ख़बरें

भारत ने चीन की कार्रवाई के मद्देनज़र दौलत बेग ओल्डी में तैनात किए टी-90 टैंक

तर्कसंगत

Image Credits: Asia Times

July 27, 2020

SHARES

वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीन के साथ तनाव के बीच भारत ने रणनीतिक तौर पर महत्वपूर्ण काराकोरम पास के पास टी-90 मिसाइल टैंक तैनात कर दिए हैं। इन टैंकों को दौलत बेग ओल्डी (DBO) में तैनात किया गया है।

इसके अलावा इलाके में 4,000 जवानों की सेना की एक पूरी बिग्रेड और बख्तरबंद वाहनों को भी तैनात किया गया है।

चीन के अक्साई चिन में लगभग 50,000 जवान तैनात करने के बाद भारत ने ये तैनाती की है।

काराकोरम पास पर कब्जे की कोशिश के किसी भी मंसूबों को नाकाम करने के लिए भारत ने अपने अतिरिक्त सैनिक और टी-90 टैंक DBO भेजे हैं। शीर्ष सैन्य कमांडरों ने ‘हिंदुस्तान टाइम्स‘ को ये जानकारी दी।

चूंकि दुरबुक-श्योक-DBO सड़क के पुल 46 टन वजनी टी-90 टैंकों का वजन नहीं सह सकते, इसलिए विशेष उपकरणों के जरिए उन्हें नदी और नाले पार कराए गए हैं।

पूर्वी लद्दाख में लगभग 18,000 फुट की ऊंचाई पर स्थित काराकोरम पास भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम है। काराकोरम में भारत के लद्दाख और चीन के जिनजियांग प्रांत की सीमाएं लगती हैं।

जिनजियांग से पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) जाने वाला चीन का हाईवे इसके पास से गुजरता है और सियाचिन की चोटियां भी इसके पास ही स्थित हैं। इलाके में ये एकमात्र ऐसी जगह है जिस पर भारत का अधिकार है।

काराकोरम पास के पास ही DBO में भारत की अंतिम पोस्ट है और भारत ने जहां एक हवाई पट्टी बना रखी है जो दुनिया की सबसे ऊंची हवाई पट्टी है। भारत ने लेह के दुरबुक से लेकर DBO तक एक सड़क भी बनाई है। चीन की लंबे समय से DBO और काराकोरम पास पर बुरी नजर रही है और भारत के सड़क निर्माण का उसने जमकर विरोध किया है। मौजूदा तनाव का एक कारण ये सड़क भी है।

भारत ने ये तैनाती ऐसे समय पर की है जब LAC से सैनिक पीछे हटाने पर बनी सहमति पर चीन वादाखिलाफी कर रहा है।

खबरों के अनुसार, चीन ने गलवान घाटी और हॉट स्प्रिंग में तो अपने सैनिक पीछे हटा लिए हैं, लेकिन देपसांग प्लेन्स, गोगरा और पेंगोंग झील के फिंगर्स एरिया में उसके सैनिक अभी भी बने हुए हैं।

फिंगर्स एरिया और देपसांग प्लेन्स में तो चीनी सैनिक भारतीय इलाके में बैठे हुए हैं।

अपने विचारों को साझा करें

संबंधित लेख

लोड हो रहा है...