ख़बरें

मुज़्ज़फरपुर: नाबालिग के साथ पहले बलात्कार फिर पंचायत ने लिया और भी शर्मनाक फैसला

तर्कसंगत

Image Credits: Dailyhunt

November 13, 2019

SHARES

बिहार के मुजफ्फपुर से हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है. जो हैरानी से ज़्यादा हमें शर्मसार होने को मजबूर करता है यहां पुलिस ने कहा है कि वो एक ऐसे मामले की जांच कर रही है, जहां 15 साल की लड़की को स्थानीय पंचायत के आदेश पर उसके शिशु को बेचने के लिए मजबूर किया गया. नाबालिग लड़की ने पिछले महीने ही बच्चे को जन्म दिया है. पंचायत ने बच्चे को बेचने से प्राप्त होने वाली राशि को पीड़िता को “मुआवजे” के तौर पर देने को कहा.

एक मौलवी और एक इलैक्ट्रीशियन ने नाबालिग का रेप किया था. दरअसल, नाबालिग बच्ची के पिता का पता लगाने के लिए डीएनए टेस्ट (DNA test) की मांग लेकर पंचायत पहुंची थी. पंचायत ने कथित रूप से लड़की को बलात्कार के लिए दोषी ठहराया और आदेश दिया कि वह अपने बच्चे को 20,000 रुपए में बेच सकती है.

पीड़िता के साथ कथित रूप से मौलवी द्वारा बलात्कार किया गया था जब वह मस्जिद गई थी. आरोपी ने इस आपराधिक कृत्य का वीडियो भी बनाया और नाबालिग लड़की को ब्लैकमेल करने के लिए इसका इस्तेमाल किया. बाद में एक स्थानीय इलेक्ट्रिशियन को इस मामले के बारे में पता चला और उसने भी लड़की के साथ बलात्कार किया. नाबालिग लड़की एक गरीब परिवार से है और अनपढ़ है.

टाइम्स नाउ की रिपोर्ट के अनुसार 3 जुलाई को दर्ज कराई गई शिकायत में पीड़िता ने कहा, ‘उसने मुझे घटना के बारे में किसी को नहीं बताने के लिए 15 रुपए दिए. एक अन्य व्यक्ति जो इलेक्ट्रीशियन है, उसने शादी के बहाने जनवरी और फरवरी के महीने के बीच मेरा बलात्कार किया. बाद में उसने मुझसे शादी करने से इनकार कर दिया. मैं छह महीने की गर्भवती हूं. मैं आपसे दोनों दोषियों को दंडित करने का अनुरोध करती हूं.’

 

तर्कसंगत का तर्क

आज के समाज में हम जब नारी को बराबर सम्मान और सुदृढ़ शक्ति देने की बात करते हैं, जब किसी भी परेशानी में हम अपने घर के या समाज के बड़े बुज़ुर्ग की और नज़र उठाते हैं ऐसे वक़्त में किसी पंचायत का ऐसा घिनौना फैसला निश्चित ही आने वाले अच्छे समय की संकेत नहीं देता. तर्कसंगत ये उम्मीद करता है कि पुलिस इस मामले में सबसे पहले ऐसी पंचायत को भंग करे और पीड़िता को न्याय दिलाये.

 

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...