ख़बरें

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से बढ़ सकता है विमानों का किराया

तर्कसंगत

Image Credits: indianexpress/amarujala

May 26, 2020

SHARES

विदेश से भारतीयों को वापस ला रहे एयर इंडिया के विमानों को अगले 10 दिन के बाद अपने विमानों में बीच की सीट खाली छोड़नी होगी। एक याचिका पर सुनवाई करते हुए सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने ये आदेश दिया।

 

‘वंदे भारत’ मिशन

कोरोना वायरस संकट के कारण विदेशों में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए भारत सरकार ने ‘वंदे भारत’ मिशन चलाया हुआ है,एयर इंडिया के इन विशेष विमानों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए बीच की सीट को खाली नहीं छोडा जा रहा है और सबी सीटों पर यात्री बैठकर आते हैं।

पायलट की याचिका

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक़ एयर इंडिया के एक पायलट देवन योगेश कणाणि ने मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी। अपनी याचिका में उन्होंने कहा था कि 7 मई से चलाई जा रहे अपने विशेष विमानों में एयर इंडिया नागर विमानन महानिदेशालय (DGCA) के 23 मार्च के सर्कुलर में दिए गए बीच की सीट खाली रखने के आदेश का पालन नहीं कर रही है।

हाई कोर्ट ने एयर इंडिया को बीच की सीट खाली छोड़ने का आदेश दिया था।

सुप्रीम कोर्ट गयी सरकार

एयर इंडिया और केंद्र सरकार बॉम्बे हाई कोर्ट के इस आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए और उससे मामले पर तत्काल सुनवाई करने की मांग की। हिंदुस्तान टाइम्स के रिपोर्ट के अनुसार मामले पर सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश (CJI) एसए बोबड़े ने एयर इंडिया से कहा, “ये सामान्य समझ है कि सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना महत्वपूर्ण है। बाहर कम से कम छह फुट की सोशल डिस्टेंसिंग होनी चाहिए, लेकिन विमानों के अंदर क्या?”

एयर इंडिया और सरकार की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि सीट खाली छोड़ना नहीं बल्कि टेस्टिंग और क्वारंटाइन कोरोना वायरस को रोकने का सबसे अच्छा तरीका है। उन्होंने कहा कि विशेषज्ञों से सलाह लेने के बाद सीट खाली नहीं छोड़ने का फैसला लिया गया है। इस पर CJI ने कहा, “आप कैसे कह सकते हैं कि इससे यात्रियों को कोई नुकसान नहीं होगा? अगर आप एक-दूसरे के पास बैठे हो तो ट्रांसमिशन होगा।”

6 जून के बाद बीच की सीट बुक नहीं होगी

मेहता ने जब कोर्ट को बताया कि 6 जून तक की फ्लाइट की बुकिंग कर ली गई है तो सुप्रीम कोर्ट ने इसके बाद बीच की सीट की बुकिंग नहीं करने का आदेश दिया। घरेलू उड़ानों में भी बीच की सीट को खाली नहीं छोड़ा जा रहा है और इस कारण सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का असर इन घरेलू उड़ानों पर भी पड़ सकता है। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी बीच की सीट खाली छोड़े जाने की संभावना से इनकार कर चुके हैं। उनका कहना है कि ऐसा करने पर हवाई किराए आसमान पर पहुंच सकते हैं।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...