सप्रेक

14 साल की उम्र में शादी मगर अपने दम पर 40 सेल्फ हेल्प ग्रुप बनाये, नीति आयोग ने सराहा

तर्कसंगत

November 15, 2019

SHARES

नीलिमा चतुर्वेदी का जीवन एक दुर्भाग्यपूर्ण समय से गुज़रा था जब उनकी 14 साल के उम्र में विवाह करवा दी गयी थी. उनकी गृहस्थी उतनी समय और सरल नहीं थी जितनी होनी चाहिए थी. वो घरेलू हिंसा की भी शिकार थी. 20 साल की उम्र में उन्हें सेल्फ हेल्प ग्रुप का पता चला और खुद इसके बाद उन्होनें खुद एक ऐसे ही समूह को बनाने का फैसला किया. कुछ और महिलाओं को साथ लेकर उन्होंने कोरिया महिला गृह आयोग की स्थापना की. इनका प्रथम पड़ाव बुनाई मशीन के लिए बैंक से लोन लेना था. 2001 में एक राजकीय प्रदर्शनी में इस समूह ने 5000 स्वेटर बेचे जिसके बाद उन्हें पास के स्कूल और गाँव से आर्डर मिलने लगे. बढ़ती लोकप्रियता और मांग को देखकर इन्होनें फिर चटनी और सजावटी चीज़ें बनाना शुरू कर दिया जिसकी बिक्री छत्तीसगढ़ की राजधानी, रायपुर, में राज्योत्सव के दौरान हुई. 

इस मौके का पूरा लाभ उठाते हुए आगे चल कर उन्होएँ 40 और सेल्फ हेल्प ग्रुप बन गए. जिला कलेक्टर की सलाह पर KGMU नामक एक बड़ी समिति जनकपुर में बनी जिसमे और भी समूह शामिल हुए. पास के गाँव में से तकरीबन 500 महिलाओं ने समिति में काम करना शुरू किया और इन्होने पापड़, अचार, मसाले, हल्दी, धनिया और कई घरेलु पदार्थ का वितरण आरम्भ किया, जिसको वह कोरिया महिला किरण दुकान के नाम से बेचती थीं. ऐसी ही प्रतिभाशाली नारियों को नीति आयोग द्वारा सम्मान दिलवाने के लिए यहाँ रजिस्टर करें. नामांकन करने की अंतिम तारीख 17 नवंबर 2019 है.



इनके इस धैर्य ने गाँव की महिलाओं को रोज़गारी दी है और इनको आत्मनिर्भर भी बनाया है. नीलिमा अब KGMU की प्रेसिडेंट हैं और उनका अगला कार्य श्रमिकों को भोजन सुरक्षा के बारे में अवगत करना है. वो अपने सहायक कर्मियों को FSSAI के नियमों के हिसाब से स्वस्थ, शुद्ध खाद्य सामग्री बनाने के लिए प्रशिक्षण देना चाहती हैं. नीलिमा अब FSSAI सर्टिफिकेशन की तरफ बढ़ने जा रही हैं. इनको अपने काम के लिए निति आयोग से मान्यता भी प्राप्त हुई है. अगर आप भी ऐसी एक मिसाल को जानते हैं, तो आप उसका नाम आगे बढ़ा सकते हैं.

नीलिमा को उनकी इस पहल के लिए बीते साल भारत सरकार की नीति आयोग ने  वीमेन ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया अवार्ड से  पुरस्कृत किया है. अगर आप भी ऐसी किसी महिला को जानते हैं या आप खुद किसी न किसी तरह से एक बेहतर भारत के निर्माण में सहयोगी हैं तो इस लिंक पर रजिस्टर करें.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...