ख़बरें

देखिये आंध्र प्रदेश में डॉक्टर की सरेआम पुलिस द्वारा पिटाई, पुलिस से बुरे बर्ताव का आरोप

तर्कसंगत

Image Credits: Outlook/Navbharat Times

May 18, 2020

SHARES

आंध्र प्रदेश के विजाग में पुलिस द्वारा एक डॉक्टर को घसीट कर बुरी तरह पीटने का मामला सामने आया है. इसे लेकर सोशल मीडिया पर कुछ वीडियो वायरल हो रहे हैं. डॉक्टर का नाम के. सुधाकर है.

बता दें कि जिस डॉक्टर की पिटाई हुई उन्हें पिछले महीने सस्पेंड कर दिया गया था. उन्होंने अस्पतालों में पीपीई किट और मास्क की कमी को लेकर विरोध जताया था.

विजाग पुलिस ने आरोप लगाया है कि डॉक्टर ने शराब पी रखी थी और पुलिस के साथ बुरा बर्ताव किया था.

पुलिस कमिश्नर आरके मीणा ने हिंदुस्तान टाइम्स से कहा, ‘सुधाकर नशे की हालत में थे और उन्होंने पुलिस के साथ बुरा व्यवहार किया. उन्होंने एक कॉन्स्टेबल से मोबाइल फोन छीन लिया और उसे फेंक दिया. स्पष्ट रूप से वे कुछ मनोवैज्ञानिक समस्याओं से पीड़ित हैं.’

मीणा ने यह भी कहा कि सुधाकर को अब मेडिकल जांच के लिए भेजा गया है, जिसके बाद डॉक्टर के खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा.

पुलिस कमिश्नर आरके मीणा ने बताया कि पुलिस कंट्रोल रूम को एक शिकायत मिली. इसमें बताया गया कि एक व्यक्ति हाइवे पर हंगामा कर रहा है. इस पर फॉर्थ टाउन थाना पुलिस को भेजा गया. वहां पर हंगामा करने वाले व्यक्ति की पहचान डॉ. सुधाकर के रूप में हुई. उन्होंने शराब पी रखी थी. उन्होंने पुलिसवालों के साथ बदतमीजी की. एक कॉन्स्टेबल से उन्होंने मोबाइल छीन लिया और उसे सड़क पर फेंक दिया.

मुंबई मिरर की एक रिपोर्ट के मुताबिक सुधाकर को मेडिकल जांच के लिए किंग जॉर्ज अस्पताल ले जाया गया था.

अस्पताल ने अपने बयान में कहा, ‘डॉ. सुधाकर को शाम 6.30 बजे केजीएच कैजुअल्टी वार्ड में लाया गया था. गंध से पता चला कि वह नशे की हालत में थे. शराब के कारण वे हमारा सहयोग नहीं कर सके और सभी को गालियां देते रहे. फिर भी उनकी नब्ज, बीपी चेक की गई. पल्स 98, बीपी 140/100 था. अल्कोहल की मात्रा का पता लगाने के लिए ब्लड सैंपल को फॉरेंसिक लैब भेजा गया था.’

इस घटना का वीडियो, मौके पर मौजूद लोगों ने बना लिया. इसमें दिख रहा है कि डॉ. सुधाकर को पकड़ने के दौरान एक पुलिसवाला डंडे मार रहा है. बाद में उन्हें एक ऑटो में बैठाकर थाने भेज दिया गया.

द न्यूज मिनट के अनुसार पुलिस कमिश्नर ने यह भी कहा कि सुधाकर की पिटाई करने वाले पुलिस कॉन्स्टेबल को निलंबित कर दिया गया है. पीपीई किट की कमी की शिकायत के बाद आंध्र प्रदेश सरकार ने सुधाकर को पिछले महीने निलंबित कर दिया था.

उन्होंने एक वीडियो में कहा था, ‘हमें कहा गया है कि एक मास्क को 15 दिन इस्तेमाल करने के बाद नया मास्क मांगे. हम अपने जीवन को खतरे में डालकर मरीजों का इलाज कैसे कर सकते हैं?’

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...