ख़बरें

ऑडियो वायरल: सुनिए कैसे बरेली में पराली जलाने की शिकायत करने पर एसएचओ ने विकलांग शिकायतकर्ता को ही धमकाया

तर्कसंगत

Image Credits: SaddamH/Twitter/Krishi Jagran

November 15, 2019

SHARES

उत्तर प्रदेश के बरेली में ट्विटर पर पुलिस से प्रदूषण की शिकायत करने वाले एक युवक को पुलिस ने राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून के तहत जेल भेजने की धमकी दी है. पीड़ित युवक ने थाना शीशगढ़ के एसएचओ का कथित ऑडियो ट्विटर पर वायरल किया है. बरेली पुलिस अब इस मामले की जांच कर रही है. इरशाद ख़ान नाम के क़ानून के एक छात्र ने यूपी पुलिस को टैग करते हुए एक वीडियो ट्वीट किया था. इस ट्वीट में उन्होंने शिकायत की थी कि उनके पड़ोस में पराली जलाई जा रही है जिससे प्रदूषण हो रहा है.

ट्वीट का संज्ञान लेते हुए यूपी पुलिस ने स्थानीय पुलिस से कार्रवाई करने के लिए कहा था. लेकिन स्थानीय थाने की पुलिस ने क़ानूनी कार्रवाई करने के बजाए युवक को ही धमका दिया. आरोप है कि एसएचओ ने छात्र को फ़ोन किया और राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून के तहत जेल में डाल देने की धमकी दी. इस ऑडियो में ये साफ़ साफ़ सुना जा सकता है कि एसएचओ किस प्रकार शिकायकर्ता पर ही जम कर बरस पड़े और उसे न आने पर गाड़ी भेज कर ठूँस कर थाने लाने की बात की.

उन्होंने उससे ये भी कहा कि ट्वीट करने से पहले उसे उनसे पूछना चाहिए था. थानेदार यहीं नहीं रुके बल्कि छात्र की क़ानूनी पढ़ाई बाहर निकाल देने की धमकी तक दे डाली. बरेली के एसपी (ग्रामीण) संसार सिंह ने तर्कसंगत को बताया है कि इस मामले की जांच की जा रही है. उन्होंने कहा कि 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के मद्देनज़र पुलिस सोशल मीडिया पर निगरानी कर रही थी.

एसएचओ ने इस ग़लतफ़हमी में उस छात्र को कॉल कर दिया कि उसने अदालत के फ़ैसले के विषय में ट्वीट किया है. बाद में उन्हें अपनी ग़लती का अहसास हुआ. संसार सिंह का कहना है, “मामले की जांच की जा रही है और आवश्यक कार्रवाई की जाएगी.” उन्होंने ये भी कहा कि एसएचओ ‘अदरवाइज़ अच्छे आदमी हैं’ और उन्होंने ग़लतफ़हमी में ये कॉल कर दिया.

हाल के दिनों में पराली जलाए जाने से प्रदूषण फ़ैलने का मुद्दा गर्माया हुआ है.राज्य सरकारों ने पराली जलाने पर प्रतिबंध लगा दिया है. बावजूद इसके कई इलाक़ों में पराली जला रहे हैं. छात्र इरशाद ख़ान का कहना है कि उन्होंने पर्यावरण के प्रति जागरुकता फैलाने के उद्देश्य से कॉल किया था.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...