सचेत

टी बैग से अगर चाय पीते हैं तो रहे सावधान !!!

तर्कसंगत

Image Credits: Amar Ujala

September 30, 2019

SHARES

अगर आप भी टी बैग वाली चाय का सेवन करते हैं तो यह खबर आपके लिए है और आपको सावधान हो जाने की जरूरत है। प्लास्टिक टी बैग आपके पेय पदार्थ में सूक्ष्म या नैनो आकार के लाखों कणों को पहुंचा सकता है। एक अध्ययन में ऐसा दावा किया गया है । ‘एनवायरोमेंटल साइंस एंड टैक्नोलॉजी’ पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में कहा गया है कि इन सूक्ष्म कणों के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले असर का पता फिलहाल नहीं चल पाया है।

टी बैग को पारंपरिक पेपर की जगह प्लास्टिक से बनाया जा रहा है और यह बेहद आम हो गए हैं। टी बैग में मौजूद यह पार्टिकल माइक्रो और नैनो आकार के होते हैं और इंसानी बालों से भी 750 गुना छोटे होते हैं। शोधकर्ताओं ने पाया कि टी बैग में मौजूद प्लास्टिक की वजह से पानी में मौजूद जीवाणु असामान्य तरीके से पनपते हैं और अजीब व्यवहार करते हैं। हालांकि, माइक्रो और नैनोप्लास्टिक से इंसान के स्वास्थ्य पर पड़ रहे प्रभाव के बारे में अभी खास जानकारी मौजूद नहीं है। कनाडा की मैकगिल विवि की रसायन इंजीनियर लाउरा हरनानडेज ने चार अलग तरह के टी बैग कॉफी स्टोर और दुकानों से खरीदे और उनका विश्लेषण किया।

कनाडा में मैकगिल विश्वविद्यालय के शोधार्थियों ने पर्यावरण, जल और खाद्य श्रृंखला में मौजूद अति सूक्ष्म कणों का पता लगाया, लेकिन अभी यह ज्ञात नहीं है कि क्या इंसानों के लिए ये हानिकारक होते हैं।

शोधार्थी नताली तूफेंकजी और उनके सहयोगी जानना चाहते थे कि क्या प्लास्टिक टी बैग पेय पदार्थ में अति सूक्ष्म कण छोड़ते हैं। अपने विश्लेषण के लिए शोधार्थियों ने चार अलग-अलग तरह के टी बैग खरीदे । उन्होंने पैकेट से चायपत्ती निकालकर उसे धो दिया और उसके बाद प्रयोग किया। इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोपी का इस्तेमाल करने पर टीम को पता चला कि एक प्लास्टिक टी बैग चाय उबालने के तापमान पर पानी में करीब 11.6 अरब माइक्रोप्लास्टिक और 3.1 अरब नैनोप्लास्टिक कण छोड़ता है।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...