सप्रेक

दुबई अस्पताल ने भारतीय मरीज़ के साथ जो किया है वो हमारे अस्पतालों के लिए एक सीख है

तर्कसंगत

Image Credits: Indian Express

July 17, 2020

SHARES

कोरोना वायरस की वजह से बहुत से लोग अस्पतालों में भर्ती हैं। सरकारी अस्पताल में भीड़ है। जबकि प्राइवेट हॉस्पिटल्स की फीस इतनी है कि गरीब उसमें जाने की सोच भी नहीं सकता। ऐसे में दुबई की एक खबर ने कई अस्पतालों को इंसानियत का पाठ पढ़ाया है! दरअसल, दुबई के एक अस्पताल ने तेलंगाना के एक कोरोना मरीज का ना सिर्फ ट्रीटमेंट किया, बल्कि उसका 1.52 करोड़ रुपये का पूरा बिल भी माफ कर दिया। और हां, शख्स को फ्लाइट की मुफ्त टिकट और 10 हजार रुपये देकर वापस भारत भी भेजा।

 

80 दिनों तक भर्ती थे अस्पताल में

रिपोर्ट के मुताबिक, तेलंगाना के जगीताल के रहने वाले 42 वर्षीय ओदनला राजेश को कोरोना पॉजिटिव होने के बाद 23 अप्रैल को दुबई के अस्पताल में भर्ती कराया गया। करीब 80 दिनों तक उनका इलाज चला और वह दुरुस्त हो गए। इसके बाद अस्पताल से उन्हें छुट्टी मिली और उनका बिल 7,62,555 दिरहम (1 करोड़ 52 लाख रुपये) बना, जिसे चुकाना उनके लिए काफी मुश्किल था।

 

राजदूत ने की गरीब की मदद

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक दुबई में ‘गल्फ वर्कर्स प्रोटेक्शन सोसाइटी’ के अध्यक्ष गुंदेली नरसिम्हा राजेश के संपर्क में थे। असल में वही राजेश को अस्पताल ले गए थे। उन्होंने बिल का मामला दुबई में भारतीय वाणिज्य दूतावास के अधिकारी सुमनाथ रेड्डी के सामने रखा। फिर राजदूत हरजीत सिंह ने दुबई के अस्पताल प्रबंधन को एक चिट्ठी लिखी और मानवीय आधार पर उस गरीब का बिल माफ करने की गुजारिश की।

 

अस्पताल ने दिखाई दरियादिली

अस्पताल ने सकारात्मक रवैया दिखाया और मानवता के नाते राजेश का पूरा बिल माफ कर दिया। साथ ही, राजेश और उनके एक साथी को भारत जाने के लिए एयर इंडिया का फ्री टिकट और जेब खर्च के लिए 10,000 रुपये भी दिए। मंगलवार रात को राजेश अपने वतन लौटे, जहां अधिकारियों ने उनका स्वागत किया। फिलहाल राजेश को 14 दिनों के लिए होम क्वारंटीन किया गया है।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...