ख़बरें

सरकारी सर्वे रिपोर्ट: दिल्ली में हर चौथा व्यक्ति कोरोना मरीज, 23 प्रतिशत से अधिक आबादी कोरोना के चपेट में

तर्कसंगत

Image Credits: ABP

July 21, 2020

SHARES

दिल्ली में कोरोना के नए मामलों में बड़ी गिरावट आई है। 24 घंटे में 954 नए केस आए हैं। दिल्ली के एम्स में चल रहे कोरोना वैक्सीन के मानव परीक्षण के नतीजे 2 से 3 महीने में आने की उम्मीद है। तो वहीं एक सर्वे ने दिल्ली को लेकर बहुत बड़ा खुलासा किया है।

राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र के सर्वे में ये बात सामने आई है। सर्वे से साफ है कि दिल्ली की एक बड़ी जनसंख्या पर अभी भी कोरोना वायरस से संक्रमित होने का खतरा बना हुआ है और उन्हें सावधानी बरतने की जरूरत है।

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक सर्वे के दौरान जो स्टडी की गई है, उसके मुताबिक दिल्ली में एंटीबॉडी के मामले करीब 23.48 फीसदी हैं। यानी इतने लोग कोरोना वायरस की चपेट में है। इसके अलावा दिल्ली में जितने भी केस सामने आए हैं, उनमें अधिकतर बिना किसी लक्षण वाले थे।

कोरोना वायरस के प्रसार का पता लगाने के लिए NCDC ने 27 जून से 10 जुलाई के बीच दिल्ली में सिरोलॉजिकल सर्वे किया था। इसके तहत शहर के सभी 11 जिलों से 21,387 लोगों का ब्लड सैंपल लिया गया और एलिसा टेस्ट के जरिए ये देखा गया कि उनमें कोरोना वायरस की एंटी-बॉडीज हैं या नहीं।

सर्वे पर बयान जारी करते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, “महामारी के छह महीनों में घनी आबादा के कई क्षेत्रों वाली दिल्ली के केवल 23.48 प्रतिशत लोग प्रभावित हुए हैं। इसके लिए संक्रमण को फैेलने से रोकने के लिए सरकार द्वारा उठाए गए सक्रिय कदमों जैसे कि लॉकडाउन, प्रभावी रोकथाम और कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग और ट्रेकिंग आदि निगरानी प्रयासों के साथ-साथ नागरिकों द्वारा कोरोना वायरस संबंधी नियमों का पालन जिम्मेदार रहा।”

जून के अंत में स्थिति खराब होने के बाद पिछले दो हफ्ते में दिल्ली की स्थिति में सुधार हुआ है और रोजाना नए मामलों के मुकाबले ज्यादा मरीज ठीक हो रहे हैं।

यहां अब तक 1,23,747 मामले सामने आए हैं और 3,663 मरीजों की मौत हुई है। वहीं कुल 1,04,918 मरीज ठीक हो चुके हैं और उसकी रिकवरी रेट 84.78 प्रतिशत है।

AIIMS प्रमुख डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि दिल्ली में कोरोना वायरस का संक्रमण चरम पार कर चुका है। उन्होंने कहा, “अगर आप दिल्ली के आंकड़ें देखें तो पता चलता है कि यहां कर्व फ्लैट हो रहा है और यह नीचे की तरफ आ रहा है। इसलिए ऐसा संभव है कि दिल्ली में संक्रमण अपने चरम पर पहुंचकर नीचे आ रहा है, लेकिन दूसरे शहरों और अमेरिका आदि को देखते हुए अभी सावधानी बरतने की जरूरत है।

 

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...