ख़बरें

अनुच्छेद 370 हटने के बाद कश्मीर में पर्यटन में 87% की गिरावट

तर्कसंगत

Image Credits: Wikipedia

December 10, 2019

SHARES

अगस्त और नवंबर 2019 के बीच कश्मीर में घरेलू पर्यटकों की संख्या में 24.9 लाख से 32,000 तक की 87 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई।

विदेशी पर्यटकों के आगमन के मामले में 82 प्रतिशत की गिरावट आई है। द टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, नवंबर में घरेलू आंकड़ों के लिहाज से सबसे अच्छे आंकड़े देखे गए। नवंबर में 10,946 घरेलू पर्यटक थे और 1,140 विदेशी पर्यटक। नवंबर में सेप्टेमबर की तुलना में पर्यटकों की दुगुनी संख्या देखि गयी।

टूर ऑपरेटरों के लिए भी ये ज़्यादा खुशी की बात नहीं है। श्रीनगर के राजबाग क्षेत्र के एक होटल के मालिक परवेज बाबा ने कहा कि इस सप्ताह उनके होटल में उपलब्ध 24 कमरों में से केवल चार ही किराये पर लगे हैं।

उन्होंने कहा कि उनका होटल तीन साल पुराना है और वह नुकसान नहीं उठा सकते। उन्होंने कहा कि अगर वह एक कमरे पर 4,000 चार्ज करते हैं, तो कोई भी कमरा नहीं लेगा।

जून और जुलाई में रिपोर्ट के अनुसार, लगभग 1.62 लाख और 1.49 लाख पर्यटकों ने घाटी का दौरा किया – 2018 में इसी अवधि की तुलना में 27 प्रतिशत की वृद्धि देखि गयी थी। अगर सरकार ने अमरनाथ की यात्रा नहीं रोकी होती तो जुलाई महीने में पर्यटकों की संख्या और भी ज़्यादा हो सकती थी।

विदेशी पर्यटकों में से एक ने बताया कि चूंकि घाटी में कोई इंटरनेट कनेक्शन नहीं था, इसलिए उन्हें अपनी यात्रा के समय को कम करना पड़ा, क्योंकि वे अपने परिवार से संपर्क करने में असमर्थ थे। धारा 370 को निरस्त करने के बाद, इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दिया गया था।

वांग्नू शेरेटन हाउसबोट्स के मालिक हबीबुल्लाह वांग्नू ने समाचार पत्र को बताया कि उन्होंने एशियाई देशों से अगस्त और नवंबर के बीच लगभग 250 पर्यटकों की मेजबानी की थी और इंटरनेट कनेक्शन का न होना उनकी मुख्य अड़चन थी।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...