ख़बरें

टुकड़े टुकड़े गैंग पर RTI के जवाब में गृह मंत्रालय बोला- हमारे पास जानकारी नहीं

तर्कसंगत

Image Credits: Financial Express/Livemint

January 21, 2020

SHARES

गृह मंत्रालय ने एक आरटीआई के जवाब में कहा कि उसे किसी भी “टुकडे-टुकडे गिरोह” के बारे में कोई जानकारी नहीं है. इसका इस्तेमाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह द्वारा बड़े पैमाने पर विरोधियों पर हमला करने के लिए इस्तेमाल किया गया है।आरटीआई आवेदन कार्यकर्ता साकेत गोखले ने पिछले साल 26 दिसंबर को दायर किया था

उसी दिन गृह मंत्री अमित शाह ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में दिल्ली विकास प्राधिकरण की तरफ से आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि यह समय आ गया जब टुकड़े टुकड़े गैंग को दंडित किया जा सके। अमित शाह ने कहा था- “यह टुकड़े-टुकड़े गैंग को दंडित करने का समय है, जो राष्ट्री राजधानी की गलियों में कांग्रेस पार्टी की मदद से हिंसा करने के लिए कसूरवार हैं। दिल्ली के लोगों को उन्हें सजा देनी चाहिए।”

गोखले को लगभग एक महीने के बाद एक पंक्ति में जवाब मिला – “गृह मंत्रालय को टुकडे-टुकडे गिरोह के बारे में कोई जानकारी नहीं है।” गृह मंत्रालय द्वारा आरटीआई के जवाब के जवाब में, गोखले ने कहा कि “टुकडे-टुकडे गिरोह” आधिकारिक रूप से मौजूद नहीं है और यह केवल अमित शाह की कल्पना है।

साकेत गोखले ने अपने सवाल में पूछा था कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली की एक सभा में कहा है कि दिल्ली के टुकड़े टुकड़े गैंग को सबक सिखाना और सजा देना काफी जरूरी है। इसी बयान का हवाला देते हुए साकेत गोखले ने गृह मंत्रालय से ये जानकारी मांगी थी। साकेत गोखले ने अपनी RTI में टुकड़े टुकड़े गैंग का मतलब, इस गैंग के सदस्यों की लिस्ट की जानकारी मांगी थी।

 

 

गौरतलब है कि साल 2016 में दिल्ली की जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में एक प्रदर्शन के दौरान नारेबाजी हुई थी। जिसके बाद से ही बीजेपी कार्यकर्ताओं की तरफ से ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’ शब्द का इस्तेमाल किया गया।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह समेत कई बड़े नेता विरोधियों, विपक्षी पार्टी पर निशाना साधते हुए टुकड़े-टुकड़े गैंग, खान मार्केट गैंग जैसे शब्दों का इस्तेमाल करते आए हैं।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...