ख़बरें

एसबीआई में खाता है, तो जान लें क्या क्या नियम आज से बदल गए

तर्कसंगत

October 1, 2019

SHARES

अगर आपका खाता देश के सबसे बड़े बैंक, यानी भारतीय स्टेट बैंक में है, तो यह ख़बर आपके लिए बेहद अहम है, क्योंकि आज, यानी 1 अक्टूबर, 2019 से बैंक ने विभिन्न प्रकार की सेवाओं पर लगने वाले सेवा शुल्क, यानी सर्विस चार्जेज़ में कई तरह के बदलाव किए हैं.

 

औसत मासिक बैलेंस कम हो जाने पर जुर्माना

 

  • भारतीय स्टेट बैंक की शहरी क्षेत्रों में खाताधारकों के औसत मासिक बैलेंस की सीमा को 5,000 रुपये से घटाकर 3,000 रुपये कर दिया गया है. इन शाखाओं में यदि खाताधारकों का औसत मासिक बैलेंस तय की गई रकम से 50 फीसदी तक कम रह जाता है, तो ग्राहक को 10 रुपये का जुर्माना तथा उस पर लगने वाला GST चुकाना होगा. यदि इन शाखाओं में किसी खाताधारक का बैलेंस तय की गई राशि से 50 से 75 फीसदी तक कम हो जाता है, तो उक्त ग्राहक को 12 रुपये का जुर्माना तथा GST चुकाना होगा. इन खातों में AMB के 75 फीसदी से भी कम हो जाने पर खाताधारक को 15 रुपये का जुर्माना तथा GST चुकाना होगा.

 

  • अर्ध शहरी क्षेत्रों में औसतन मासिक बैलेंस 2,000 रुपये है. अगर खाताधारक अपने खाते में औसतन मासिक बैलेंस से 50 फीसदी कम बैलेंस रखते हैं तो इसके लिए उन्हें 7.50 रुपये + जीएसटी के रूप में चार्ज में देना होगा. इसी प्रकार में 50 से 75 फीसदी तक रकम रखने पर 10 रुपये + जीएसटी और 75 फीसदी से कम रकम रखने पर 12 रुपये + जीएसटी चार्जेबल होगा.

 

  • ग्रामीण क्षेत्रों में न्यूनतम औसत बैलेंस 1,000 रुपये होना चाहिए. अगर खाताधारक अपने खाते में औसनत मासिक बैलेंस से 50 फीसदी कम बैलेंस रखते हैं तो इसके लिए उन्हें 5 रुपये + जीएसटी के रूप में चार्ज में देना होगा. इसी प्रकार में 50 से 75 फीसदी तक रकम रखने पर 7.5 रुपये + जीएसटी और 75 फीसदी से कम रकम रखने पर 10 रुपये + जीएसटी चार्जेबल होगा.

 

NEFT और RTGS ट्रांसफर

 

  •  डिजिटल माध्यमों से NEFT तथा RTGS के ज़रिये किए जाने वाले लेन-देन कतई निःशुल्क रहेंगे, लेकिन बैंक की शाखाओं में जाकर इस तरह का लेन-देन करने पर शुल्क वसूला जाएगा. 10,000 रुपये तक के NEFT ट्रांज़ैक्शन पर ग्राहक को 2 रुपये तथा GST चुकाना होगा.

 

  • 10,000 रुपये से 1,00,000 रुपये तक के NEFT ट्रांज़ैक्शन पर 4 रुपये तथा GST देना होगा. 1,00,000 रुपये से 2,00,000 रुपये तक के NEFT ट्रांज़ैक्शन पर ग्राहक को 12 रुपये तथा GST चुकाना होगा, तथा 2,00,000 रुपये से अधिक के NEFT ट्रांज़ैक्शन पर खाताधारक को 20 रुपये तथा GST अदा करना होगा.

 

पैसे जमा करने और निकालने के चार्ज

 

  • SBI के खाताधारकों के लिए एक माह में 3 बार अपने सेविंग अकाउंट में कैश डिपॉजिट (Cash Deposit) करने पर कोई चार्ज नहीं देना होगा. इसके बाद प्रत्येक डिपॉजिट पर 50 रुपये + जीएसटी अतिरिक्त शुल्क के रूप में देना होगा.

 

  • जिस शाखा में खाता नहीं है, उसमें नकदी जमा की अधिकतम सीमा 2,00,000 रुपये प्रतिदिन होगी. इसके बाद उस शाखा (जहां ग्राहक का खाता नहीं है) का प्रबंधक यह तय करेगा कि बैंक उस रकम को जमा करेगा या नहीं.

 

  • इस बीच, जिन खाताधारकों का औसत मासिक बैलेंस, यानी AMB 25,000 होगा, वे महीने में दो बार शाखा से निःशुल्क नकदी निकाल सकेंगे. जिनका AMB 25,000 से 50,000 के बीच होगा, वे ग्राहक हर महीने अपनी शाखा से 10 बार निःशुल्क नकदी निकाल सकेंगे. नकद निकासी की निःशुल्क सीमा के बाद हर ट्रांज़ैक्शन पर 50 रुपये तथा GST वसूला जाएगा.

 

 

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...