ख़बरें

अब सेना कर रही है तब्लीग़ी जमात से जुड़े देश के सबसे बड़े क्वारंटाइन केंद्र का संचालन

तर्कसंगत

Image Credits: Agniban

April 21, 2020

SHARES

भारतीय सेना के डॉक्टरों की एक टीम ने देश के सबसे बड़े कोरोना वायरस क्वारंटाइन केंद्र का संचालन अपने हाथों में ले लिया है।

दिल्ली के नरेला स्थित इस केंद्र में तबलीगी जमात के सदस्यों को रखा गया है और सेना के डॉक्टर सुबह आठ से रात आठ बजे तक अपनी सेवाएं देते हैं। 40 सदस्यों की इस टीम में छह मेडिकल अधिकारी और 18 पैरामेडिकल कर्मचारी शामिल हैं। क्वारंटाइन किए गए लोगों से डॉक्टरों की अच्छी बन रही है।

एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार यह सबसे बड़ा क्वारनटाइन सेंटर है। दिल्ली सरकार के दवाब को कम करने के लिये सेना के 40 लोगो की टीम सुबह 8 बजे से रात के 8 बजे तक रहती है। सेना के डॉक्टरों के पेशेवर तरीके से नरेला में मौजूद कोरोना पॉजिटिव मरीजों और मरकज के लोगों का दिल जीत लिया है। सुबह से लेकर रात के 8 बजे तक यहां सेना के मेडिकल स्टाफ होते हैं पर रात के 8 बजे से सुबह 8 बजे तक दिल्ली सरकार के डॉक्टर और स्टाफ रहते हैं।

नरेला क्वारनटीन सेंटर सेना के हवाले भले हो या हो, लेकिन सिविल (नागरिक सेवा) का रोल बिल्कुल खत्म नहीं किया गया है। इस सेंटर में 1200 से ज्यादा लोग भर्ती हैं जिनमें अधिकांश निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात से जुड़े हैं।

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक सेना के डॉक्टरों की टीम एक अप्रैल से इस क्वारंटाइन केंद्र के संचालन में दिल्ली सरकार की मदद कर रही है और 16 अप्रैल को इस टीम ने केंद्र का दिन का कामकाज अपने हाथों में ले लिया।

मामले पर जारी एक आधिकारिक बयान के अनुसार, “सैन्य मेडिकल टीम का पेशेवर रवैया केंद्र में रह रहे लोगों का दिल जीतने में कामयाब रहा है, जो सेना की टीम के साथ बेहद सहयोगी और सकारात्मक रहे हैं, जिससे सभी मेडिकल प्रक्रियाएं आसानी से हुई हैं।”

इसमें आगे लिखा है, “पूरे कंद्र को चलाने में नागरिक प्रशासन के साथ बेहतरीन तालमेल रहा है। सेना हमारे सभी नागरिकों की सुरक्षा के लिए कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई जारी रखेगी।”

बता दें कि नरेला के इसी क्वारंटाइन केंद्र में रह रहे तबलीगी जमात के दो सदस्यों पर अपने कमरे के बाहर शौच करने के लिए मुकदमा दर्ज किया गया था। ये दोनों उत्तर प्रदेश के बाराबंकी के रहने वाले हैं। इसके अलावा अन्य क्वारंटाइन केंद्रों पर भी तबलीगी जमात के सदस्यों के अभद्र व्यवहार करने के मामले सामने आए हैं। गाजियाबाद में जमातियों के नर्सों के सामने नंगा घूमने पर उन पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) लगाया गया था।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...