सचेत

फैक्ट चेक : पीएम की शिक्षा का गलत दावा करते हुए वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल

तर्कसंगत

Image Credits: Indian National News/You Tube

January 16, 2020

SHARES

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनकी शैक्षिक योग्यता बताते हुए एक वीडियो क्लिप पिछले कुछ समय से सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। वीडियो को कई सारे सोशल मीडिया पेज ने साझा किया है, जिसे तीस हजार से अधिक बार देखा गया है।

 



 

इस वायरल वीडियो में एक 30-सेकंड की क्लिप है जो केवल साक्षात्कार के एक हिस्से को ही दिखाती है जहां मोदी कहते हैं कि उन्होंने 17 साल की उम्र में घर छोड़ दिया और उसके बाद कभी भी उचित शिक्षा नहीं ली।

वीडियो का इस्तेमाल उस दावे को प्रचारित करने के लिए किया जा रहा है जो नरेंद्र मोदी ने अपनी शैक्षिक योग्यता के बारे में झूठ बोला था।

 

दावा

इस वीडियो क्लिप के माध्यम से ये दावा किया जा रहा नरेंद्र मोदी ने 10 वीं कक्षा से आगे कोई शिक्षा नहीं लेने की बात स्वीकार की है।

 

फैक्ट चेक

जिस मूल वीडियो से यह वायरल क्लिप ली गई थी, वह नरेंद्र मोदी के एक पुराने साक्षात्कार से ली गई है, जब वह 1990 के दशक में भाजपा के महासचिव थे। यह साक्षात्कार ‘रु-ब-रु’ कार्यक्रम का हिस्सा है।

 



 

तत्कालीन पत्रकार, राजीव शुक्ला, मोदी से साक्षात्कार में उनकी शैक्षिक पृष्ठभूमि के बारे में पूछते हैं। वायरल वीडियो क्लिप के समाप्त होने के बाद, नरेंद्र मोदी ने खुलासा किया कि कई शुभचिंतकों के सुझावों पर, उन्होंने कॉरेस्पोंडेंस कोर्स लिया। “एक संघ कार्यकर्ता थे , जिनके आग्रह पर मैंने बाहरी परीक्षाएं देनी शुरू कीं। मैंने बाहरी परीक्षा के माध्यम से दिल्ली विश्वविद्यालय से बीए किया। वह जोर देता रहा, इसलिए मैंने बाहरी परीक्षा के माध्यम से एमए किया। मैंने कभी कॉलेज का गेट नहीं देखा था।” मोदी ने कहा। इस तथ्यात्मक विशेष भाग को वायरल वीडियो क्लिप से हटा दिया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शैक्षणिक योग्यता हालिया समय में विवादों से घिर गई है। आधिकारिक दस्तावेजों का न मिलना भी उनके शैक्षिक योग्यता के रहस्य और बहस को तूल दे रही है।

 

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...