ख़बरें

मध्य प्रदेश : 72 दिन से धरने पर बैठी गेस्ट टीचर्स ने सर मुंडवा कर बाल राहुल गाँधी को भेजे

तर्कसंगत

Image Credits: Twitter/Kamal Nath

February 20, 2020

SHARES

सेवा में नियमित किए जाने की मांग को लेकर अतिथि शिक्षकों के लंबे समय से चल रहे धरने के दौरान एक अतिथि शिक्षिका ने बुधवार को अपना सिर मुंडवाया लिया. यह शिक्षिका पिछले 72 दिनों से यहां शाहजहांनी पार्क में अन्य अतिथि शिक्षकों के साथ नियमित किए जाने की मांग को लेकर धरने पर बैठी हैं.

 

मामला है क्या ?

दरअसल,  2 दिसंबर, 2019 से मध्य प्रदेश के गेस्ट टीचर्स धरना दे रहे हैं. इंडिया टुडे से बातचीत के दौरान शाहीन ने बताया कि 2018 के विधानसभा चुनाव के दौरान  सरकार ने गेस्ट टीचर की मांगों पूरा करने का वादा किया गया था. लेकिन साल भर इंतजार के बाद भी कोई मांगें पूरी नहीं हुईं. और इसी वजह से वो सभी धरना दे रहे हैं. शाहीन ने बताया कि कई गेस्ट टीचर्स ने तो आर्थिक तंगी की वजह से सुसाइड कर लिया है. उनका कहना है कि वो पिछले 15 सालों से बच्चों के बेहरतर भविष्य के लिए बतौर गेस्ट टीचर पढ़ा तो रही हैं, लेकिन उनके खुद के बच्चों का भविष्य उज्ज्वल नहीं है. शाहीन का कहना है कि मौजूदा सरकार ने 2018 के विधानसभा चुनाव में उन्हें रेगुलर करने का वादा तो किया था. लेकिन वादा पूरा नहीं किया. गेस्ट टीचर अपने कटे बाल विरोध के रूप में राहुल गाँधी को भेज रही हैं.

 

 

मुंडन होता देख धरने पर बैठे और अन्य अतिथि विद्वानों की आंखें भी नम हो गईं। मुंडन कराने वाली अतिथि विद्वान छिंदवाड़ा की रहने वाली हैं। उनका कहना है की सरकार आइफा अवार्ड और फिज़ूल में करोड़ों रूपए खर्च कर रही है लेकिन अतिथि विद्वानों से किया हुआ वादा पूरा नहीं कर रही।

आपको बता दें कि भोपाल में करीब दो साल बाद ऐसा हुआ है जब शिक्षा के क्षेत्र से जुड़ीं महिला कर्मचारी ने मांगों के लिए मुंडन कराकर विरोध जाहिर किया है। इसके पहले शिवराज सरकार में अतिथि महिला विद्वानों ने मुंडन कराया था। इस मामले पर सरकार पर धावा बोलते हुए  पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ सरकार पर तंज कसा है.

 

मुख्यमंत्री कमलनाथ मामले को लेकर तानाशाह रुख अपना रहे हैं. उन्होंने कहा कि सीएम कमलनाथ को समस्या से अवगत कराने के लिए ये आखिरी रास्ता था. धरना दे रहे गेस्ट टीचर्स का कहना है कि सरकार की तरफ से कोई भी व्यक्ति उनका हालचाल लेने तक नहीं आया. और जो संगठन के लोग उनका साथ देने की बात कर रहे हैं, उसने भी गेस्ट टीचर्स ने कहा कि अगर वो साथ नहीं दे सकते, तो कोई उनके पास वीडियो बनवाने के लिए न आए.

 

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...