ख़बरें

23 बच्चों को बंधक बनाने वाले की पुलिस कार्रवाई में मौत, सरकार की तरफ से पुलिस को सम्मान

तर्कसंगत

Image Credits: SamayBhaskar/Bhaskar

January 31, 2020

SHARES

उत्तर प्रदेश के फर्रूखाबाद के गांव करथिया में 11 घंटे चला हाई वोल्टेज ड्रामा खत्म हो गया. इस मामले में पुलिस की एक नाकामी भी सामने आई है. दरअसल, पुलिस के सामने ही सिरफिरे की पत्नी की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई. हालांकि, करीब सात घंटे के ऑपरेशन के बाद पुलिस 23 बच्चों की जिंदगी बचाने में कामयाब रही और सिरफिरे को भी ढेर कर दिया गया.

इसके बाद सभी 23 बच्चों को पुलिस ने सुरक्षित बचा लिया. इस मामले में कानपुर के आईजी मोहित अग्रवाल ने कहा, ”पुलिस के मुठभेड़ के वक्त महिला (आरोपी की पत्नी) भागने का प्रयास किया, और जब उसके पति (आरोपी) ने गोली चलाई तो आक्रोशित गांव के लोगों ने महिला को ईंट-पत्थर से मारा पीटा गया. महिला अस्पताल भेजी गई, जो घायल थी और उसके सिर से खून निकल रहा था. अब यह पोस्टमार्टम से पता चलेगा कि उसकी मौत किन कारणों से हुई.”

कौन है सुभाष बाथम?

सुभाष को करीब 2 महीने पहले बेल मिली थी. हत्या, आर्म्स एक्ट केस और कई सारे मुकदमे थे. आपराधिक प्रवृत्ति होने के कारण सुभाष से लोग कम बात करता था . सुभाष अपने ऊपर दर्ज मुकदमों को खत्म करने की बात कह रहा था और पुलिस को इसी के जरिए ब्लैकमेल कर रहा था, बच्चों की सकुशल से रेस्क्यू हो, इसके लिए इतना वक़्त लगा.

बच्ची के बर्थडे के बहाने बुलाया था

सुभाष ने गुरुवार को अपने बच्चे के जन्मदिन के बहाने आस-पास के बच्चों को घर में बुलाया और फिर अपनी बीवी और बच्चे समेत सभी बच्चों को बेसमेंट में बंद कर दिया था. सुभाष ने छत पर पहुंचकर बताया कि उसने बच्चों को बंधक बना लिया है. गांव वालों ने एक व्यक्ति को सुभाष से बात करने भेजा, बदमाश ने उसके पैर में गोली मार दी. इसी बीच पुलिस को सूचना दी गई, 30 मिनट बाद पुलिस फ़ोर्स पहुंची. पुलिस ने सुभाष से बातचीत शुरू की और फिर आरोपी ने फायरिंग की, जिसमें 2 पुलिसकर्मी घायल हुए. इसी दौरान मुहम्मदाबाद के एसएचओ को भी चोट लगी.

भारी मात्रा में गोला बारूद बरामद

पुलिस ने बताया कि सुभाष के पास इतना गोली बारूद था कि वो 2 दिन तक पुलिस से मुकाबला कर सकता था, 25-30 गोलियां, एक कंट्री मेड तमंचा, एक राइफल और बड़ी संख्या में बारूद था, सुभाष ने कई सारे सुतली बम बना रखे थे और वो तहखाने में एक साथ सबको उड़ाने की धमकी भी दे रहा था.

सरकार से पुरस्कार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ऑपरेशन को सफल बनाने वाली पुलिस की टीम के लिए 10 लाख रुपये के इनाम की घोषणा की है. साथ ही प्रशश्ति पत्र देने की भी घोषणा की है.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...