सचेत

इस डॉक्टर ने खोजा मात्र 50 रुपये में गले के कैंसर का इलाज

तर्कसंगत

September 30, 2019

SHARES

डॉक्टर भगवान का रुप होते हैं, ये तो हम सभी जानते हैं| हम जब किसी फिज़िकल,मेन्टल अदि प्रॉब्लम्स से जूझ रहे होते हैं, तो हम सभी डॉक्टर के पास जातें हैं। आज महंगाई इतनी बढ़ गयी है कि आम आदमी को कैंसर जैसी घातक बिमारी का इलाज करना आसान नही है।
इस बात को ध्यान में रखते हुए डॉ विशाल राव ने ऐसे यंत्र की खोज की है, जिससे गले के कैंसर से पीड़ित लोग सर्जरी के बाद भी ठीक से बोल सकते हैं और इस यंत्र की क़ीमत है केवल 50 रूपये।

डॉ. राव एक ओंकोलोजिस्ट हैं और बंगलूरू में हेल्थ केयर ग्लोबल (HCG) कैंसर सेंटर में सिर और गले की बीमारियों के सर्जन हैं| आम तौर पर गले के प्रोस्थेसीस की किमत 15-30 हज़ार होती जिसे हर 6 महिने मे बदलना पड़ता है| वहीँ डॉ विशाल राव  ने अपनी सूझ-बूझ से ऐसे यन्त्र की खोज की है, जिसकी कीमत मात्र 50 रुपए है।

 

Image result for डॉ विशाल राव

 

वोइस प्रोस्थेसीस उपकरण सिलिकॉन से बना है। जब मरीज़ का पूरा वोइस बॉक्स या (larynx) निकाला जाता है, तब ये यंत्र उन्हें बोलने में मदद करता है। सर्जरी के समय या उसके बाद विंड पाइप और फ़ूड पाइप को अलग करके थोड़ी जगह बनायी जाती है। ये यंत्र तब वहां लगाया जाता है। डॉ विशाल राव ने सूत्रों को बताया कि फेफड़े से आनेवाली हवा से वौइस् बॉक्स में तरंगे उत्सर्जित होती है। प्रोस्थेसीस की मदद से फ़ूड पाइप में वाइब्रेशन पैदा होती है, जिससे बोलने में मदद मिलती है।

डॉ विशाल राव  का कहना है कि अगर आप फ़ूड-पाइप की मदद से लंग्स में हवा (ऑक्सीजन) भर दे, तो वहां कंपन और आवाज़ पैदा करके, दिमाग उसे संदेश में परिवर्तित करता है। यंत्र एक साइड से बंद होता है, जिससे अन्न या पानी फेफड़े में नहीं फैलता। इस यंत्र की लम्बाई 2.5 cm वजन और 25 ग्राम है। डॉ विशाल राव  ने कर्नाटक के एक मरीज जो अर्थिक रुप से कमजोर था, उसे देखते हुए इस सस्ते यन्त्र की खोज करने का सोचा।

 

Image result for डॉ विशाल राव

 

डॉ विशाल राव  ने इस यंत्र की कल्पना कर ली थी पर उसे बनाने के लिए उनके पास तंत्रिय ज्ञान नही था। डॉ विशाल राव  और शशांक जो कि उनके दोस्त और एक उद्योगपति थे। दोनो ने एक दूसरे की मदद से इस यंत्र का अविष्कार करने में सफलता हासिल की।

आवाज हर इन्सान का गहना होती है गले के कैंसर की वजह से कोई मरीज़ सिर्फ इसलिये अपनी आवज़ ना खो सके क्यों की वो गरीब है, डॉ विशाल राव  ने इस यन्त्र की खोज कर के गरीबों के जीवन मे एक नई उमंग भर दी है।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...