सप्रेक

तेलंगाना में खुला बच्चों के लिए चाइल्ड फ्रेंडली पुलिस स्टेशन

तर्कसंगत

November 19, 2019

SHARES

तेलंगाना के बच्चों को समर्पित पहले पुलिस थाने का मेडिपल्ली में उद्घाटन किया गया। इस आयोजन में बचपन बचाओ आंदोलन (बीबीए) के संस्थापक नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी भी मौजूद थे। यह थाना बीबीए के साथ संयुक्त तत्वावधान में स्थापित किया गया है।

 

 

एक आधिकारिक विज्ञप्ति में बताया गया कि बीबीए पुलिसकर्मियों को राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग द्वारा दिए गए दिशानिर्देशों से अवगत कराने और बच्चों के अनुकूल पुलिस थाने स्थापित करने के लिए प्रशिक्षण देगा। बाल संबंधी विषयों में पुलिस की भूमिका को रेखांकित करते हुए संगठन ने हितधारकों को इस बात की जानकारी दी कि सताए हुए बच्चों के साथ व्यवहार करते समय किसी भी प्रक्रियात्मक प्रावधान का उल्लंघन नहीं होना चाहिए।


Telangana child friendly police station


उद्घाटन समारोह में राचकोंडा के पुलिस आयुक्त महेश एम भागवत ने राज्य के पहले बच्चों के लिए अनुकूल पुलिस थाने के निर्माण में बीबीए की भूमिका और प्रयासों की प्रशंसा की। बीबीए की सहायता से बने बच्चों के लिए अनुकूल पुलिस थाने की दीवारों को चित्रों से सजाया गया था। बच्चों को पुलिस थाने में सुविधा हो इसके लिए थाने में वाटर कूलर और बिस्तर उपलब्ध हैं। इसके अलावा पुस्तकें और खिलौने भी उपलब्ध कराए गए हैं।

इस पुलिस स्टेशन का उद्घाटन 7 साल के डी ईशान ने किया है. ईशान को लाइफ़टाइम डिज़ीज़ है. ईशान को बड़े होकर पुलिस कमिश्नर बनना था, यही वजह है कि उससे यहां का उद्घाटन कराया गया.


child police station


बीबीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी समीर माथुर ने कहा, “बच्चों के लिए अनुकूल पुलिस थाने यह सुनिश्चित करने में अहम भूमिका निभाते हैं कि प्रत्येक बच्चे को सही और समय पर न्याय मिल सके। ऐसे पुलिस थाने अनुकूल वातावरण मुहैया कराते हैं और बच्चों से संबंधित अपराध दर्ज किए जाने को प्रोत्साहित करते हैं।”

इसी दिन एक अलग कार्यक्रम में, बीबीए ने राज्य के कानूनी सेवा प्राधिकरण के साथ मिलकर भवन स्कूल, नीरडपेट में, लापता बच्चों के मुद्दे पर बच्चों को जागरूक करने के लिए वर्कशॉप आयोजित किया। इसके लिए, 2000 बच्चों ने मानव श्रृंखला बना कर इस मुद्दे के खिलाफ एकजुटता दिखाई।

 

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...