ख़बरें

गृह मंत्रालय ने इन विधायक जी की नागरिकता रद्द कर दी, जानिए क्यों

तर्कसंगत

November 21, 2019

SHARES

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने तेलंगाना में सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के विधायक रमेश चेन्नामनेनी के पास दूसरे देश का पासपोर्ट होने के आधार पर उनकी भारतीय नागरिकता रद्द कर दी है. गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि चेन्नामनेनी के पास जर्मन पासपोर्ट होने की पुष्टि होने के बाद यह कार्रवाई की गयी है.

अब तक मिली जानकारी के मुताबिक तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश करने के चलते तेलंगाना के विधायक रमेश चेन्नामनेनी की नागरिकता रद्द की गई है. पीटीआई की खबर के मुताबिक चेन्नामनेनी ने अपनी विदेश यात्राओं को लेकर झूठे तथ्य पेश किए थे जिनके चलते उनकी नागरिकता रद्द कर दी गई है. यह जानकारी पिछले 12 महीनों में की गई उनकी विदेश यात्राओं से जुड़ी थी जो उन्होंने भारतीय नागरिकता प्राप्त करने के लिए अपने आवेदन से तुरंत पहले की थीं. चेन्नामनेनी ने एक उपचुनाव सहित तीन बार विधानसभा चुनाव जीता है. चेन्नामनेनी के एक राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी ने टीआरएस विधायक के जर्मन पासपोर्ट धारक होने के आधार पर आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय में उनके निर्वाचन को चुनौती दी थी.

 

पूरा मामला

अपने 13 पन्ने के आदेश में मंत्रालय ने कहा कि सक्षम प्राधिकार ने विभिन्न पहलुओं पर विचार किया जैसे कि चेन्नामनेनी मौजूदा विधायक हैं और कोई आपराधिक अतीत नहीं है या उनके खिलाफ अपराध का कोई मामला दर्ज नहीं है. वह आतंकवाद, जासूसी, गंभीर संगठित अपराध या युद्ध अपराध जैसी किसी गतिविधि में संलिप्त नहीं रहे हैं.

गृह मंत्रालय ने एक आदेश में कहा कि उन्होंने गलत बयानी करते हुए या तथ्य छिपाकर फैसला लेने में भारत सरकार को गुमराह किया. अगर, उन्होंने ये तथ्य बताया होता कि वह आवेदन करने के पहले एक साल भारत में नहीं रह रहे थे तो इस मंत्रालय में सक्षम प्राधिकार उन्हें नागरिकता प्रदान नहीं करता. मंत्रालय ने कारण बताया कि अगर विधायक के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गयी तो यह परिपाटी बन जाएगी और ऐसे कई लोग तथ्य छिपाकर और भारत सरकार को गुमराह कर भारतीय नागरिकता हासिल कर सकते हैं।

 

अदालत जायेंगे रमेश चेन्नामनेनी

रमेश ने कहा कि गृह मंत्रालय ने नागरिकता अधिनियम को ध्यान में रखते हुए उनकी याचिका पर विचार करने के लिए उच्च न्यायालय के निर्देशों की अनदेखी की थी. टीआरएस नेता की नागरिकता 2017 में रद्द कर दी गई थी क्योंकि एक भाजपा नेता ने दावा किया था कि वह जर्मन नागरिक था.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...