ख़बरें

महाराष्ट्र: 3 दिन 8 घंटे में सरकार गिरी, अजित के बाद फडणवीस का भी इस्तीफा, बने रहेंगे केयरटेकर सीएम

तर्कसंगत

Image Credits: Maharashtra Today/Hindustan Times/Wikimedia

November 26, 2019

SHARES

महाराष्ट्र के चुनावी घटनाकर्म ने एक नया मोड़ ले लिया है, देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने की घोषणा की, इसके पहले अजीत पवार ने भाजपा गठबंधन से समर्थन वापस ले लिया।

फड़नवीस ने कहा “अजीत पवार के डिप्टी सीएम के पद से इस्तीफा देने के बाद हमारे पास बहुमत नहीं है। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद, गवर्नर के पास जाऊंगा और अपना इस्तीफा सौंपूंगा ,सरकार बनने के लिए मेरी शुभकामनाएं” आज सुबह सुप्रीम कोर्ट ने अपने निर्णय में कहा कि कल शाम 5 बजे तक फडनवीस सरकार सदन में बहुमत साबित करे जिसका प्रसारण लाइव हो एवं वीडियो रिकॉर्डिंग भी की जाए. साथ ही राज्‍यपाल से कहा गया कि वो प्रोटेम स्‍पीकर की नियुक्‍ति करें. 

शपथ ग्रहण के तीन दिन बाद ही अजीत पवार ने महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। सुप्रीम कोर्ट के आदेश देने के कुछ घंटों बाद इस्तीफा दिया गया कि 27 नवंबर, बुधवार को महाराष्ट्र विधानसभा में फ्लोर टेस्ट आयोजित किया जाए।

महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फड़नवीस को महाराष्ट्र विधानसभा में बहुमत साबित करना था। हालांकि, शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के 160 विधायकों और कांग्रेस विधायकों ने सोमवार को संबंधित दलों के प्रति अपनी निष्ठा बनाये रखने का संकल्प जताया। विधायकों के समर्थन का मतलब था कि फडणवीस बहुमत साबित नहीं कर पाएंगे।

इस बीच, अजीत पवार को भी 25 नवंबर को अपने कार्यकाल के दौरान सिंचाई परियोजनाओं से जुड़े 3000 करोड़ के घोटालों के मामलों में से नौ में क्लीन चिट दे दी गयी।

इसके पहले शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे ने कहा कि उद्धव ठाकरे की पार्टी के नेतृत्व वाले गठबंधन के पास महाराष्ट्र विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए 162 विधायकों का समर्थन है और ऐसे में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को अपने पद से इस्तीफा देना चाहिए।

जब तक की कोई दुसरी पार्टी अपनी सरकार नहीं बनती देवेंद्र फडनवीस कार्यवाहक मुख्यमंत्री बने रहेंगे।

 

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...