ख़बरें

8 साल की बच्ची से घर के 16 लोगों ने 4 साल किया रेप

तर्कसंगत

Image Credits: Headtopics

February 17, 2020

SHARES

चेन्नई में रेप का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है जिसने मानवता को शर्मसार कर दिया है. यहां परिजनों की हवस का शिकार बनी 8 वर्षीय बच्ची की मौत हो गई. आरोप है कि 4 सालों तक उसके रिश्तेदारों समेत लगभग 16 लोग उसके साथ रेप करते रहे. मगर जब उसकी हालत बिगड़ गई तो उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां गुरुवार को आखिरकार उसकी मौत हो गई. हालांकि पुलिस को पोस्ट मॉर्टम रिपोर्ट का इंतजार है.

 

परिजन ही बने राक्षस 

एक अखबार के मुताबिक, मासूम के साथ रेप की सनसनीखेज घटना 2019 में उजागर हुई. जब मासूम की मां ने पुलिस में अपने रिश्तेदारों के खिलाफ शिकायत की. जिसमें उन्होंने अपने ही कई रिश्तेदारों और लोगों पर दो बच्चियों के साथ रेप करने का आरोप लगाया. उनका कहना था कि उसके रिश्तेदार उनकी दोनों बेटियों से 2017 से ही रेप कर रहे थे. गुरुवार को उनकी छोटी बेटी पेट में दर्द के चलते काफी देर तक बाथरूम में रही. जब उन्होंने आवाज दी तो कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली. तब उन्होंने दरवाजा तोड़कर अंदर देखा जहां बच्ची को जमीन पर बेहोश पाया. तुरंत ही उसे निजी अस्पताल में भर्ती करवाया. जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

 

पुलिस अधिकारी बनना चाहती थी मासूम

मृतक की बड़ी बहन 10 वर्षीय छात्रा है. महिला दोबारा शादी के बाद 2018 से चेन्नई में एक निजी फर्म में नौकरी कर रही है. घटना के वक्त दोनों बेटियां उनकी माँ के साथ रह रही थीं. उनकी जान के डर से वह अपनी बेटियों को चेन्नई ले आई. दोनों लड़कियों के सौतेले पिता ने बताया कि वह रोते हुए आधी रात को उठ जाती थी और अक्सर खोई खोई सी रहती थी. उसने पिछले आठ महीनों में पेट दर्द की शिकायत की। लगातार बाथरूम जाने की उसकी आदत ने भी उसके माता-पिता का ध्यान आकर्षित किया। शिकायत दर्ज होने के बाद उसे पहले एक संक्रमण के लिए इलाज किया गया था.

“बहुत लंबे समय तक, हम नहीं जानते थे कि हमारी दोनों लड़कियों का यौन शोषण किया जा रहा है. हमें जुलाई 2019 में ही उसके व्यवहार में कुछ बदलाव को नोटिस करना शुरू कर दिया था, जिसने मुझे और गहराई से जांच करने के लिए उकसाया,”  द न्यू इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए सौतेले पिता ने कहा. “मई 2019 में, बच्चे हमारे साथ छुट्टियां बिताने आए थे. छुट्टी के बाद, वे विल्लुपुरम वापस जाने में संकोच कर रहे थे. हमने धीरे-धीरे दोनों लड़कियों के व्यवहार में बलदाव को गौर किया, जैसे नींद में गड़बड़ी, अचानक कंपकंपी, भयभीत होना और अकेले रहना ज़्यादा घुलना मिलना नहीं. हालांकि हमने उनसे जानने की काफी कोशिश की लेकिन दोनों को डर था कि हम उन पर चिल्ला सकते हैं, “मां ने कहा. जुलाई 2019 में हुई एक अन्य घटना में, बड़ी बेटी स्कूल में बेहोश हो गई थी और एक सरकारी डॉक्टर ने पुष्टि की कि बच्चों का कई पुरुषों द्वारा बलात्कार किया गया था.

पुलिस ने शिकायत के आधार पर अप्राकृतिक मौत का मामला दर्ज कर लिया है. फिलहाल पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद ही घटना के बारे में सही जानकारी मिल पायेगी. मृतक के सौतेले पिता का कहना है बच्ची बड़ी होकर पुलिस अधिकारी बनना चाहती थी.

 

आरोपी हुए गिरफ्तार

इंडिया डॉट कॉम में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, बच्ची की मौत के बाद सीआरपीसी की धारा 174 (अप्राकृतिक मौत) के तहत मामला दर्ज किया गया है. इस मामले में विल्लुपुरम जिले में भी एक शिकायत दर्ज की गई थी और 16 लोगों के खिलाफ POCSO एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था. आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...