सचेत

देश के इन राज्यों में ऑनलाइन आर्डर कर सकते हैं शराब, सोशल डिस्टेंसिंग के पालन न होने के कारण लिया गया फैसला

तर्कसंगत

Image Credits: MH One

May 7, 2020

SHARES

देश में चल रहे लॉकडाउन से बिगड़ी अर्थव्यवस्था को मजबूती देने के लिए राज्य सरकारों की मांग पर केंद्र ने शराब ठेके खोलने की अनुमति दे दी है। इसके बाद जैसे ही शराब के ठेके खोले गए तो वहां लोगों का हुजूम उमड़ा पड़ा। इससे कोरोना वायरस संक्रमण फैलने का खतरा और बढ़ गया।

छत्तीसगढ़

लोगों को छत्तीसगढ़ राज्य विपणन निगम लिमिटेड (CSMCL) की वेबसाइट और मोबाइल ऐप पर पंजीयन कराना होगा। लोग मोबाइल नंबर, आधार कार्ड और पूर्ण पता दर्ज कर पंजीयन करा सकते हैं। पंजीयन OTP के माध्यम से कन्फर्म होगा। इसके बाद ग्राहक को एक अंग्रेजी, एक देशी और एक प्रीमियम शराब दुकान का लिंक दिया जाएगा।

सरकार के आदेश के अनुसार ग्राहक एक बार में पांच लीटर ही शराब का ऑर्डर कर सकते हैं। ग्राहक को मोबाइल या बेवसाइट पर संबंधित शराब दुकान की मूल्य सूची उपलब्ध कराई जाएगी। जिसके जरिए वह शराब ऑर्डर कर सकेगा। ऑर्डर पैक होने के बाद ग्रहक के पास फिर OTP जाएगा। उसके कंफर्म होने के बाद डिलीवरी बॉय उसे लेकर रवाना हो जाएगा। ग्राहक को एक बार की होम डिलीवरी के लिए 120 रुपये अतिरिक्त शुल्क देना होगा।

 पश्चिम बंगाल

पश्चिम बंगाल में शराब की होम डिलीवरी के लिए पश्चिम बंगाल स्टेट बेवरेजेज कॉर्पोरेशन (WBSBCL) ने ई-रिटेल वेबसाइट शुरू की है। ग्राहकों को वेबवाइट पर जाकर पंजीयन कराना होगा। वेबसाइट पर 21 वर्ष से कम आयु के लोग पंजीयन नहीं करा सकेंगे।

पंजीयन के लिए लोगों को मोबाइल नंबर, नाम, पता, आयु, पिन कोड, इमेल, वैकल्पिक मोबाइल नंबर और लैंड मार्क दर्ज करना होगा। वेबसाइट पर पंजीयन OTP के जरिए कंफर्म होगा। पश्चिम बंगाल सरकार के आदेशानुसार राज्य के ग्रीन और ऑरेंज जोन में ही शराब की होम डिलीवरी की जाएगी।

पंजाब

पंजाब में गुरुवार से शराब की ऑनलाइन डिलीवरी शुरू होगी। यहां भी ऑनलाइन शराब मंगलवाने के लिए लोगों को छत्तीसगंढ और पश्चिम बंगाल की तरह ही ऑनलाइन पंजीयन करना होगा। पंजीयन के बाद लोग ऑनलाइन ऑर्डर कर सकेंगे। सरकार के आदेश के अनुसार एक व्यक्ति अधिकतम दो लीटर शराब ही मंगवा सकता है। इसके अलावा शराब की होम ग्रीन और ऑरेंज क्षेत्र में ही की जाएगी। अन्य क्षेत्रों में यह सुविधा नहीं होगी।

दिल्ली

दिल्ली सरकार ने सूची जारी कर दिल्ली में 172 ठेकों को ही खोलने की मंजूरी दी है। बुधवार को लक्ष्मी नगर, विश्वास नगर, कृष्णानगर समेत कई जगहों पर शराब की दुकानें बंद रहीं। सुबह से लाइन में लगे लोग निराश होकर घर लौट गए।
उधर, कल्याणपुरी, संतनगर, मालरोड, आजादपुर समेत 172 दुकानें के बाहर लाइन में लगे लोग सामाजिक दूरी का पालन करते नहीं दिखें। दुकानों के बाहर गोले बनाए गए थे लेकिन यह इंतजाम बेकार साबित हुए। इस वजह से कुछ जगहों पर पुलिस ने हलका बल प्रयोग किया।

भाजपा और CIABC की मांग

प्रदेश भाजपा ने दिल्ली सरकार से ऑनलाइन शराब की बिक्री की मांग की है। पार्टी का कहना है कि सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए ऑनलाइन बिक्री बेहद जरूरी है। साथ ही इससे शराब की तस्करी पर भी रोक लगेगी।

कन्फेडरेशन आफ इंडियन एल्कोहलिक बेवरेज कंपनीज (CIABC) ने दिल्ली सरकार से कहा कि होम डिलीवरी की सुविधा से लोगों को संक्रमण से बचाया जा सकता है। सरकार इस पर विचार कर रही है और जल्द ही कोई निर्णय कर सकती है।

ठेकों पर लोगों की भीड़ को कम करने और अधिक राजस्व जुटाने की उम्मीद से दिल्ली सरकार ने शराब पर 70 प्रतिशत स्पेशल कोरोना फीस के नाम से टैक्स लगा दिया। आंध्र प्रदेश सरकार ने शराब पर 75 प्रतिशत, हरियाणा ने शराब की बोतलों पर 2 से 50 रुपये तक अतिरिक्त सेस और उत्तर प्रदेश सरकार ने एक बोतल पर पांच से 400 रुपये तक सेस लगाने की घोषणा कर दी। इसके बाद भी लोगों की भीड़ नहीं थमी है।

महाराष्ट्र में भी शराब बेचने की इजाज़त मिलने के बाद लोगों में कोरोना संक्रमण का कोई डर नजर नहीं आया और सोशल डिस्टैंसिंग की खुलकर धज्जियां उड़ाई गई। जिसके बाद सरकार ने शराब के बिक्री पर रोक लगायी।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...