ख़बरें

भारत में लॉन्च हुई दुनिया की सबसे सस्ती कोरोना जांच किट

तर्कसंगत

Image Credits: DNA India

July 16, 2020

SHARES

भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी होती जा रही है। इसकी जांच की कीमत अधिक होने के कारण हर इंसान जांच नहीं करा पा रहा है, लेकिन अब एक राहत की खबर आ गई है।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के अनुसार IIT दिल्ली द्वारा दुनिया की सबसे सस्ती कोरोना जांच किट तैयार की गई है और बुधवार को केंद्रीय मानव संसाधन विकास (HRD) मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक और राज्य मंत्री (HRD) संजय धोत्रे इसे लॉन्च भी कर दिया है।

इसके साथ ही आईआईटी दिल्ली, कोविड-19 परीक्षण पद्धति विकसित करने वाला पहला शैक्षणिक संस्थान बन गया। इस संस्थान ने कंपनियों को परीक्षण का व्यवसायीकरण करने के लिए लाइसेंस दिया है। संस्थान ने 500 रुपये प्रति किट का मूल्य रखा है, लेकिन कंपनी न्यूटेक मेडिकल डिवाइसेस, जो बुधवार को ‘कोरोसेट’ नाम की किट लॉन्च कर रही है।

जांच किट की लॉन्चिग के दौरान कोरोश्योर के प्रबंध निदेशक जतिन गोयल ने बताया कि इस जांच किट की कीमत करीब 650 रुपये रखी है। निश्चित रूप से यह दुनिया की सबसे सस्ती कोरोना वायरस जांच किट है।

IIT दिल्ली के निदेशक रामगोपाल राव ने कहा कि उनके संस्थान की तकनीक का उपयोग करने वाली न्यूटेक मेडिकल की इस जांच किट के जरिए प्रति माह 20 लाख लोगों की जांच की जा सकती है। इससे लोगों को लाभ मिलेगा।

IIT दिल्ली की टीम के अनुसार वर्तमान में उपलब्ध जांच के तरीके प्रोब-आधारित हैं, जबकि उनके द्वारा विकसित यह तरीका ‘प्रोब-फ्री’ है। इसमें सटीकता के साथ कोई समझौता किए बिना जांच की लागत बेहद कम हो जाती है।

देश के सरकारी अस्पतालों और लैब्स में कोरोना की मुफ्त जांच की जाती है, जबकि निजी अस्पताल और लैब्स में अब जांच की कीमतों को निर्धारित कर दिया गया है।

पूर्व में निजी अस्पताल और लैब्स में जांच के लिए 4,000 से 5,000 रुपये खर्च करने पड़ते थे। इससे हर आदमी जांच को करने में सक्षम नहीं था। इसको देखते हुए सभी राज्य सरकारों ने अपने-अपने यहां निजी अस्पताल और लैब्स में जांच की कीमत 2,000-2,500 निर्धारित कर दी है।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) और ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) की देखरेख में इस टेस्टिंग किट को लॉन्च किया गया है। ऐसी उम्मीद है कि इस टेस्टिंग किट से देश में जांच की रफ्तार बढ़ जाएगी।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...