ख़बरें

कासगंज में दिव्यांग ने मकान की खातिर वृद्ध महिला की गोली मारकर की हत्या, पड़ोसी बनाते रहे वीडियो

तर्कसंगत

Image Credits: Livehindustan/Videograb

April 17, 2020

SHARES

कोरोना वायरस के प्रकोप को थामने के लिए देश में लॉकडाउन चल रहा है। लोगों को घरों से निकलने से रोकने के लिए चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात है। इसके बाद भी उत्तर प्रदेश में कासगंज जिले के होडलपुर गांव में एक एक दिव्यांग युवक ने 65 वर्षीय वृद्ध महिला की गोली मारकर हत्या कर दी।

घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। आरोपी मौके से फरार हो गया। पुलिस ने शव को मार्चरी में रखवा दिया है।

मामला क्या है ?

एनडीटीवी के अनुसार ये मामला सोरों थाना क्षेत्र के होडलपुर गांव का है। गुरुवार सुबह गांव निवासी 62 वर्षीय ज्ञानवती पत्नी शिवशंकर अपने घर के बाहर बैठी थी। तभी पड़ोस में रहने वाला दिव्यांग मोनू आया और तमंचा निकालकर ज्ञानवती पर फायर किया। लेकिन पहला फायर मिस हो गया। घबराकर ज्ञानवती घर के भीतर भागी, लेकिन उसका पैर फिसल गया। इसी बीच मोनू ने दूसरा फायर किया तो जो सीधा ज्ञानवती की पीठ पर लगा, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। आसपास के लोगों ने मोनू को ऐसा न करने के लिए रोका, लेकिन वह वारदात को अंजाम देने के बाद मौके से फरार हो गया।

 

 

महिला के घर पर कब्जा करना चाहता था युवक

पुलिस अधीक्षक पवित्र मोहन त्रिपाठी ने बताया कि मृतक महिला श्यामवती (65) पत्नी हरीशंकर है। होडलपुर गांव में उसका खुद का घर है, लेकिन आरोपी दिव्यांग युवक देव किशन उर्फ मोनू पुत्र रजनीकांत उस पर कब्जा करना चाहता था। इसको लेकर उनमें पहले से विवाद चल रहा था। गुरुवार सुबह आरोपी युवक उसके घर पहुंच गया और तमंचे से गोली मारकर महिला की हत्या कर दी। सोरों कोतवाली थानाप्रभारी रिपुदमन सिंह ने शव को अस्पताल पहुंचाया। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि वृद्ध महिला अपनी जान बचाने के लिए युवक के आगे गिड़गिड़ाती रही, लेकिन उसका दिल नहीं पसीजा। इसके बाद उसने महिला को दो गोली मार दी। इससे अधिक खून बहने के कारण उसकी मौत हो गई।

 

गिरफ्तार हुआ हत्यारा

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट में कहा है कि घटना की सूचना पर जिले के उच्चाधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर तफ्तीश की और आरोपी की गिरफ्तारी के लिए टीम गठित की गई। पुलिस ने कुछ ही देर में आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने आरोपी मोनू को गांव के ही एक मकान से धर दबोचा। पुलिस आरोपी मोनू और उसे शरण देने वाले व्यक्ति को भी कोतवाली ले आई। एएसपी पवित्र मोहन त्रिपाठी ने कहा कि हत्यारोपी को शरण देने वालों पर भी पुलिस विधिक कार्रवाई करेगी।

 

बचाने की जगह घटना का वीडियो बनाते रहे पड़ोसी

इस वारदात में सबसे चौंकाने वाली बात यह सामने आई कि जिस वक्त युवक महिला पर गोलियां बरसा रहा था, उस दौरान आस-पास के घरों के लोग छतों से देख रहे थे। इसके बाद भी किसी ने महिला को बचाने का प्रयास नहीं किया और न ही किसी ने पुलिस को वारदात की सूचना दी। इतना ही नहीं, सभी पड़ोसी वारदात को देखते रहे और उसका वीडियो बनाते रहे।

पुलिस अधीक्षक ने बताया वीडियो बनाने वालों पर कार्रवाई की जाएगी।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...