ख़बरें

कोरोना को ध्यान में रखते हुए रेलवे ने लिया ये अहम फैसला

तर्कसंगत

Image Credits: Jagran

March 17, 2020

SHARES

कोरोना वायरस फैलने के मद्देनजर भारतीय रेलवे ने अपने सभी क्षेत्रीय संभागों को ट्रेनों के एसी डिब्बों से कंबल और पर्दे हटाने का आदेश दिया है क्योंकि उनकी रोज धुलाई नहीं होती है.

रेलवे ने कहा कि चादर, तौलिये और तकिए के खोल जैसी अन्य चीजें रोज धोई जाती हैं. रेलवे बोर्ड ने यह भी निर्देश दिया है कि इन डिब्बों में न्यूतनम तापमान 24-25 डिग्री निर्धारित किया जाए.

बोर्ड ने कहा, ‘इस एहतियाती कदम का पर्याप्त प्रचार किया जाए ताकि यात्री तैयार रहें.’ रेलवे ने यात्रियों से अपना कंबल साथ लेकर यात्रा करने की सलाह भी दी है.

बोर्ड ने कहा कि सभी पर्दों और कंबलों को धोकर, सुखाकर स्वच्छ एवं शुष्क भंडार सुविधा गृह में रख दिया जाए तथा ताजा शत प्रतिशत धुला लीनेन सीलबंद पैकेट में दिए जाएं.

वाराणसी रेल मंडल के पीआरओ अशोक कुमार ने बताया कि रेलवे बोर्ड के निर्देश पर बचाव किया जा रहा है. देश में कोरोना को लेकर हाई अलर्ट घोषित किया गया है. इस वजह से ट्रेनों के एसी बोगी में कम्बल नहीं मिलेगा. एसी बोगी में 25 डिग्री तापमान रखा जाएगा. ताकि यात्रियों को बोगी में कंबल की आवश्यकता न पड़े. इसके लिए पहले चरण में चार ट्रेनों को शामिल किया गया है. इसमें छपरा-मथुरा एक्सप्रेस, छपरा – दिल्ली एक्सप्रेस, छपरा-दुर्ग एक्सप्रेस एवं छपरा- लखनऊ एक्सप्रेस शामिल है. हालांकि कोच अडेंटेंस के पास कुछ कम्बल रहेगा. ताकि आवश्यकता होने पर यात्री को कम्बल दिया जाएगा.

अधिकारियों ने कहा कि यात्रियों को यात्रा के दौरान रखरखाव कर्मी तरल साबुन, नैपकिन रॉल और कीटाणुनाशक रसायन उपलब्ध कराएंगे.

एसी डिब्बों में सहायकों को इस्तेमाल में आ चुके लिनेन दोबारा नहीं देने को कहा गया है. उन्हें उन यात्रियों पर भी नजर रखने की सलाह दी गयी है जिन्हें सर्दी-खांसी है और उनके द्वारा इस्तेमाल किए गए लिनेन को अलग से रखने को कहा गया है.

एसी डिब्बों के कंबलों की महीने में दो बार और पर्दों की 15 दिनों पर धुलाई की जाती है.

 

ट्रेनों को संक्रमण मुक्त किया जा रहा है

कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई तेज करते हुए मुंबई में रेलवे प्रशासन ने लोकल ट्रेनों के साथ-साथ लंबी दूरी की ट्रेनों को भी संक्रमण मुक्त करना शुरू कर दिया है. लोकल ट्रेनों में हर दिन करीब 80 लाख यात्री सफर करते हैं.

मध्य रेलवे के अनुसार, सभी डिब्बों में पकड़ने के हैंडल, दरवाजों के हैंडल, दरवाजों की कुंडी, प्रवेश द्वार, खिड़कियों, बिजली के स्विच और लोकल ट्रेनों के अंदर तथा ट्रेनों के बाहर अन्य हिस्सों को कीटाणुनाशकों के इस्तेमाल से साफ किया जा रहा है. शौचालयों की अच्छे तरीके से सफाई और उन्हें संक्रमण मुक्त किया जा रहा है.

 

भारत-बांग्लादेश यात्री रेल सेवा स्थगित

कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर कोलकाता और बांग्लादेश के शहरों के बीच भारत-बांग्लादेश यात्री रेल सेवा को रविवार को स्थगित कर दिया गया. पूर्व रेलवे के अधिकारियों ने बताया कि केंद्र सरकार के निर्देशों के आधार पर यह कदम उठाया गया है.

उन्होंने बताया कि मैत्री और बंधन एक्सप्रेस 15 मार्च से 15 अप्रैल या अगले आदेश तक स्थगित रहेंगे. अधिकारियों ने बताया कि मैत्री एक्सप्रेस का परिचालन कोलकाता से बांग्लादेश की राजधानी ढाका के बीच होता है जबकि बंधन एक्सप्रेस कोलकाता को बांग्लादेश के खुलना शहर से जोड़ती है.

मालूम हो कि भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले सौ से ज्यादा हो चुके हैं.

समूह यात्रा पर रोक लगाने के लिए धारा 144 लागू

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के मद्देनजर मुंबई पुलिस ने विदेशी या घरेलू पर्यटन स्थलों पर समूह यात्रा कराने से टूर ऑपरेटरों को रोकने के लिए सीआरपीसी की धारा 144 लागू कर दी गई है. पुलिस ने आदेश में कहा कि लोगों की जिंदगी, स्वास्थ्य या सुरक्षा को खतरे में डालने से रोकने के लिए, पुलिस आयुक्त के तहत आने वाले इलाकों में सीआरपीसी की धारा 144 के तहत हम आदेश जारी करते हैं कि निजी टूर ऑपरेटरों द्वारा घरेलू या विदेश के लिए लोगों की समूह यात्रा आदि पर रोक होगी.

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...