ख़बरें

दिल्ली में जीत वाले दिन ही आम आदमी पार्टी से विधायक नरेश यादव के काफिले पर गोली चली, पार्टी कार्यकर्ता की मौत

तर्कसंगत

Image Credits: Hindustan Times/India Today

February 12, 2020

SHARES

दिल्ली की महरौली विधानसभा सीट से आम आदमी पार्टी (आप) से विधायक नरेश यादव के काफिले पर अज्ञात लोगों ने मंगलवार देर रात हमला कर दिया। इस हमले में आप के अशोक मान नामक एक कार्यकर्ता की मौत हो गई, वहीं एक अन्य कार्यकर्ता हरेन्द्र घायल हो गया। हमले के चंद घंटों बाद ही पुलिस ने एक हमलावर को गिरफ्तार कर लिया। जानकारी के अनुसार, काफिले पर हमला उस वक्त हुआ जब वह चुनावी नतीजे आने के बाद मंदिर से वापस लौट रहे थे। नरेश को किशनगढ़ में हुए इस हमले में किसी तरह का नुकसान नहीं हुआ है। वहीं घायल को पास के हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। वहीं दिल्ली पुलिस ने बुधवार को आप विधायक के काफिले पर गोलीबारी की घटना के संबंध में एक प्राथमिकी दर्ज की और कहा कि वह सभी कोणों से मामले की जांच कर रही है। पुलिस ने बताया कि मृतक औ हमलावर का निजी विवाद था जिसकी वजह से उसने घटना को अंजाम दिया।

दिल्ली पुलिस ने एक बयान में कहा, “एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। यह व्यक्तिगत दुश्मनी का मामला है और इसका राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है। आगे की जांच जारी है।”

हमले को लेकर नरेश यादव ने कहा, ‘यह घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। मुझे हमले के पीछे की वजह का पता नहीं है मगर यह अचानक हुआ। जिस गाड़ी में मैं था, उस पर हमला किया गया। मुझे विश्वास है कि यदि पुलिस ने सही तरीके से जांच की तो हमलावर पकड़े जाएंगे।’

 

 

वहीं आप के प्रवक्ता संजय सिंह ने केन्द्र सरकार के अधीन आने वाली दिल्ली पुलिस पर जमकर हमला बोला। संजय ने ट्वीट किया, ‘महरौली विधायक नरेश यादव के क़ाफ़िले पर हमला, अशोक मान की सरेआम हत्या, ये है दिल्ली में कानून का राज, मंदिर से दर्शन करके लौट रहे थे नरेश यादव।’

 

 

 

पुलिस ने कहा नरेश यादव नहीं थे निशाना, मृतक का था निजी विवाद

दिल्ली पुलिस ने भी मौत की पुष्टि की है। पुलिस के अनुसार दिल्ली के किशनगढ़ फोर्टिस चौक के पास से आम आदमी के विधायक नरेश यादव का काफिला गुजर रहा था। उसी वक्त कुछ हमलावरों ने काफिले में मौजूद दो लोगों पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। मामले पर साउथवेस्ट के डीसीपी इंगित प्रताप सिंह ने कहा अब तक की जांच से पता चलता है कि एक हमलावर था। हालांकि नरेश यादव निशाना नहीं थे। हमलावर विशेष रूप से उस व्यक्ति को निशाना बनाने के लिए आया था जिसे (आप स्वयंसेवक) गोली मार दी गई।  हालांकि दिल्ली पुलिस ने कहा कि नरेश यादव के काफिले पर गोली चलाने के पीछे के मकसद का पता लगाने के लिए जांच “सभी कोणों” पर चल रही है। दिल्ली पुलिस ने आगे कहा आरोपी और मृतक का पुराना व्यक्तिगत विवाद था। 2019 में गोली लगने के बाद आरोपी के भतीजे को गोली लग गई थी। आरोपी को 2019 की घटना के पीछे मृतक पर शक था। उसने मृतक को 15 दिन पहले धमकी भी दी थी। अशोक और आरोपी एक ही गांव के हैं।

 

भाजपा उम्मीदवार को हराकर बने विधायक

मंगलवार को हुई मतगणना में दक्षिणी दिल्ली की महरौली विधानसभा सीट पर आम आदमी पार्टी (आप) के प्रत्याशी नरेश यादव ने अपनी निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा की कुसुम खत्री को 18161 वोट से हराकर जीत हासिल की थी। नरेश यादव को इस बार जहां 62417 वोट मिले हैं, जबकि उनकी प्रतिद्वंद्वी बीजेपी उम्मीदवार कुसुम खत्री 44256 वोट लेकर दूसरे नंबर पर रहीं। इनके मुकाबले कांग्रेस उम्मीदवार एए महेंदर चौधरी को केवल 6952 वोट से ही संतोष करना पड़ा। आपको बता दें कि 2015 विधानसभा चुनाव में भी महरौली सीट पर नरेश यादव ने जीत हासिल की थी।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...