ख़बरें

कोरोना संकट: हरियाणा में फाइनल ईयर एमबीबीएस छात्र भी ड्यूटी पर तैनात होंगे

तर्कसंगत

Image Credits: TribuneIndia/India.com

June 23, 2020

SHARES

हरियाणा सरकार ने कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच डॉक्टरों की कमी पूरी करने के लिए एक अहम फैसला लिया है। इस फैसले के तहत राज्य के सभी सरकारी और निजी मेडिकल कॉलेज में पढ़ने वाले अंतिम वर्ष के एमबीबीएस छात्रों को ड्यूटी पर तैनात किया जाएगा।

प्रदेश सरकार ने ऐसे 1100 विद्यार्थियों को अस्पतालों में तैनात करने का निर्णय लिया, जो इस समय विभिन्न कालेजों में एमबीबीएस फाइनल के विद्यार्थी हैं। दरअसल कोरोना के बढ़ते मामलों ने राज्य सरकार कि चिंता बढ़ा दी है। प्रदेश के अस्पतालों में पहले से ही डाक्टरों की कमी है। ऐसे में आने वाले दिनों में कोरोना पॉजिटिव तथा संदिग्धों की संख्या बढ़ने की प्रबल संभावना है। इस ख़तरे को देखते हुए प्रदेश की हाईपावर कमेटी की सिफारिशों पर सरकार ने पिछले दिनों एमबीबीएस विद्यार्थियों की सेवाएं लेने का फैसला किया था. जिसे आज से लागू किया गया है।

ये सभी छात्र अपने अपने संबंधित जिलों के सिविल सर्जनों को रिपोर्ट करेंगे। सूचना के अनुसार, सरकार ने फैसला किया है कि राज्य के सभी सरकारी और निजी मेडिकल कॉलेजों के सभी अंतिम वर्ष के एमबीबीएस छात्रों को तत्काल प्रभाव से स्वास्थ्य विभाग में प्रतिनियुक्त किया जाएगा। मेडिकल कॉलेजों और सिविल सर्जनों के निदेशक यह सुनिश्चित करेंगे कि छात्रों को सभी आवश्यक प्रशिक्षण प्रदान किए जाएं। आदेश के अनुसार, छात्रों को 22 जून तक संबंधित सिविल सर्जनों को रिपोर्ट करने के लिए कहा गया। अत: आज से यह प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

हरियाणा में कोरोना मरीजों की संख्या 11025 पहुंच गई है. सोमवार को प्रदेश में 74 नए मरीज आए। वहीं प्रदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या 169  पहुंच गई है। हरियाणा में अब कुल 4991 एक्टिव मरीज मौजूद हैं। 63 मरीज ऑक्सीजन पर सांस ले रहे हैं तो 13 मरीज वेंटिलेटर पर है। हरियाणा में कोरोना को मात देने वालों का आंकड़ा 5916  हो गया है जिसके बाद प्रदेश में रिकवरी रेट 51.89 फीसदी पर पहुंच गया है और अब 12 दिन में मरीज दोगुने हो रहे हैं।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...