ख़बरें

झारखण्ड की राजधानी के लॉ यूनिवर्सिटी की छात्रा का 12 लोगों ने किया रेप, पुलिस न सभी को गिरफ्तार किया

तर्कसंगत

Image Credits: Patrika

November 29, 2019

SHARES

नवंबर 30 तारीख को झारखंड विधानसभा के पहले चरण का चुनाव होना है. सभी पार्टियों ने अपने घोषणापत्र जारी कर दिए हैं. सबने वादा किया है कि राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति बेहतर करेंगे. चुनावी समर में चुस्त दुरुस्त व्यवस्था के बीच झारखंड की राजधानी रांची में एक गैंगरेप की घटना ने सनसनी फैला दी. पुलिस ने सभी 12 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है और इस दौरान इस्तेमाल की गई दो पिस्टल सहित अन्य सामान भी बरामद कर लिया है.

आरोपियों ने एक यूनिवर्सिटी की छात्रा के साथ गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया है. बस स्टॉप पर खड़ी छात्रा को हथियार के बल पर अगवा कर पहले छह अपराधियों ने सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया, इतने पर ये हैवान नहीं माने अपने दूसरे छह साथियों को भी गैंगरेप के लिए बुला लिया. छात्रा रांची के ही नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ स्टडी एंड रिसर्च इन लॉ (एनयूएसआरएल) में सेकेंड ईयर की है. घटना मंगलवार शाम की है. इस संबंध में रांची के ग्रामीण एसपी ऋषभ झा ने गुरुवार शाम को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मीडिया को इसकी जानकारी दी.

बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (बीआईटी) मेसरा से रिंग रोड होते हुए स्कूटी से हॉस्टल जा रही थी. इसी दौरान कांके इलाके में रिंग रोड पर एक बस स्टॉप पर बैठकर अपने दोस्त से बात करने लगी. इसी दौरान नशे में धुत कार से छह लोग पहुंचे. छात्रा पर कमेंट किया. इसे छात्रा और उसके दोस्त ने अनसुना कर दिया.

इसके बाद उन्होंने छात्रा को अगवा कर संग्रामपुर गांव के ईंट-भट्ठी पर ले गए, जहां उसका रेप करना चाहा. इसका विरोध करने पर आरोपियों ने पिस्टल तान दी. धमकाते रहे, कपड़े उतारो नहीं तो गोली मार देंगे. ग्रामीण एसपी के मुताबिक इसके बाद आरोपियों ने अपने अन्य छह दोस्तों को भी बुलाया और सामूहिक बलात्कार किया.

वहीं रांची पुलिस की ओर से जारी विज्ञप्ति के मुताबिक गिरफ्तार आरोपियों में सुनील मुंडा, कुलदीप उरांव, सुनील उरांव, संदीप तिर्की, अजय मुंडा, राजन उरांव, नवीन उरांव, बसंत कच्छप, रवि उरांव, रोहित उरांव और ऋषि उरांव शामिल हैं. इन सभी पर कांके थाना के कांड संख्या 216/19 में आईपीसी की धारा 376D (किसी महिला के साथ बलात्कार)120B (साजिश के तहत मामले को अंजाम देना), अनुसूचित जाति-जनजाति निवारण अधिनियम (पीड़ित को कानूनी सहायता सहित आर्थिक मदद मुहैया कराना) के तहत मामला दर्ज किया गया है.

इसके साथ ही कांके थाना के ही कांड संख्या 217/19, धारा 25 (1-A) 25 (1-a) 26 (ii) आर्म्स एक्ट के तहत भी मामला दर्ज किया गया है.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...