाय निकाला

तर्कसंगत

Image Credits: Indian Express

September 27, 2019

SHARES

बारिश के दिनों में छात्रों को स्कूल जाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए, तमिलनाडु के नागापट्टिनम जिले के एक प्राथमिक विद्यालय की शिक्षिका ने आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के लोगों के बच्चों को एक हजार छतरियां वितरित कीं।

वसंता चित्रवेलु ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया “जिस क्षेत्र में मेरा स्कूल स्थित है, वहाँ समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) के परिवार हैं, जिनमें ज़्यादातर माँ बाप श्रमिकों और कुलियों के रूप में काम करते हैं। ऐसे लोग अपने बच्चों को उचित मानसून वस्त्र और चीज़ें देने में असमर्थ रहे हैं। मैंने उनका बोझ बांटने का फैसला किया और जिले के स्कूली बच्चों को छतरियां वितरित कीं। ” नागापट्टिनम में वेदारण्यम शहर के पास अंधराकाडू गांव में सुंदरेसा विलास एडेड प्राइमरी स्कूल की सहायक अध्यापिका हैं।

वसंता ने कहा कि उन्होंने अक्सर मानसून के मौसम में छात्रों को स्कूल छोड़ते देखा है, क्योंकि बारिश से खुद को बचाने के लिए उनके पास छाते या रेनकोट नहीं थे, जिससे अंत में उनकी पढ़ाई प्रभावित होती है।

“मैं पिछले 28 वर्षों से अपने विद्यालय में छात्रों को पढ़ाकर अपने लिए एक आय अर्जित कर रही हूँ। मैंने फैसला किया कि मुझे अपने वेतन के साथ बच्चों के लिए भी कुछ करना है और इसके बाद छतरियों को वितरित करने के बारे में सोचा; न केवल मेरे छात्रों के लिए बल्कि उन सभी स्कूली बच्चों के लिए जो चक्रवात गाजा से प्रभावित थे ” उन्होनें कहा।

 

Tamil Nadu school, Tamil Nadu teacher, School umbrellas

वसंता ने कहा कि उनकी परियोजना के अगले चरण में स्कूली छात्रों को रेनकोट का वितरण शामिल होगा।

प्राथमिक विद्यालय की शिक्षिका ने कहा कि उन्होनें अपनी बचत से 1 लाख रूपये 1000 छतरियों की खरीद पर खर्च की। उन छतरियों को बाद में नागपट्टिनम और तिरुवरूर जिलों के 16 स्कूलों के 1,000 छात्रों को वितरित किया गया।

वसंता की दोनों बेटियां  MBBS स्नातक हैं, वसंता पिछले 28 वर्षों से स्कूल में कक्षा 1 से 5 तक के छात्रों को पढ़ा रही हैं।

वसंता ने कहा कि वह और उनके पति, वी. चित्रवेलु, जो कि पास के ज्ञानंबिका एडेड प्राइमरी स्कूल के हेडमास्टर के रूप में काम करते हैं, हमेशा से ही समाज सेवा और शिक्षण के बारे में भावुक रहे हैं। “मैं उन छात्रों के लिए भी हफ्ते के अंत में विशेष कक्षाएं लेती हूँ, क्लास के हिसाब से पढाई पूरी नहीं कर रहे होते हैं. मैं ये भी सुनिश्चित करती हूँ कि मैं उनके माता-पिता की भी मदद कर सकूं। इसके अलावा, मैं बहुत सारी सामाजिक सेवाओं में संलग्न हूं, ”वसंता ने कहा।

इसके अलावा, उन्होनें और उनकी बेटियों ने 2018 में चक्रवात गाजा के दौरान नागपट्टिनम और तिरुवरूर में राहत कार्य के लिए धन जुटाने में मदद की थी।

वसंथा के काम ने वेदारण्यम में लोगों से उनके सद्भाव और सम्मान को बढ़ाया है। उन्हें विभिन्न पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है।

 

Tamil Nadu school, Tamil Nadu teacher, School umbrellas

 

नागपट्टिनम में स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने कहा कि उन्हें गर्व है कि इस पहल के पीछे उनके जिले की एक शिक्षिका का चेहरा है। नागपट्टनम के मुख्य शिक्षा अधिकारी (सीईओ) के के गुनसेकरन ने कहा, “श्रीमती वसंता अक्सर कहती हैं कि यह बच्चों की वजह से है कि आज उनके पास नौकरी है। उनके ब्लॉक में बच्चों के माता-पिता रूढ़िवादी श्रमिकों के रूप में काम करते हैं। जब हम कोई फंक्शन या भोजन का आयोजन करते हैं, तो बच्चे कभी नहीं आते हैं। हम ही अक्सर उनके घरों में जाते हैं और सुबह 11 बजे तक उन्हें स्कूल लाते हैं, लेकिन मानसून के मौसम में यह संभव नहीं है। इसी कारण से वसंता ने मुफ्त छाते बांटने का सोचा। ”

सीईओ ने यह भी कहा कि वसंता एक ईमानदार और कड़ी मेहनत करने वाली शिक्षिका थीं, जो अपने परिवार के साथ हमेशा सामाजिक कार्यों में शामिल रही हैं। गनसेकरन ने कहा, “चक्रवात गाजा के दौरान भी, उन्होंने प्रभावित लोगों के लिए राहत सामग्री वितरित की थी”।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...