ख़बरें

जब केरल में कुछ घरों के नल से पानी की जगह गिरने लगी शराब

तर्कसंगत

Image Credits: Hindustan/Png Image

February 7, 2020

SHARES

क्या पहले आपने कभी देखा है पानी की टोटी से शराब बहते हुए? त्रिशूर के चलाकुड्डी इलाके में जब लोगों को ऐसी परिस्थिति का सामना करना पड़ा तो उनकी हैरानी की इंतेहा नहीं रही.  इस खबर को सुनकर लोग हैरान रह गए. पड़ोसियों ने एक-दूसरे के घर की जांच की तो पता चला कि कुल 18 घरों के नल से शराब निकल रही है. इंस्पेक्शन करने पर पता चला कि ये समस्या आबकारी विभाग के हालिया ऑपरेशन के कारण हुई है.

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, आबकारी टीम ने 4500 लीटर जब्त की गई शराब को एक गड्ढे में फेंक दिया था. उनको इस बात का बिलकुल भी अंदाजा नहीं था कि ये शराब बहकर पास के कुएं में चली जाएगी जो सोलमन एवेन्यू के लोगों के पीने के पानी का मुख्य स्रोत है. वहां रहने वाले जोशी मालियेकल नाम के शख्स ने सबसे पहले देखा था. उन्होंने देखा कि नल से भूरे रंग का पानी आ रहा है. उनको लगा कि पाइपलाइन में कोई गड़बड़ी होगी. लेकिन पीने पर पता चला कि पानी के अंदर शराब मिलाई गई है.

रविवार की शाम इमारत में महक महसूस हुई. अगले दिन उनके अचरज का ठिकाना नहीं रहा जब पीने के पानी का स्वाद और महक शराब जैसी लगी. लोगों का कहना था कि कुएं से पानी पीने, खाने और नहाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. सोमवार की सुबह चार बजे एक परिवार ने पानी में महक महसूस की. जिसके बाद इमारत के 18 परिवारों को सूचित किया गया. सभी परिवारों ने जांच करने पर ऐसी ही शिकायत करते सुना गया. जिसके बाद उन्हें अपनी दैनिक गतिविधियां बंद करनी पड़ीं.

इमारत में पानी की टोटी से शराब युक्त पानी निकलने के रहस्य को जानने के लिए हर कोई उत्सुक था. उन्होंने चलाकुड्डी पुलिस और नगरपालिका से शिकायत की. स्वास्थ्य अधिकारियों ने शराब की मिलावट जांचने के लिए कुएं के पानी का स्वाद चखा. उसके बाद पता चला कि छह साल पहले इमारत के पास ही बार को बंद कर दिया था. अधिकारियों ने खानापूर्ति करने के लिए शराब का डिस्पोजल कर दिया.

डिप्टी एक्साइज कमिश्नर टीके सानू ने कहा, ”कुएं को कम से कम 8 बार साफ किया जा चुका है. ये तब तक साफ होगा, जब तक उसमें से शराब की गंध खत्म नहीं हो जाती.” हमें उम्मीद है कि इस समस्या को तुरंत ठीक किया जाएगा और सोसाइटी के बच्चों और बुजुर्गों सहित सभी निवासी सुरक्षित रहेंगे.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...