ख़बरें

भगोड़े नित्यानंद ने त्रिनिदाद और टोबैगो के पास घोषित किया अपना ‘हिन्दू देश कैलाश’

तर्कसंगत

Image Credits: Kailaasa.Org

December 4, 2019

SHARES

दुष्कर्म के आराेपाें में फरार और भारत से भाग चुके नित्यानंद स्वामी के बारे में चर्चा है कि उसने त्रिनिदाद और टाेबैगाे के पास इक्वाडोर के पास एक द्वीप पर अपना नया देश बसा लिया है. रिपाेर्ट्स के मुताबिक, उसने देश का नाम कैलासा रखा है. हालाँकि तर्कसंगत इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं करता है.

नित्यानंद ने इस नए देश की वेबसाइट भी बनाई है. इस वेबसाइट पर दावा किया गया है- कैलासा बिना सीमाओं का देश है जिसे दुनियाभर से बेदखल हिंदुओं ने बसाया है। वेबसाइट पर कैलासा को महानतम हिंदू राष्ट्र बताया गया है. बता दें कि गुजरात पुलिस ने बीती 21 नवंबर को बताया था कि नित्यानंद देश छोड़कर भाग गया है.

कर्नाटक में दर्ज दुष्कर्म के एक मामले में नित्यानंद वांछित है. उस पर आरोप है कि अपना आश्रम चलाने के लिए बच्चों का अपहरण कर उनसे श्रद्धालुओं से चंदा जुटाने के लिए मजबूर करता था. पुलिस ने इस मामले में उसकी दो अनुयायियों को भी गिरफ्तार कर चुकी है. नित्यानंद के तथाकथित देश की वेबसाइट भी kailasaa.org  भी सामने आयी है जिससे संकेत मिलते हैं कि नित्यानंद ने अपने नए देश की स्थापना कर दी है, जिसके लिए उसने नया ध्वज, नया संविधान तथा नया प्रतीक चिह्न भी तय कर लिया है. वेबसाइट के मुताबिक, इस हिन्दू राष्ट्र का अपना ध्वज भी है, जिसे ‘ऋषभ ध्वज’ के रूप में जाना जाता है, जिसमें भगवान शिव के वाहन नंदी के साथ स्वयं नित्यानंद भी मौजूद है.

 



 

समाचार एजेंसी IANS के मुताबिक, वेबसाइट में देश के लिए चंदा देने का आह्वान भी किया गया है, जिसके ज़रिये चंदा देने वाले ‘महानतम हिन्दू राष्ट्र’ की नागरिकता पाने का अवसर हासिल कर सकते हैं. साइबर विशेषज्ञों के अनुसार, इस वेबसाइट को 21 अक्टूबर, 2018 को बनाया गया था, और इसे आखिरी बार 10 अक्टूबर, 2019 को अपडेट किया गया था. वेबसाइट का रजिस्ट्रेशन पनामा में किया गया था, और इसका IP अमेरिका के डलास में स्थित है.

‘कैलाश’ में कई सरकारी विभाग भी होंगे, जिनमें शिक्षा, वित्त, वाणिज्य आदि शामिल हैं. इनके अलावा ‘कैलाश’ में एक ‘प्रबुद्ध नागरिकता विभाग’ भी होगा, जो सनातन हिन्दू धर्म को पुनरुज्जीवित करने की दिशा में काम करेगा.

 



 

यह तथाकथित ‘देश’ अंततः ‘धार्मिक अर्थव्यवस्था’ लागू करने का दावा करता है, तथा इसमें हिन्दू निवेश एवं रिज़र्व बैंक भी होगा, जहां क्रिप्टोकरेंसी भी स्वीकार की जाएगी. वेबसाइट में यह दावा भी किया गया है कि ‘कैलाश’ का अपना पासपोर्ट भी होगा, और कोई भी देश की नागरिकता के लिए आवेदन कर सकता है. मज़े की बात ये है कि वेबसाइट में बताया गया है, “नागरिकों को कैलाश का पासपोर्ट दिया जाएगा, और परमशिव की कृपा से पासपोर्टधारक कैलाश सहित सभी 11 दिशाओं तथा 14 लोकों में निर्बाध प्रवेश पा सकेगा…”

नित्यानंद पर अपनी पूर्व अनुयायी के साथ कथित रूप से बलात्कार करने का आरोप है. पिछले माह, गुजरात पुलिस ने उसकी दो सहयोगियों को गिरफ्तार किया था.

 

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...