ख़बरें

केरल में मिला भारत का पहला कोरोना वायरस का मामला

तर्कसंगत

Image Credits: Jagran/Pib

January 30, 2020

SHARES

चीन में फैला कोरोना वायरस दुनिया के कई देशों में दस्तक दे रहा है. भारत में भी कोरोना वायरस के पहले मामले की पुष्टि हो गई है. वुहान से केरल लौटा छात्र कोरोना वायरस से संक्रमित है.

 

 

केरल में कोरोनो वायरस के मामले की पुष्टि होने के बाद, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने गुरुवार को आश्वासन दिया कि केंद्र सरकार रोग के निदान और उपचार के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रयास कर रही है. हम यह सुनिश्चित करने के लिए अपनी पूरी कोशिश कर रहे थे कि अगर कोरोनो वायरस के कोई सकारात्मक मामले सामने आए तो उसका निदान किया जा सके.

कोरोना वायरस का मामला सामने आने के बाद केरल की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने कहा, हमने निजी अस्पतालों सहित सभी अस्पतालों को निर्देश दिया है कि वे एक जैसे लक्षणों (कोरोना वायरस) के साथ आने वाले रोगियों की निगरानी करें .स्वास्थ्य विभाग मरीजों को अलग करने और इलाज शुरू करने के लिए पूरी तरह तैयार है.

 

 

इस बीच केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कोरोना वायरस से प्रभावित चीन के वुहान प्रांत में अटके भारतीयों को बाहर निकालने की व्यवस्था करने का आग्रह किया है जिनमें केरल के भी कई लोग हैं.

उन्होंने प्रधानमंत्री को लिखी चिट्ठी में बताया है कि सरकार को चीन में पढ़ाई कर रहे भारतीय छात्रों के संबंधियों से जो जानकारी मिल रही है उसके मुताबिक़ वहाँ स्थिति गंभीर है.

 

कोरोना वायरस

 

 

सरकार ने जारी की  एडवाइजरी

केंद्र सरकार ने आज चीन से लौट रहे लोगों के लिए ट्रेवल एडवाइजरी जारी की है. एडवाइजरी के मुताबिक चीन से लौटने पर 14 दिनों तक-

घर में अलग थलग रहें

अलग कमरे में रहें

केवल परिवार से सम्पर्क में रहे. बाहर आने जाने वालों से सम्पर्क न करें.

 

त्रिपुरा के 23 साल के व्यक्ति की मौत

कोरोनो वायरस के कारण त्रिपुरा के रहने वाले एक 23 साल के व्यक्ति की मलेशिया के अस्पताल में मौत हो गई है. मृतक के परिजनों ने यह दावा किया है. समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक मृतक के दादा (grandfather) अब्दुल रहीम ने गुरुवार को बताया कि उनके पास मलेशिया से फोन आया कि कोरोना वायरस की चपेट में आने से हुसैन की मौत हो गई है.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...